सिद्धू मूसेवाला हत्या के बाद पन्नू का आया भड़काऊ वीडियो

The News Air: पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद प्रतिबंधित संगठन सिख फॉर जस्टिस (SFJ) के फाउंडर गुरपतवंत सिंह पन्नू ने एक वीडियो जारी किया है। इसमें पन्नू पंजाबी गायकों को सरेआम धमकाया गया है। इस भड़काऊ वीडियो में पन्नू पंजाबी गायकों को खालिस्तान के समर्थन में खड़े रहने के लिए उकसा रहा है। सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए इस वीडियो में पन्नू ब्लू स्टार ऑपरेशन की बरसी पर 6 जून को खालिस्तान के समर्थन में अमृतसर स्थित गोल्डन टेंपल में जुटने के लिए कह रहा है।
2.41 मिनट की विडियो में आधी स्क्रीन पर सिद्धू मूसेवाला का गोलियों से छलनी शरीर वाली विडियो और पंजाबी गायकों की तस्वीर है। बाक़ी में पन्नू भड़काऊ भाषण देता नज़र आ रहा है। पन्नू ने कहा कि पंजाब में सिद्धू मूसेवाला का सियासी क़त्ल हुआ है। पंजाब के गायकों और गीतकारों को सिख्स फॉर जस्टिस का संदेश है। अगली गोली पर किसका नाम है, यह कोई नहीं जानता। उसने कुछ पंजाबी गायकों का नाम लेते हुए कहा कहा कि मान, ग्रेवाल, दिलजीत दोसांझ, ढिल्लो, वर्मा पंजाब में गायकी करते हैं। वह झोल उठाकर विदेशों में आम आए हुए होते हैं।

धमकाते हुए खालिस्तान के समर्थन में आने को कह रहा

पन्नू ने गायकों को कहा कि उन सब ने सिख परिवारों में जन्म लिया है। उनके पास एक मौक़ा है। उनकी मौत और हमारी मौत लिखी हुई है। मौत कब आएगी कोई नहीं जानता। किसकी गोली पर किसका नाम लिखा है, कोई नहीं जानता। क्या कभी उन्होंने खालिस्तान, भिंडरावाले के बारे में बात की है? वह बंदूक़ों और गिरोहों के गाने गाते हैं। उनकी और हमारी ज़िंदगी का 10 रुपए मूल्य है। वह ऑपरेशन ब्लू स्टार की याद दिलाकर कह रहा है कि 6 जून का दिन याद करो, जब दरबार साहिब पर टैंक से गोले दाग़े गए थे।

ऑपरेशन ब्लू स्टार की याद दिला भड़का रहा पन्नू

पन्नू गायकों को कहता दिख रहा है कि कौन गायक 6 जून को दरबार साहिब पहुंच कर आज़ादी की बात करेगा। यहां भारतीय फ़ौज ने चढ़ाई की थी और अब तुम आज़ादी के साथ खड़े हों। जो आज़ादी के साथ खड़ा होगा, उसे क़ौम अपना हीरो मानेगी। जो बात नहीं करता, वह गद्दारों की मौत मारा जाता है। इस 6 जून को ऐलान होगा पंजाब की आज़ादी का, खालिस्तान रेफरेंडम की वोटों का।
वह भारत सरकार के प्रति ग़लत शब्दावली इस्तेमाल करता हुआ गायकों को कह रहा है कि आज मौक़ा है तुम्हारे पास। जब तक गोली पर तुम्हारा नाम नहीं लगता। आ जाओ खालिस्तान के हक़ में। 6 जून को देखते हैं कौन सा गायक दरबार साहिब आता है और क़ौम के साथ खड़ा होता है और कौन तिरंगे के साथ खड़ा होता है।

Leave a Comment