सीमा पर तनाव: पूर्वी लद्दाख में चीन ने बढ़ाई सेना, पाक ने बार-बार तोड़ा सीजफायर

नई दिल्ली, 2 अक्टूबर (The News Air)

स्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर बढ़ते तनाव के बीच सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे लद्दाख के 2 दिवसीय दौरे पर हैं। वे सीमा पर सुरक्षा व्यवस्था की जांच करेंगे। इस बीच न्यूज एजेंसी एएनआई को दिए इंटरव्यू में उन्होंने सीमा पर चीन और पाकिस्तान की बढ़ती गतिविधियों पर चिंता जताई. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि भारतीय सेना लगातार निगरानी कर रही है और हर खतरे से निपटने में सक्षम है. इस बीच भारत ने सीमा पर सैन्य उपकरणों और सैनिकों की तैनाती भी बढ़ा दी है। यहां भारतीय सेना ने चीन से लगी वास्तविक नियंत्रण रेखा पर लद्दाख सेक्टर में पहली K9-थंडर स्व-चालित हॉवित्जर रेजिमेंट को तैनात किया है। यह तोप करीब 50 किमी की दूरी से दुश्मन के ठिकानों पर हमला कर सकती है।

पूर्वी लद्दाख में बढ़ी चीन की गतिविधियां
सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे ने कहा कि चीन ने हमारे पूर्वी कमान तक पूरे पूर्वी लद्दाख और उत्तरी मोर्चे पर बड़ी संख्या में सैनिकों को तैनात किया है। निश्चित रूप से अग्रिम क्षेत्रों में उनकी तैनाती में वृद्धि हुई है, जो हमारे लिए चिंता का विषय बना हुआ है।

भारत लगातार निगरानी कर रहा है
सेना प्रमुख ने कहा कि हम चीन की सभी गतिविधियों पर लगातार नजर रखे हुए हैं. हमें जो जानकारी मिल रही है उसके मुताबिक हम अपने इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ-साथ सैनिकों के मामले में भी विकास कर रहे हैं. ये किसी भी खतरे से निपटने के लिए जरूरी हैं। फिलहाल हम किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

पाकिस्तान भी सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है
सेना प्रमुख ने खुलासा किया कि पाकिस्तान से घुसपैठ में हाल ही में वृद्धि हुई है, जो संघर्ष विराम के खिलाफ है। पिछले 10 दिनों में 2 संघर्ष विराम तोड़े गए हैं। फरवरी से पहले की स्थिति वापस आ गई है।

उम्मीद है कि वार्ता सफल होगी
सेना प्रमुख ने चीन को लेकर कहा कि पिछले 6 महीनों में स्थिति काफी सामान्य रही है. हमें उम्मीद है कि 13वें दौर की वार्ता अक्टूबर के दूसरे सप्ताह में होगी और हम इस जगह से बाहर निकलने के लिए आम सहमति पर पहुंचेंगे। मुझे उम्मीद है कि हम परिणाम हासिल करने में सक्षम होंगे। मुझे विश्वास है कि हम अपने मतभेदों को बातचीत के जरिए धीरे-धीरे सुलझा लेंगे।

Leave a Comment