आजाद पार्षद और एस.ओ.आई की नेता की शिरोमणी अकाली दल में हुई वापसी


चंडीगढ़, 2 अगस्त (The News Air)

पूर्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया ने आज नवनियुक्त प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिद्धू से कहा है कि वे पंजाबियों को बताएं कि वह राज्य के खजाने में हुई सरेआम के लिए शराब और रेत माफिया को जिम्मेदार ठहराने के बजाय उनका बचाव क्यों कर रहे हैं।

शिरोमणी अकाली दल के नेता यहां एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आए थे, जिसमें निर्दलीय पार्षद निर्मल कौर और एसओआई की पूर्व नेता सिमरन ढ़िल्लों का पार्टी में वापसी का स्वागत किया। उन्होने ढ़िल्लों परिवार को उचित सम्मान और मान्यता देने का आश्वासन दिया और कहा कि उनकी अकाली दल में वापसी से पार्टी मजबूत होगी। इस अवसर पर यूथ अकाली दल के अध्यक्ष सरदार परमबंस सिंह रोमाणा और स्टूडेंटस आग्रेनाइजेशन आफ इंडिया (एसओआई) के अध्यक्ष राबिन बराड़ तथा एस.ओ.आई के सरंक्षक भीम वड़ैच भी मौजूद थे।

बिक्रम सिंह मजीठिया ने कहा कि नवजोत सिद्धू ने जिस तरह से रेत और शराब माफिया को गले लगाया है, वह निंदनीय है, खासकर तब जब उन्होने पहले उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। ‘‘ माफिया और उन्हे सरंक्षण देने वालों जिसमें मदन लाल जलालपुर, हरदयाल कंबोज और गुरकीरत सिंह कोटली , जोकि अब सिद्धू के सबसे बड़े समर्थक हैं। माफिया ने चंडीगढ़ में प्रदेश कांग्रेस कार्यालय चलाने की जिम्मेदारी भी ली है, यही कारण है कि अब हम सिद्धू को कांग्रेस की तरफ से माफिया नेताओं के प्रति आभार व्यक्त करते देख रहे हैं’’।

कांग्रेस सरकार द्वारा मजदूरों और भूमिहीन किसानों के लिए खेती कर्जा माफी योजना के तहत 590 करोड़ रूपये की कर्जा माफी की घोषणा के बारे जब सवाल किया गया तो सरदार मजीठिया ने कहा कि यह घोषणा पहले ही गलत साबित हो रही है। उन्होने कहा कि इससे पहले भी सरकार पहले से ही कई शर्तें लेकर आई है, जिससे 2.85 लाख लाभार्थियों को अयोग्य घोषित कर दिया जाएगा । ‘‘सरकार योजना लेकर आई है कि लाभार्थी को एक भी पैसा न चुकाना हो तथा अन्य योजना की शर्तें कागज पर अंकित की गई हैं। यह केवल एक धोखा है , जो राज्य में कांग्रेस पार्टी की सरकार बनने के साढ़े चार साल बाद लोगों की आंखों में धूल झोंकी जा  रही है’’।

इससे पहले आम आदमी पार्टी के प्रमुख अरविंदर केजरीवाल के बारे में बोलते हुए सरदार मजीठिया ने उन्हे ‘सर्कस का खिलाड़ी ’ बताया। उन्होने कहा कि केजरीवाल ने पंजाब के लोगों के संवेदनशील मुददों के बारे दोहरे मापदंड अपनाकर स्वयं का उजागर कर दिया है। उन्होने कहा कि इससे पहले आप प्रमुख ने पंजाब में सतलुज यमुना लिंक (एसवाईएल) मुददे पर घड़ियाली आंसू बहाए थे, लेकिन वापिस जाकर अदालत में हलफनामा देकर पंजाब का पानी दिल्ली और हरियाणा में उपलब्ध कराने की मांग की थी। ‘‘ केजरीवाल ने थर्मल प्लांटो को भी बंद करने के लिए शीर्ष अदालत में मामला शुरू करने के अलावा, पराली जलाने वाले किसानों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किए जाने की मांग की थी’’।

आम आदमी पार्टी द्वारा किए गए वादों के बारे में पूछे जाने पर अकाली नेता ने कहा कि दिल्ली में लोगों को 200 यूनिट प्रति बिल चक्र की शर्त से सब्सिडी मिल रही है, जो कुल 1000 करोड़ रूपये की  राशि थी। इसके विपरीत सरदार परकाश सिंह बादल की सरकार के दौरान 10,600 करोड़ रूपये की सब्सिडी दी गई थी।


Leave a Comment