Gurmeet Ram Rahim की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, हत्याकांड में साज़िश रचने का आरोप, 24 अगस्त को अदालत सुना सकती है फ़ैसला

चंडीगढ़ , 18 अगस्त (The News Air)
रोहतक की सुनारिया जेल में बंद डेरा सच्चाि सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की मुश्किलें बढ़ गई हैं और एक अन्यस मामले में उस पर शिकंजा कस गया है। रंजीत सिंह हत्याखकांड में पंचकूला की विशेष सीबीआई अदालत ने फ़ैसला सुरक्षित रख लिया है। अदालत अब इस मामले में 24 अगस्तख को फ़ैसला सुना सकती है। इस मामले में गुरमीत राम रहीम मुख्यि आरो‍पित है।
बता दें कि गुरमीत राम रहीम अभी साध्वील दुष्कार्म मामले और पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याग मामले में रोहतक की सुनारिया जेल में सज़ा काट रहा है। पंचकूला की अदालत में आज रंजीत सिंह मर्डर केस में सुनवाई पूरी हो गई। इसके साथ ही गुरमीत राम रहीम की मुश्किलें सकती हैं।
पंचकूला स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने बुधवार को सुनवाई के बाद रंजीत सिंह हत्या मामले में फ़ैसला सुरक्षित रख लिया। पिछली सुनवाई में फाइनल बहस पूरी होने के बाद आज सुनवाई के दौरान अदालत ने मामले में अगली तारिख 24 अगस्त तय कर दी। इस दिन सीबीआई कोर्ट द्वारा इस मामले में फ़ैसला सुनाया जा सकता है।
बता दें कि इस मामले में गुरमीत राम रहीम के साथ-साथ कृष्ण लाल, जसवीर, सबदिल और अवतार भी आरोपी हैं। सीबीआई कोर्ट में मुख्य आरोपित गुरमीत राम रहीम और कृष्ण लाल वीडियो कान्फ्रेंसिंग के ज़रिए पेश हुए। आरोपित अवतार, जसवीर और सबदिल सीबीआई कोर्ट में हाज़िर हुए।
आज की सुनवाई के दौरान बचाव पक्ष ने सीबीआई कोर्ट में फाइनल बहस के सभी दस्तावेज़ जमा किए। डेरा प्रबंधक रंजीत सिंह हत्याकांड में सीबीआई द्वारा बचाव पक्ष द्वारा दी गई दलीलों पर अपना पक्ष रखने के लिए समय मांगा गया। सीबीआई के वकील एचपीएस वर्मा ने अदालत से कहा कि वह जवाब देने के लिए कुछ समय चाहते हैं। लेकिन, अदालत ने समय देने से इन्काचर करते हुए मामले में फ़ैसला सुरक्षित रख लिया और अगली तिथि 24 अगस्त तय कर दी।
बता दें कि 10 जुलाई 2002 को डेरे की प्रबंधन समिति के सदस्य रहे कुरुक्षेत्र के रंजीत सिंह की हत्या4 हुई थी। डेरा प्रबंधन को शक था कि रंजीत ने ही साध्वी यौन शोषण की गुमनाम चिट्ठी अपनी बहन से लिखवाई थी। मामले में पुलिस ने गुरमीत राम रहीम और डेरा को क्ली नचिट दे दी। पुलिस जांच से असंतुष्ट रंजीत के पिता ने जनवरी 2003 में हाईकोर्ट में याचिका दायर कर मामले सीबीआई जांच की मांग की थी।
आरोप है कि रंजीत सिंह हत्या मामले में डेरा सच्चा सौदा के पांच सदस्य अवतार, इंद्र सैनी, कृष्ण लाल, जसबीर सिंह और सबदिल सिंह ने डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह के कहने पर रंजीत सिंह की हत्या की साज़िश रची थी।
मामले में तीन गवाह महत्वपूर्ण थे। इनमें दो चश्मदीद सुखदेव सिंह और जोगिंदर सिंह हैं। उनका कहना था कि उन्होंनने आरोपितों को रंजीत सिंह पर गोली चलाते हुए देखा था। तीसरा गवाह गुरमीत का ड्राइवर खट्टा सिंह था, जिसके सामने रंजीत को मारने की साज़िश की बात कही गई थी। सीबीआई के अनुसार 10 जुलाई 2002 को डेरा सच्चा सौदा में मैनेजर रहे रणजीत सिंह की हत्या की गई।
बताया जाता है कि यौन शोषण मामले का खुलासा एक साध्वी के गुमनाम ख़त के आने के बाद हुआ था। इस गुमनाम ख़त के सामने आने के कुछ समय पहले रंजीत सिंह अपनी बहन के डेरा छोडक़र अपने क्षेत्र चला गया था। डेरा प्रमुख गुरमीत को शक था कि उक्त ख़त के पीछे रंजीत सिंह ही है। इसलिए पहले उसे समझाने का प्रयास किया गया। बाद में गुरमीत के कहने पर रंजीत सिंह की हत्या कर दी गई।
गुरमीत राम रहीम के ड्राइवर खट्टा सिंह ने अपने बयान में कहा था कि गुरमीत राम रहीम ने उसके सामने ही रंजीत को मारने के लिए बोला था। हालांकि बाद में खट्टा सिंह अदालत के सामने बयान से मुकर गया था। अब खट्टा सिंह फिर से कोर्ट में पेश हो गया था। उसने बताया था कि पहले बह डर के कारण मुकर गया था, लेकिन अब दोबारा गवाही देना चाहता है।
बता दें कि पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्या मामले में छत्रपति के पुत्र अंशुल छत्रपति की याचिका का संज्ञान लेते हुए 10 नवंबर, 2003 को हाईकोर्ट के आदेश पर सीबीआई ने रामचंद्र छत्रपति मर्डर केस और रंजीत सिंह मर्डर केस को एक मामला बनाकर जांच शुरू की। लेकिन, बाद में गुरमीत राम रहीम मामले में सुप्रीम कोर्ट से स्टे ले लिया। यह स्टेी नवंबर 2004 में हट गया।
स्टे हटा तो डेरा सच्चा सौदा समर्थकों ने 2005 में सीबीआई के ख़िलाफ़ चंडीगढ़ में एक बड़ा विरोध प्रदर्शन किया। लेकिन , सीबीआई जांच में डटी रही और 31 जुलाई 2007 को साध्वी दुष्केर्म मामले, रंजीत सिंह हत्याेकांड और रामचंद्र छत्रपति हत्याा मामले में सीबीआई कोर्ट में चालान पेश किए। अब राम रहीम साध्वी गुरमीत राम रहीम को साध्वी् यौन शोषण मामले और पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्या केस में सज़ा सुनाई जा चुकी है और वह रोहतक की सुनारिया जेल में सज़ा काट रहा है।

Leave a Comment