विजीलैंस ब्यूरो द्वारा वन रेंज अफ़सर बुढलाडा गिरफ़्तार

चंडीगढ़, 30 अगस्त:

पंजाब विजीलैंस ब्यूरो द्वारा भ्रष्टाचार के विरुद्ध जारी मुहिम के दौरान आज वन रेंज अफ़सर बुढलाडा सुखविन्दर सिंह को उस समय के वन मंडल अफ़सर मानसा अमित चौहान और अन्यों के साथ मिलीभुगत के द्वारा फर्जी फर्मों के जाली बिल तैयार करके सरकारी रकम को किसी अन्य बैंक खाते में डालने के बाद नकद निकलवाकर सीमेंट के वृक्ष गार्ड बनाने के लिए जारी बजट 45,69,000 रुपए और बाँस के वृक्ष गार्ड बनाने सम्बन्धी 7,00,000 रुपए के फंडों के गबन के द्वारा सरकार को कुल 52,69,000 रुपए का वित्तीय नुकसान पहुँचाने के दोष के अंतर्गत बतौर दोषी नामज़द करने के बाद गिरफ़्तार किया गया है।

आज यहाँ यह जानकारी देते हुए विजीलैंस ब्यूरो के एक प्रवक्ता ने बताया कि ब्यूरो द्वारा इस बारे में मुकदमा नंबर 07 तारीख़ 06.06.2022 को भ्रष्टाचार रोकथाम कानून की धारा 7, 7-ए, 13 (1) (ए) (2) और आई.पी.सी. की धाराएं 120-बी, 409, 420, 465, 467, 468, 471 के तहत विजीलैंस ब्यूरो के उडऩ दस्ता पंजाब के द्वारा थाना मोहाली में पहले ही दर्ज किया हुआ है।

इस मुकदमे की जाँच के दौरान पाया गया कि उक्त सुखविन्दर सिंह नवंबर 2021 से वन रेंज अफ़सर बुढलाडा तैनात रहा और उस समय अमित चौहान, आई.एफ.एस., वन मंडल अफ़सर मानसा तैनात था। साल 2021 में वृक्ष काटने के बदले वृक्ष लगाने (कम्पेनसेटरी एफारैस्टेशन) स्कीम के अधीन प्रधान मुख्य वन पाल द्वारा 5872 आर.सी.सी. वृक्ष गार्ड की खरीद करने के लिए मानसा मंडल को मंजूरी दी गई थी, जिसमें से 2537 वृक्ष गार्ड वन मंडल अफ़सर मानसा द्वारा रेंज बुढलाडा को तैयार करवाए जाने के लिए 45,69,000 रुपए का बजट जारी किया गया था।

उन्होंने बताया कि उक्त स्कीम के अधीन वन रेंज अफ़सर बुढलाडा द्वारा सीमेंट के 2537 वृक्ष गार्ड तैयार करने के लिए मैसर्ज अम्बे सीमेंट स्टोर, चन्नो, जि़ला संगरूर और एन.एस. जैन सीमेंट एंड एक्सैसरीज स्टोर, पटियाला नामी फर्मों से खरीदने सम्बन्धी बिल हासिल किए गए। इन बिलों पर लिखी हुई फर्म, उसके जी.एस.टी. नम्बरों और संपर्क नंबरों के बारे में जाँच के दौरान पता लगा कि उक्त दोनों नामों की मौजूदा पते वाली कोई भी फर्म मौजूद नहीं हैं। इन फ़र्मों के बिलों पर लिखे गए जी.एस.टी. नम्बर भी विभाग द्वारा जारी नहीं किए गए भाव कि फज़ऱ्ी हैं और संपर्क नंबर भी ठीक नहीं हैं|

प्रवक्ता ने बताया कि यह बजट की यह रकम सुखविन्दर सिंह के कहने पर नकद निकलवाकर दी गई है। जाँच के दौरान विजीलैस ब्यूरो द्वारा यह पाया गया कि सीमेंट वाले 2537 वृक्ष गार्डों सम्बन्धी वन रेंज अफ़सर बुढलाडा द्वारा उस समय के वन रेंज अफ़सर मानसा अमित चौहान के साथ मिलीभुगत करके फज़ऱ्ी फ़र्मों के जाली बिल तैयार करके 45,69,000 रुपए के सरकारी धन का गबन किया गया है।

उन्होंने बताया कि जाँच के दौरान यह भी पता लगा कि उक्त सुखविन्दर सिंह द्वारा दिसंबर 2021 में 7 लाख रुपए के बाँस के वृक्ष गार्ड गुरू कृपा बैंबू स्टोर, मानसा नामी फर्म से अलग-अलग बिलों के द्वारा खरीदे गए परन्तु मौजूदा पते पर यह फर्म भी मौजूद ही नहीं है। जाली बिलों पर लिखा हुआ पैन नंबर भी फर्जी है। इससे सिद्ध हुआ कि वन रेंज अफ़सर बुढलाडा द्वारा उस समय के वन रेंज अफ़सर मानसा के साथ मिलीभुगत करके फज़ऱ्ी फर्मों के जाली बिल तैयार करके 7,00,000 रुपए का गबन किया गया है।

प्रवक्ता ने बताया कि उपरोक्त सभी तथ्यों और जाँच के आधार पर सुखविन्दर सिंह द्वारा अमित चौहान और अन्यों के साथ मिलीभुगत करके फज़ऱ्ी फर्मों के बिल तैयार करके फज़ऱ्ी दस्तखत करने के उपरांत सरकारी रकम को किसी अन्य बैंक खाते में डालकर नकद निकलवा लिया गया और अलग-अलग तरह के वृक्ष गार्ड तैयार करवाने के एवज़ में जारी हुए कुल सरकारी बजट 52,69,000 रुपए का गबन करके सरकारी खजाने को वित्तीय नुकसान पहुँचाया गया है, जिस कारण सुखविन्दर सिंह वन रेंज अफ़सर बुढलाडा को गिरफ़्तार करके अगली कार्यवाही अमल में लाई जा रही है।

Leave a Comment