पंजाब कांग्रेस में टिकटों को लेकर मचा घमासान, 15 सीटों पर बग़ावत; 5 सीटों पर कैंडिडेट बदलने..

The News Air- (चंडीगढ़) पंजाब कांग्रेस में टिकट वितरण को लेकर मचा घमासान थम नहीं रहा है। इस वक़्त 15 विधानसभा सीटों पर खुली बग़ावत हो चुकी है। समराला में कांग्रेस विधायक अमरीक सिंह ढिल्लों निर्दलीय मैदान में उतर चुके हैं जबकि कई सीटों पर इसकी तैयारी हो चुकी है। वहीं, कांग्रेस ने अंतिम सूची जारी करने से पहले पंजाब में 5 सीटों पर मंथन शुरू कर दिया है। जिनमें नेताओं के रिश्तेदारों के साथ पार्टी बदलकर आए नेताओं के टिकट शामिल हैं।

यह भी पढ़ें- परिवारिक विवाद में घिरे नवजोत सिद्धू, NRI बहन फूट-फूटकर रोते हुए बोली…

इससे पहले गुरुवार को राहुल गांधी का पंजाब दौरा था, इस वजह से कांग्रेस ने सबसे ज़्यादा झगड़े वाली 8 सीटों पर घोषणा नहीं की। हालांकि राहुल के 117 उम्मीदवारों के साथ अमृतसर में धार्मिक स्थलों पर माथा टेकने का कार्यक्रम था। कांग्रेस ने 2 बार में अभी 109 उम्मीदवारों की घोषणा की है।

इन सीटों पर हो रही बग़ावत

समराला : यहां से विधायक अमरीक ढिल्लों का टिकट काट दिया। अब ढिल्लों ने निर्दलीय नामांकन भर दिया है।
सुनाम : यहां से दामन थिंद बाजवा का टिकट काटकर विधायक सुरजीत धीमान के रिश्तेदार जसविंदर धीमान को दे दिया। बाजवा निर्दलीय लड़ सकती हैं।
श्री हरगोबिंदपुर : यहां से विधायक बलविंदर लाडी का टिकट काटा। लाडी भाजपा में चले गए थे लेकिन सीएम चरणजीत चन्नी उन्हें टिकट का भरोसा देकर कांग्रेस में वापस ले आए। इसके बावज़ूद टिकट कट गया तो वह नाराज़ हो गए हैं।
फिरोजपुर ग्रामीण : विधायक सत्कार कौर की टिकट काट दिया। उन्होंने उम्मीदवार के ख़िलाफ़ बग़ावत कर दी। वह न कांग्रेस कैंडिडेट की मदद करेंगे और न ही समर्थकों को ऐसा करने देंगे।
सुल्तानपुर लोधी : यहां से मंत्री राणा गुरजीत बेटे इंद्रप्रताप के लिए टिकट मांग रहे थे लेकिन कांग्रेस ने मौजूदा विधायक नवतेज चीमा को दे दी। इंद्रप्रताप यहां से आज़ाद लड़ेंगे।
खरड़ : खरड़ से पूर्व मंत्री जगमोहन कंग टिकट के दावेदार थे लेकिन किसी दूसरे को टिकट मिला। कंग ने इसके लिए सीएम चन्नी को ज़िम्मेदार ठहरा बेटे को निर्दलीय लड़ाने की घोषणा कर दी है।
शुतराणा : यहां से मौजूदा विधायक निर्मल सिंह की टिकट काट दिया है। वह पार्टी से नाराज़ हैं। अगर निर्दलीय न लड़े तो वह कैंडिडेट का विरोध करेंगे।
बटाला : बटाला से मंत्री तृप्त राजिंदर बाजवा ख़ुद टिकट चाहते थे। हालांकि कांग्रेस ने उन्हें फतेहगढ़ चूड़ियां से ही टिकट दे दिया। फिर बटाला के लिए उन्होंने बेटे के लिए टिकट माँगी लेकिन कांग्रेस ने अश्वनी सेखड़ी को दे दी। यहां बाजवा के बेटे निर्दलीय लड़ सकते हैं।
बस्सी पठाना : यहां से सीएम चरणजीत चन्नी के भाई डॉक्टर मनोहर सिंह टिकट मांग रहे थे। कांग्रेस ने मौजूदा विधायक गुरप्रीत जीपी को टिकट दिया। मनोहर अब निर्दलीय चुनाव लड़ने की तैयारी में हैं।
जगराओं : यहां से कांग्रेसी दिग्गज मलकीत दाखा टिकट मांग रहे थे लेकिन कांग्रेस ने आप से आए विधायक जगतार सिंह हिस्सोवाल को टिकट दे दिया। यहां भी विरोध हो रहा है।
साहनेवाल : यहां से मशहूर पंजाबी सिंगर सतविंदर बिट्‌टी टिकट की दौड़ में थी लेकिन कांग्रेस ने पूर्व सीएम राजिंदर कौर भट्‌ठल के दामाद बिक्रम बाजवा को टिकट दे दिया। बिट्‌टी ने भी बाग़ी सुर दिखाते हुए इसे अकाली कैंडिडेट शरणजीत ढिल्लों को जिताने की साज़िश तक बता दिया।
खडूर साहिब : सांसद जसबीर डिंपा अपने बेटे के लिए टिकट मांग रहे थे लेकिन कांग्रेस ने विधायक रमनजीत सिक्की को ही टिकट दे दिया। इसके बाद सोशल मीडिया पोस्ट के ज़रिए डिंपा ने कांग्रेस के प्रति अपनी नाराज़गी ज़ाहिर की।
मुक्तसर : पूर्व विधायक के बेटे राजबलविंदर बराड़ ने चुनाव लड़ने के लिए SP के पद से इस्तीफ़ा दे दिया था। हालांकि अंतिम वक़्त में कांग्रेस ने पूर्व सीएम हरचरण बराड़ की बहू करन कौर बराड़ को टिकट दे दिया। इसका विरोध हो रहा है।
गुरुहरसहाय : विधायक राणा सोढ़ी के भाजपा में जाने के बाद यहां से मिल्कफैड चेयरमैन गुरभेज सिंह टिकट की दौड़ में थे लेकिन कांग्रेस ने टिकट काट दिया। वह भी विरोध में उतरे हुए हैं।
आदमपुर : सीएम चरणजीत चन्नी के क़रीबी रिश्तेदार पूर्व सांसद मोहिंदर केपी टिकट की दौड़ में थे लेकिन कांग्रेस ने बसपा से आए नेता को टिकट दे दिया। केपी कल राहुल गांधी के साथ भी नज़र आए लेकिन उनकी नाराज़गी बरक़रार है। कांग्रेस टिकट बदलने पर सोच रही है।

Leave a Comment