दिल्ली विधानसभा में मिली अंग्रेज़ों के ज़माने की Mysterious सुरंग; जो जाती है लाल क़िले के फांसी घर तक

नई दिल्ली, 3 सितंबर (The News Air)

सालों से उड़ रहीं अफवाहें सच साबित हुई हैं। दिल्ली की विधानसभा में (Legislative Assembly) में एक रहस्यमयी सुरंग (Mysterious tunnel) का पता चल गया है। यह सुरंग दिल्ली विधानसभा से लाल किले तक जाती है। इसी सुरंग के जरिये अंग्रेज स्वतंत्रता सेनानियों को फांसी पर चढ़ाने के लिए लाल किले के फांसीघर तक शिफ्ट करते थे, ताकि लोगों के विरोध से बचा जा सके। दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने ANI को बताया कि 1993 में जब इस सुरंग को लेकर अफवाह उड़ी थी, तब उन्होंने इसके इतिहास को खोजने की कोशिश की। लेकिन तब इसे लेकर कोई स्पष्टता(clarity) नहीं थी।

vidhansabha jpg

दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने बताया कि सुरंग का मुंहाना मिल गया है, लेकिन आगे इसे नहीं खोदेंगे। हम जल्द ही इसे फिर से तैयार करेंगे। उन्होंने संभावना जताई कि अगले 15 अगस्त तक इसका जीर्णोद्धार(रिनोवेशन) पूरा हो सकता है। उन्होंने बताया कि मेट्रो परियोजनाओं और सीवर लाइनों के कारण सुरंग के रास्ते नष्ट हो गए हैं।

delhi jpg

दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने बताया कि बताया कि 1912 में राजधानी को कोलकाता से दिल्ली स्थानांतरित करने के बाद दिल्ली विधानसभा को केंद्रीय विधान सभा के रूप में इस्तेमाल किया गया था। इसके बाद 1926 में इसे एक अदालत में बदल दिया गया। तभी अंग्रेजों ने स्वतंत्रता सेनानियों को अदालत में लाने के लिए इस सुरंग का इस्तेमाल किया।

delhi news jpg

दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल ने बताया कि हम सभी फांसी के कमरे के बारे में पहले से जानते थे। हालांकि इसे कभी खोला नहीं गया। अब आजादी का 75वां साल था, तब मैंने उस कमरे का निरीक्षण करने का फैसला किया था। हम उस कमरे को स्वतंत्रता सेनानियों के मंदिर में श्रद्धांजलि के रूप में बदलना चाहते हैं। 
 

shocking jpg

विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि देश की आजादी से जुड़े दिल्ली विधानसभा के इतिहास को सामने लाने अगले स्वतंत्रता दिवस तक पर्यटकों के लिए फांसी का कमरा खोलने की योजना है। इस पर काम शुरू हो चुका है।

red fort jpg

विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि स्वतंत्रता संग्राम के संदर्भ में इस जगह का बहुत समृद्ध इतिहास है। हम इसे इस तरह से पुनर्निर्मित करने का इरादा रखते हैं कि पर्यटक और आगंतुक हमारे इतिहास को देख सकें।

Leave a Comment