कांग्रेसियों के घमासान पर अरूसा ने कसा तंज़, पंजाब में कांग्रेस..

The News Air- पंजाब विधानसभा चुनाव में फिर से पाकिस्तानी पत्रकार अरूसा आलम की एंट्री हो गई है। अरूसा आलम ने अब पंजाब में कांग्रेस के भीतर मचे घमासान पर तंज़ कसा है। अरूसा ने कहा कि कांग्रेसी अपने कर्मों की सज़ा भुगत रहे हैं। इसे उन्होंने पोएटिक जस्टिस क़रार दिया। अरूसा ने यह भी कहा कि पंजाब में हो रहे चुनाव पर उनकी पूरी नज़र है।

मीडिया से बातचीत में अरूसा ने कहा कि अलोकतांत्रिक तरीक़े से चरणजीत चन्नी जैसा कमज़ोर सीएम बनाया गया है। अरूसा ने कैप्टन अमरिंदर सिंह को फाइटर क़रार दिया। अरूसा ने कहा कि कैप्टन मंझे हुए और साफ-सुथरे नेता हैं। राजनीति को उनकी ज़रूरत है।

कांग्रेस एक औरत के सहारे चमका रही थी राजनीति

अरूसा आलम ने कहा कि कांग्रेस ने पहले सुनियोजित साज़िश रचकर कैप्टन अमरिंदर सिंह को सीएम की कुर्सी से हटाया। यह अलोकतांत्रिक था। पिछले चुनाव में पंजाब ने कैप्टन अमरिंदर सिंह को चुना था। कांग्रेस ने बेशर्मी से कैप्टन अमरिंदर सिंह की पीठ में छुरा मारा।

अरूसा आलम ने कहा कि नवजोत सिद्धू और उनकी पत्नी नवजोत कौर सिद्धू ने उनके बारे में जो मर्ज़ी कहा हो लेकिन उन पर भी गंभीर आरोप है। यह कहा जाता है कि सिद्धू मुंबई में बैठे रहते थे और उनका मंत्रालय नवजोत कौर सिद्धू चलाती थी। वह पैसा भी लेती थी।

कैप्टन की पाकिस्तानी मित्र है अरूसा आलम

अरूसा आलम कैप्टन अमरिंदर सिंह की पाकिस्तानी मित्र है। हालांकि पंजाब में जब कैप्टन को हटाकर चन्नी सीएम बने तो उनका नाम फिर से सामने आया। असली बवाल तब हुआ, जब डिप्टी सीएम सुखजिंदर रंधावा ने अरूसा के ISI के साथ रिश्तों की जांच की बात कह डाली।

इसके बाद राजनीतिक बवाल शुरू हो गया। यहां तक कि नवजोत कौर सिद्धू ने अरूसा पर करोड़ों रुपए लेकर भागने का आरोप लगा दिया। यह देख कैप्टन ने सोनिया गांधी समेत कई दिग्गज कांग्रेसियों के साथ अरूसा की फ़ोटो सार्वजनिक कर कांग्रेस में ही खलबली मचा दी। हालांकि उसके बाद रंधावा को दिल्ली तलब किया गया। इसके बाद पूरा मामला ठंडा पड़ गया।

Leave a Comment