Aryan Khan Drug Case: देवेंद्र फडणवीस ने फोड़ा बम; दाऊद इब्राहिम और मुंबई ब्लास्ट से नवाब मलिक का कनेक्शन

मुंबई: Aryan Khan Drug Case मामले में 9 नवंबर को बड़ा धमाका हुआ है। इस मामले में लगातार आक्रामक रहे महाराष्ट्र सरकार में कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक ने पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस(Devendra Fadnavis) पर ड्रग माफ़िया होने का आरोप लगाया था। फडणवीस ने 9 नवंबर की दोपहर को इसका जवाब दिया। उन्होंने नवाब मलिक के अंडरवर्ल्ड से रिश्तों का सनसनीखेज़ खुलासा किया है। फडणवीस ने कहा कि यह मामला राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा है। नवाब मलिक ने दाऊद इब्राहिम के गैंग से ज़मीनी ख़रीदें। ये ज़मीनें मुंबई में ब्लास्ट करने के आरोपियों की हैं। बता दें कि फडणवीस ने कहा था कि वे दिवाली के बाद बम फोड़ेंगे। इस बीच नवाब मलिक ने भी कहा है कि फडणवीस की प्रेस कान्फ्रेंस के बाद वे भी बड़ा खुलासा करेंगे। ख़बर लगातार अपडेट हो रही है

मुंबई बम ब्लास्ट के आरोपी से ख़रीदीं ज़मीनें

नवाब मलिक के रिश्तेदार ने मुंबई ब्लास्ट के आरोपी सलीम से कुर्ला में 2003 में 3 एकड़ ज़मीन ख़रीदीं। महंगी ज़मीनें सिर्फ़ 20 लाख में ख़रीद गईं। फडणवीस ने कहा कि नवाब मलिक की कंपनी ने उन लोगों से ज़मीन खरीदी हैं, जो 1993 के मुंबई ब्लास्ट के आरोपी है। यह ज़मीनें दाऊद इब्राहिम से जुड़ी हैं। मुंबई के गुनाहगारों से ज़मीनें क्यों ख़रीदीं? नवाब मलिक ने 5 ऐसी ज़मीनें ख़रीदीं, जिनमें से 4 में 100 प्रतिशत अंडरवर्ल्ड से जुड़ी हैं। ये सारे सबूत मेरे पास हैं। ये सबूत जांच एजेंसियों के अलावा NCP के लीडर शरद पवार को भी दिए जाएंगे, ताकि उन्हें पता चले कि उनके मंत्रियों ने क्या गुल खिलाए हैं।

फडणवीस ने लगाए गंभीर आरोप

फडणवीस ने कहा कि वो जो बता रहे हैं, वो न सलीम-जावेद की स्टोरी है और पिक्चर की कोई स्टोरी। यह राष्ट्र की सुरक्षा से जुड़ा मामला है। यह मामला 1993 के मुंबई बम ब्लास्ट से जुड़ा है। फडणवीस ने जिस शहाब वली ख़ान का ज़िक्र किया, वो 1993 के बम ब्लास्ट का आरोपी था। वो मुंबई बम ब्लास्ट के मास्टरमाइंड टाइगर मेमन के लिए काम करता था। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज और मुंबई महानगरपालिका में बम कहां रखे जाने थे, वली शाह ने ही इसकी साज़िश रची थी। टाइगर मेमन के घर गाड़ियों में जो आरडीएक्स भरा गया, उसमें भी सरदार शहाब वली ख़ान शामिल था।

फडणवीस ने दूसरे आदमी मोहम्मद सलीम पटेल का ज़िक्र किया। यह दाऊद इब्राहिम के लिए काम करता है। यह दाऊद की बहन हसीना पारकर का ड्राइवर था। हसीना पारकर को जब अरेस्ट किया गया, तब सलीम पटेल भी पकड़ा गया था। दाऊद के भागने के बाद हसीना पारकर के नाम पर प्रापर्टी जमा होती रहीं। इनकी पॉवर ऑफ़ अटार्नी सलीम पटेल के नाम थी। सलीम ही दाऊद के लिए वसूली करता था।

मुंबई ब्लास्ट के आरोपी से खरीदी मलिक ने ज़मीन

देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि सलीम पटेल की कुर्ला में तीन एकड़ ज़मीन यानी एक लाख तेइस हज़ार स्क्वायर फुट की ज़मीन है। सलीम पटेल और शहाब वली ख़ान ने मिलकर यह ज़मीन नवाब मलिक के परिवार को बेची। जिस ज़मीन की क़ीमत साढ़े तीन करोड़ रुपए है, उसे सिर्फ़ 20 लाख रुपए में ख़रीदा गया, ताकि स्टांप ड्यूटी बचाई जा सके। मलिक ने जिससे ये ज़मीन खरीदी, वो टाडा के तहत आरोपी है। फडणवीस ने कहा कि टाडा के आरोपियों की संपत्ति सरकार ज़ब्त करती है, इसलिए नवाब मलिक ने ये ज़मीन ख़रीद ली। ये ज़मीन फराज मलिक के नाम से खरीदी गई है जो मलिक का रिश्तेदार है।

समीर वानखेड़े के परिवार ने मांगा राज्यपाल से मिलने का वक़्त

समीर वानखेड़े के परिवार ने राज्यपाल से मिलने का समय मांगा है। समीर की पत्नी क्रांति रेडकर और पिता ज्ञानदेव वानखेड़े राज्यपाल से मिलना चाहते हैं। इस बीच महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वलसे के घर महत्वपूर्ण बैठक हुई। इसमें NCP चीफ़ शरद पवार और मुंबई पुलिस कमिश्नर हेमंत नगराले मौजूद थे।

मलिक ने कहा था कि फडणवीस करते हैं ड्रग्स का धंधा

Aryan Khan Drug Case केस में लगातार नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) को घेरते आ रहे NCP लीडर नवाब मलिक ने दिवाली से कुछ दिन पहले एक चौंकाने वाला बयान दिया था। उन्होंने महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर ड्रग्स पैडलर के साथ रिश्ते होने का आरोप लगाया था। इसके बाद फडणवीस ने कहा था कि वे दिवाली बाद बम फोड़ेंगे। यानी इन आरोपों का जवाब देंगे। नवाब मलिक के संबंध अंडरवर्ल्ड से हैं। इसके सबूत वे मीडिया को देंगे। मलिक ने केन्द्रीय मंत्री रामदास आठवले और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के उपाध्यक्ष अरुण हलदर के समीर वानखेड़े के परिवार से मिलने पर भी सवाल उठाए थे?

देवेंद्र फडणवीस पर कई गंभीर आरोप लगाए थे

नवाब मलिक ने कहा था कि काशिफ ख़ान जैसे ड्रग पैडलर को छोड़ दिया गया। ड्रग पेडलर को बचाने के लिए ही फडणवीस समीर वानखेड़े को लाए थे। महाराष्ट्र में देवेन्द्र फडणवीस के संरक्षण में ही ड्रग्स का पूरा खेल चल रहा है। मलिक ने इस मामले की जांच केन्द्रीय जांच एजेंसी (CBI) से कराने की मां उठाते हुए कहा कि प्रतीक गाबा और नीरज मुंडे से देवेन्द्र फडणवीस के रिश्ते हैं।

समीर वानखेड़े के पिता ने दर्ज़ कराई शिकायत

इधर, नवाब मलिक के आरोपों से नाराज़ समीर वानखेड़े (Sameer Wankhede) के पिता ध्यानदेव वानखेड़े (Dhyandev Wankhede) ने मलिक के ख़िलाफ़ मानहानि का मुक़दमा ठोक दिया है। इसके साथ ही पुलिस में भी शिकायत दर्ज़ कराई है। ध्यानदेव वानखेड़े ने 8 नवंबर को अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत उनके परिवार की जाति के बारे में झूठे आरोप लगाने के लिए मलिक के ख़िलाफ़ मुंबई (Mumbai) में ओशिवारा डिवीजन के सहायक पुलिस आयुक्त के पास अपनी शिकायत की है। ध्यानदेव का कहना है कि मलिक ने उनके परिवार की जाति को लेकर झूठा और अपमानजनक बयान दिया है। समीर के पिता ने कहा कि समीर वानखेड़े के पिता ने अपनी शिकायत में आगे कहा, ‘आरोपी के ख़िलाफ़ अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण), अधिनियम 1989 की धारा 3 और भारतीय दंड की धारा 503, 508, 499, संहिता 1860 और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम 2000 की धारा 66ई के तहत के प्राथमिकी दर्ज़ कर की जाए।

मानहानि का केस भी दर्ज़ कराया

समीर के पिता ने बॉम्बे हाईकोर्ट का रूख करके नवाब मलिक के ख़िलाफ़ मानहानि(defamation) का केस भी दर्ज़ कराया है। ध्यानदेव वानखेड़े के वकील अर्शद शेख ने कहा कि नवाब मलिक वानखेड़े के परिवार को फ्रॉड कह रहे हैं। उनके धर्म और जाति पर सवाल उठा रहे हैं। वे उनकी बेटी यास्मीन का करियर बर्बाद कर रहे हैं। यास्मीन क्रिमिनल लॉयर है। वो नारकोटिक्स केस में वकालत नहीं करती।

Leave a Comment