TeamLease Edtech प्राइवेट इक्विटी फंडों से जुटाएगी 125 करोड़ रुपए, IPO लाने..

स्टाफिंग और ह्यूमन रिसोर्स उपलब्ध करवाने वाली कंपनी टीमलीज सर्विसेज (TeamLease Services) की एक शाखा टीमलीज एडटेक (TeamLease Edtech) प्राइवेट इक्विटी फंडो से लगभग 125 करोड़ रुपये जुटाएगी। कंपनी की योजना अगले 3-4 साल में अपना आईपीओ लाने की है। इसी तैयारी के तहत कंपनी प्राइवेट इक्विटी फंडों से फंड जुटा रही है। TeamLease Edtech के फाउंडर और चीफ एग्जिक्यूटिव शान्तनु रूज (Shantanu Rooj) ने मनीकंट्रोल से हुई अपनी खास बातचीत में बताया कि कंपनी की योजना ग्रोथ के लिए पूंजी जुटाने की है। इसके लिए हम निवेशकों से बातचीत की प्रक्रिया में है। बेशक हमारी पार्टनर कंपनी हमारी फंडिंग कर सकती है लेकिन हम ऐसा नहीं चाहते हैं क्योंकि हम एक स्वतंत्र कंपनी के रुप में अपने आईपीओ की लिस्टिंग की तैयारी में है। ऐसे में हम वित्तीय निवेशक की तलाश में हैं।

बतातें चलें कि TeamLease Edtech एक लर्निंग सोल्यूशन कंपनी है जो यूनिवर्सिटीज और कॉर्पोरेट को लर्निंग सोल्यूशन उपलब्ध करवाती है। कंपनी यूनिवर्सिटीज को ऑनलाइन प्रोग्राम चलाने और उनका प्रबंधन करने स्टूडेंट में नौकरियों के लिए कुशलता बढ़ाने, स्किल डेवलप करने जैसी सेवाएं उपलब्ध कराती है।

शान्तनु रूज ने मनीकंट्रोल के साथ हुई इस बातचीत में बताया है कि TeamLease Edtech, टीमलीज ग्रुप के तहत आने वाली एक इंडिपेंडेंट और लीगल कंपनी है। इस बातचीत में शान्तनु रूज ने यह भी बताया कि अगले 3-4 साल में TeamLease Edtech की लिस्टिंग हो सकती है और अगले 4 साल में कंपनी 5 से 6 गुना ग्रोथ करती नजर आ सकती है क्योंकि लिस्टिंग के पहले कंपनी का लक्ष्य 1000 करोड़ रुपये रेवेन्यू वाली कंपनी बनने का है।

TeamLease Edtech की प्रेसिडेंट और को-फाउंडर नीति शर्मा ने कहा कि कंपनी ग्रोथ को बढ़ावा देने के लिए और स्टॉफ की भर्ती करेगी। कंपनी में इस समय करीब 280 कर्मचारी है जिनको अगले कुछ महीनों में बढ़ाकर 400 करने का लक्ष्य है। इस बातचीत में नीति शर्मा ने यह भी बताया कि कंपनी मुनाफे में चलने वाली कैश जेनरेटिंग कंपनी है इसलिए हमें रोजमर्रा के काम के लिए पैसे जुटाने की जरुरत नहीं है। हमारी फंड जुटाने की योजना ग्रोथ को बढ़ावा देने के लिए है।

Leave a Comment