पटाखों के इस्तेमाल पर पूरी तरह नहीं बैन, सुप्रीम कोर्ट ने कही ये बड़ी बात

नई दिल्ली, 29 अक्टूबर (The News Air)
दिवाली को रोशनी का त्योहार कहा जाता है और इस दौरान लोग अपने बच्चों के साथ जमकर आतिशबाज़ी भी करते हैं. हालांकि पटाखे छोड़ने से पर्यावरण को काफ़ी नुक्सान होता है और ऐसे में इस पर कई राज्यों में हर दिवाली पर बैन भी लगाया जाता है. लेकिन इस बार सुप्रीम कोर्ट ने साफ़ कर दिया है कि पटाखों पर किसी तरह की पाबंदी नहीं है. अदालत की ओर से पटाखों को क्लासिफाई किया गया है और बताया गया कि किस तरह के पटाखों पर बैन लगा हुआ है.

पटाखों पर पूर्ण पाबंदी नहीं

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि किसी भी अथॉरिटी को हमारे निर्देशों के उल्लंघन की इजाज़त नहीं दी जा सकती है और उत्सव की आड़ में प्रतिबंधित पटाखों के इस्तेमाल की इजाज़त नहीं है. कोर्ट ने कहा कि पटाखों के इस्तेमाल पर पूर्ण प्रतिबंध नहीं है, सिर्फ़ बेरियम सॉल्ट वाले पटाखे बैन किए गए हैं. अदालत ने कहा कि दूसरों के स्वास्थ्य की क़ीमत पर उत्सव नहीं मनाया जा सकता.
इसके अलावा कोर्ट की ओर से कहा गया कि पटाखों पर प्रतिबंध के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए सभी राज्य/केंद्र शासित प्रदेश इलेक्ट्रॉनिक/प्रिंट मीडिया, स्थानीय केबल (टीवी) सर्विस का इस्तेमाल होना चाहिए. साथ ही कोर्ट ने कहा कि पटाखों पर प्रतिबंध के उल्लंघन की स्थिति में मुख्य सचिव, सचिव (गृह), पुलिस आयुक्त, ज़िला पुलिस अधीक्षक, थाना प्रभारी व्यक्तिगत रूप से जवाबदेह होंगे.

‘सेहत की क़ीमत पर उत्सव नहीं’

शीर्ष अदालत ने कहा कि दूसरों की सेहत की क़ीमत पर उत्सव नहीं मनाया जा सकता. साथ ही कहा कि उत्सव के नाम पर किसी को दूसरों के स्वास्थ्य के अधिकार का हनन करने की अनुमति नहीं दी जा सकती जो भारतीय संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत मिला हुआ है और किसी को दूसरों के जीवन से, खासतौर पर वरिष्ठ नागरिकों एवं बच्चों के जीवन से खिलवाड़ की अनुमति नहीं दी जा सकती.
बैंच ने कहा, ‘साफ़ किया जाता है कि पटाखों के इस्तेमाल पर पूर्ण पाबंदी नहीं है. केवल उस तरह की आतिशबाज़ी पर रोक है जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक पाई जाती है और नागरिकों, खासतौर पर वरिष्ठ नागरिकों तथा बच्चों की सेहत पर असर के लिहाज़ से नुक़सानदेह है.’ शीर्ष अदालत ने कहा कि राज्यों, एजेंसियों और केंद्र शासित प्रदेशों की ओर से पटाखों पर प्रतिबंध लागू करने में किसी भी ख़ामी को बहुत गंभीरता से देखा जाएगा.

Leave a Comment