चन्नी ने फ्यूल रेट कम करने वाले विज्ञापन में कराई गहलोत की किरकिरी


चंडीगढ़: चन्नी सरकार (Channi Government) ने पंजाब (Punjab) को पेट्रोल-डीज़ल (Petrol Diesel Rate) पर वैट (VAT) में कटौती करने वाला पहला कांग्रेस शासित राज्य बना दिया है। रविवार को राज्य में पेट्रोल पर 10 रुपए और डीज़ल पर 5 रुपए प्रति लीटर टैक्स कम कर दिया है। रेट घटाने के ऐलान के साथ सरकार ने प्रचार-प्रसार भी शुरू कर दिया है। सोमवार को पंजाब के कई स्थानीय अख़बारों में एक विज्ञापन प्रकाशित किया गया है। इसमें बताया गया कि अब पंजाब में पेट्रोल-डीज़ल कई राज्यों से सस्ता हो गया है, लेकिन इस विज्ञापन ने कांग्रेस शासित और पड़ोसी राज्य राजस्थान (Ashok Gehlot Government) को ही सवालों में खड़ा कर दिया है।

सरकार के इस विज्ञापन में पंजाब, दिल्ली (Delhi), हरियाणा (Haryana) और राजस्थान (Rajasthan) में पेट्रोल और डीज़ल के दामों के बारे में बताया गया है। चूंकि, ये चारों राज्य पंजाब की सीमा से सटे हुए हैं। ऐसे में पंजाब सरकार विज्ञापन के ज़रिए यह बताने के प्रयास में है कि हमारे यहां अन्य राज्यों की तुलना सबसे कम दामों में फ्यूल बेचा जा रहा है। बता दें कि अगले साल पंजाब में विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election 2022) होने वाले हैं और हाल ही में सत्ता का हस्तांतरण भी किया गया है। विपरीत हालात में राज्य की बागडोर संभालने वाले चरणजीत सिंह चन्नी (CM Charanjeet singh channi) लगातार कई बड़े फ़ैसले लेकर चुनावी माहौल को अपने पक्ष में करने में लगे हैं।

पड़ोसी राज्यों में पेट्रोल-डीज़ल के रेट को लेकर तुलना की

इन चार राज्यों में दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार, हरियाणा में भाजपा-जजपा सरकार और राजस्थान-पंजाब में कांग्रेस सरकार है। पंजाब की चन्नी सरकार के इस विज्ञापन में सबसे ज़्यादा रेट राजस्थान के बताए गए हैं। उसके बाद हरियाणा, दिल्ली और सबसे कम पंजाब के रेट बताए हैं। ऐसे में लोग सवाल उठा रहे हैं कि राजस्थान में भी 2023 में चुनाव हैं और चन्नी सरकार का अपने ही कांग्रेस शासित राज्य से पंजाब की तुलना करके एक तरह पड़ोसी राज्यों की घेराबंदी की जा रही है? भले, पंजाब सरकार ये बताना चाह रही है कि वह सबसे सस्ता फ्यूल बेच रहा है, लेकिन इसमें राजस्थान की गहलोत सरकार को भी महंगा तेल बेचने वाले राज्यों में शामिल करके विपक्ष को सवाल खड़े करना का मौक़ा दे रही है। विज्ञापन में CM चरणजीत चन्नी की फ़ोटो लगी है।

राजस्थान में देशभर से महंगा पेट्रोल-डीज़ल

बता दें कि राजस्थान में पेट्रोल और डीज़ल के दाम सबसे ज़्यादा हैं। वहाँ पेट्रोल 116.27 रु. प्रतिलीटर और डीज़ल 100.46 रु. प्रति लीटर है। अगर देश में सबसे महंगे पेट्रोल-डीज़ल वाले राज्य को देखें तो राजस्थान सबसे ऊपर है। यहां पूरे भारत में सबसे महंगा पेट्रोल-डीज़ल बेचा जाता है। राजस्थान के श्रीगंगानगर में एक लीटर पेट्रोल 116.00 रुपए में मिल रहा है और डीज़ल 100.21 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है। इसके बाद इसी राज्य के दूसरे शहर हनुमानगढ़ में पेट्रोल 115.21 प्रति लीटर और डीज़ल 99.49 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है।

ये बताए गए दाम

विज्ञापन में बताया गया है कि पंजाब में अब पेट्रोल के रेट 95 रु. प्रति लीटर और डीज़ल के 83.75 रु. हो गया है। हरियाणा में पेट्रोल 95.29 पैसे, डीज़ल 56.53 पैसे है। जबकि दिल्ली में पेट्रोल 104.01 पैसे, डीज़ल 86.71 पैसे है। इसके बाद सबसे ज़्यादा राजस्थान में फ्यूल के दाम बताए हैं।

हिमाचल और चंडीगढ़ में रेट सस्ता, विपक्ष हमलावर

पंजाब सरकार के विज्ञापन के बाद विपक्ष ने भी सवाल खड़े किए। अकाली दल के प्रवक्ता डॉ. दलजीत चीमा ने कहा कि पंजाब के मुक़ाबले चंडीगढ़ (Chandigarh) और हिमाचल (Himachal Pradesh) में पेट्रोल-डीज़ल सस्ता है। चंडीगढ़ में पेट्रोल 94.23 रुपए और डीज़ल 80.90 रुपए प्रति लीटर है। जबकि हिमाचल के नालागढ़ में पेट्रोल 93.67 रुपए और डीज़ल 78.94 रुपए प्रति लीटर है। उन्होंने सीएम चरणजीत चन्नी के लिए कहा कि इसकी तुलना भी उन्हें अपने विज्ञापन में करनी चाहिए।

राजस्थान में कांग्रेस सरकार कर चुकी इनकार

राजस्थान में कांग्रेस सरकार वैट घटाने से साफ़ तौर पर इनकार कर चुकी है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने कहा है कि राज्य सरकार पेट्रोल और डीज़ल के दामों पर वैट कम नहीं करेगी। उन्होंने केंद्र सरकार को ही और ज़्यादा टैक्स कटौती की नसीहत दी थी। गहलोत का कहना था कि मेरा सुझाव है कि पेट्रोल, डीज़ल और गैस से एडिशनल एक्साइज़ ड्यूटी, स्पेशल एक्साइज़ ड्यूटी और सेस के रूप में जो राजस्व केंद्र सरकार इकट्ठा कर रही है, उस पर राज्य सरकारें वैट लगाती हैं। महंगाई को देखते हुए केंद्र सरकार को इसमें और ज़्यादा कमी करनी चाहिए। इससे राज्यों का वैट अपने आप ही कम हो जाएगा।

कांग्रेस शासित राज्यों में फ्यूल क़ीमतें रिकॉर्ड स्तर पर

पिछले दिनों केंद्र सरकार ने पेट्रोल पर 5 रुपए प्रति लीटर और डीज़ल पर 10 रुपए प्रति लीटर की एक्साइज़ ड्यूटी कटौती की थी। मोदी सरकार के क़दम के ठीक बाद बीजेपी शासित राज्यों ने भी वैट घटाकर ग्राहकों को राहत दी थी, लेकिन अधिकतर गैर-एनडीए शासित राज्यों ने केंद्र सरकार से और अधिक एक्साइज़ ड्यूटी घटाने की मांग करते हुए वैट घटाने से इनकार कर दिया था। राजस्थान जैसे कांग्रेस शासित राज्य टैक्स कटौती से इनकार कर चुके हैं, जहां पेट्रोल-डीज़ल की क़ीमत रिकॉर्ड स्तर पर है।

चुनाव की वजह से मजबूर हुई चन्नी सरकार?

इधर, वैट घटाने से कांग्रेस शासित राज्यों के इनकार के बीच पंजाब में वैट कटौती के फ़ैसले को चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है। पंजाब में कुछ महीनों बाद विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। राजनीतिक जानकारों का मानना है कि चरणजीत सरकार को डर था कि पेट्रोल-डीज़ल पर टैक्स कटौती नहीं की गई तो जनता की नाराज़गी का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में सरकार ने मिडिल क्लास को ख़ुश करने के लिए पेट्रोल पर ज़्यादा टैक्स कटौती की है। जबकि डीज़ल पर पहले ही केंद्र सरकार 10 रुपए घटा चुका है। अब राज्य सरकार की ओर से 5 रुपए की कटौती की गई है। केंद्र और राज्य सरकार की कटौती को मिला दें तो अब तक पेट्रोल 15 रुपए प्रति लीटर सस्ता हो गया है और डीज़ल पर भी 15 रुपए की कटौती हो गई है।


Leave a Comment

error: Content is protected !!
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

I Have Disabled The AdBlock Reload Now