राहुल गांधी ने पंजाब में सीएम चेहरे का किया एलान, बोले- पंजाब को भूख और ग़रीबी को समझने..

The News Air- पंजाब में कांग्रेस ने चरणजीत चन्नी को सीएम चेहरा घोषित कर दिया है। लुधियाना की दाखा रैली में राहुल गांधी ने इसकी घोषणा की। राहुल गांधी ने कहा कि मैंने सीएम का चेहरा डिसाइड नहीं किया। मैंने पंजाब के लोगों से पूछा। कैंडिडेट और कार्यकर्ताओं, वर्किंग कमेंटी के सदस्यों से पूछा। उन्होंने कहा कि पंजाब को ख़ुद अपना नेता चुनना चाहिए। मैं सिर्फ़ ओपिनियन दे सकता हूं लेकिन पंजाब का ओपिनियन ज़्यादा ज़रूरी है। पंजाब ने कहा कि हमें ग़रीब घर का सीएम चाहिए। जो भूख और ग़रीबी को समझे। पंजाब को उस व्यक्ति की ज़रूरत है।

इससे पहले राहुल गांधी ने नवजोत सिद्धू से पहली मुलाक़ात को याद किया। राहुल गांधी ने कहा कि नवजोत सिद्धू के ख़ून में पंजाब है। वहीं चरणजीत चन्नी ग़रीब घर के बेटे हैं। ग़रीबी को समझते हैं। जब वह सीएम बने तो उनके अंदर कोई अहंकार नहीं दिखा। वह जनता के बीच में जाते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश योगी आदित्यनाथ भी लोगों के बीच नहीं जाते। उन्होंने कहा कि मोदी पीएम नहीं राजा हैं।
इससे पहले रैली में सीएम चरणजीत चन्नी ने कहा कि जिसे भी सीएम चेहरा चुनोगे, उसके साथ दिन-रात जुटकर पार्टी के लिए काम करेंगे। इससे पहले सिद्धू की तारीफ़ करते हुए चन्नी ने कहा कि वह बहुत अच्छे वक्ता हैं। चन्नी ने कहा कि 700 किसान शहीद करने वाले किस मुंह से पंजाब में वोट मांगने आते हैं। भाजपा, अकाली दल और आम आदमी पार्टी को इसका जवाब देना चाहिए। उन्होंने कहा 111 दिन के काम गिनाते हुए कि मुझे 3 महीने देखा है, अब पूरे 5 साल देखो।
चन्नी ने कहा कि कहा कि वह अब तक बेदाग़ रहे हैं। 40 साल के राजनीतिक करियर में उन पर किसी ने अंगुली नहीं उठाई। मैं ग़लत होता तो मुझे कैप्टन अमरिंदर सिंह ही मार देते। वह साढ़े 4 साल तक मेरे पीछे पड़े रहे। हमने मिलकर उसे हटवाया। मैंने अच्छे फ़ैसले लिए, इसलिए सब उनके पीछे पड़े हुए हैं।

चरणजीत चन्नी ने कहा कि शराब पीने को लेकर कटाक्ष करते हुए कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह की दुकान 4 बजे बंद होती थी। भगवंत मान की दुकान 6 बजे बंद हो ज़ाती है। चन्नी ने शराब पीने को लेकर भगवंत मान पर ख़ूब हमले किए। चन्नी ने कहा कि भगवंत मान के ख़िलाफ़ संसद में भी एक सांसद ने शिकायत की कि उनसे शराब की बदबू आती है।


सिद्धू बोले- मेरा नाम न हुआ तो सीएम चेहरे का पूरा साथ दूंगा

इससे पहले रैली में नवजोत सिद्धू ने कहा कि आज फ़ैसले की घड़ी है। सिद्धू ने सीएम चेहरे पर दावा छोड़ते हुए सरेंडर कर दिया। सिद्धू ने कहा कि मुझे कोई लालसा नहीं है। लेकिन मुझे दर्शनी घोड़ा न बनने देना। मुझे फ़ैसला लेने की ताक़त देना। पंजाब के लिए रखी जा रही नींव का वह पहला पत्थर बनने के लिए तैयार हैं। सिद्धू ने कहा कि मैंने कभी किसी से कुछ नहीं मांगा। सिद्धू ने कहा कि अगर मुझे फ़ैसले लेने की ताक़त मिली तो पंजाब से माफ़िया ख़त्म कर दूंगा। मुझे सीएम चेहरा न बनाया तो जिसे बनाया जाएगा, उसके साथ कंधे से कंधा मिलाकर साथ देंगे। हालांकि सिद्धू ने इस दौरान संकेत में ख़ुद को अरबी घोड़ा कहकर हाईकमान को नज़रअंदाज न करने की चेतावनी भी दे दी।

सिद्धू ने कहा कि भाजपा में वह 13 साल रहे लेकिन उनसे सिर्फ़ कैंपेन कराई गई। कांग्रेस ने सिर्फ़ 4 साल में उन्हें पंजाब कांग्रेस का प्रधान बना दिया। सिद्धू ने कैप्टन अमरिंदर सिंह को भी ख़ूब कोसा। सिद्धू ने चरणजीत चन्नी को पंजाब में दलित सीएम बनाने के लिए राहुल गांधी की तारीफ़ की।

दो घंटे तक फंसा रहा पेंच, राहुल होटल में मनाते रहे

इससे पहले सीएम चेहरे को लेकर कांग्रेस में पेंच फंसा रहा। चरणजीत चन्नी और नवजोत सिद्धू में से किसी एक के नाम पर सहमति नहीं बन पाई। राहुल गांधी को 2 बजे इसकी घोषणा करनी थी। वह क़रीब 12 बजे लुधियाना पहुंच गए थे। इसके बाद क़रीब दो घंटे से वह लुधियाना के होटल में दोनों को मनाते रहे। जिस वजह से रैली में भी क़रीब डेढ़ घंटे लेट हो गई।
वहीं यह भी चर्चा होने लगी है कि अगर कांग्रेस ने CM चेहरा न बनाया तो नवजोत सिद्धू पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रधान पद से इस्तीफ़ा दे सकते हैं। सिद्धू इससे पहले भी डीजीपी और एडवोकेट जनरल की नियुक्ति के विरोध में अचानक इस्तीफ़ा दे चुके हैं। हाल ही में कांग्रेस ने उन्हें उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश में स्टार प्रचारक तक नहीं बनाया।

Leave a Comment