कोविड महामारी के बाद एक कंपनी ने चौपट की चीन की अर्थव्यवस्था

बीजिंग, 23 सितंबर (The News Air)
कोविड (Covid 19) से पूरी दुनिया का सामना करवाने वाला चीन अब महामंदी से वैश्विक शेयर बाज़ार को धड़ाम करने की ओर है। चीन (China) की दुनिया की अग्रणी रियल एस्टेट कंपनी एवरग्रांडे (Evergrande) क़र्ज़ में डूबी है। दुनिया का सबसे ऋणी रियल एस्टेट डेवलपर इन स्थितियों से इसलिए गुज़र रहा क्योंकि उसने अभी इस गुरुवार ही अपने बांड पर $ 84m का भुगतान किया। कंपनी ने मनी मैनेजमेंट व्यवसाय के इन्वेस्टर्स ने अपना इन्वेस्टमेंट निकालना भी शुरू कर दिया है, ऐसी स्थितियों में कंपनी को काफ़ी संघर्ष करना पड़ रहा है जिसका असर वैश्विक शेयर मार्केट पर भी पड़ सकता।

300 अरब डॉलर देना है कंपनी को, दुनिया के कई रईसों ने गंवाए धन-दरअसल, रियल एस्टेट कंपनी एवरग्रांडे पर 300 अरब डॉलर की देनदारी है। कंपनी इस सप्ताह बक़ाया का भुगतान नहीं कर पाई है। चीन सरकार की मदद के बिना कंपनी अब आगे नहीं बढ़ सकती। चूंकि यह दुनिया की सबसे मूल्यवान रियल एस्टेट कंपनी है, इसलिए दुनिया के सबसे अमीर लोगों में से एक एलोन मसूरी सहित कई लोगों ने पैसा खो दिया है।

एवरग्रांडे क्या करता है?-चीनी बिजनेसमैन हुई का यान ने 1996 में दक्षिणी चीन के ग्वांगझू में एवरग्रांडे की स्थापना की थी। इसे पहले हेंगडा समूह के नाम से जाना जाता था।
एवरग्रांडे रियल एस्टेट वर्तमान में पूरे चीन में 280 से अधिक शहरों में 1,300 से अधिक परियोजनाओं का मालिक है। एवरग्रांडे समूह अब केवल रियल एस्टेट डेवलपमेंट में ही अधिक ध्यान देता है। हालांकि, इस कंपनी का व्यवसाय मनी मैनेजमेंट, इलेक्ट्रिक कार बनाने और खाने-पीने की चीज़ों के निर्माण से जुड़ा भी हैं। यहां तक कि यह देश की सबसे बड़ी फुटबॉल टीमों में से एक – गुआंगज़ौ एफसी का मालिक है।

कंपनी के मालिक कभी दुनिया के सबसे रईस-फोर्ब्स के अनुसार, कंपनी के कर्ताधर्ता हुई कभी एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति थे। लेकिन हाल के महीनों में उनकी संपत्ति में गिरावट के बाद भी उनकी व्यक्तिगत संपत्ति दस बिलियन डॉलर $ 10bn से अधिक है।

Leave a Comment