स्टेबलकॉइन की मार्केट वैल्यू 30 दिनों में 9.5 अरब डॉलर बढ़ी, टॉप 10 कॉइन्स में आया Tether

जहां एक ओर क्रिप्टो मार्केट तेज़ी से नीचे गिर रही है, वहीं दूसरी ओर, पिछले 30 दिनों में कथित तौर पर स्टेबलकॉइन की सप्लाई 9.5 अरब डॉलर बढ़कर कुल 180 अरब डॉलर तक पहुंच गई है। एक रिसर्च फर्म कहती है कि BTC को हटा दिया जाए, तो वर्तमान में स्टेबलकॉइन्स ने क्रिप्टो की तुलना में लोगों का ध्यान अपनी ओर खींच रखा है। फरवरी के महीने में, Tether (USDT), USD Coin (USDC) और BUSD स्टेबलकॉइन्स के पास कुल मार्केट कैप का 9% हिस्सा है।CoinTelegraph की रिपोर्ट में दो क्रिप्टो रिसर्च आउटलेट Arcane Research और CryptoRank की लेटेस्ट रिसर्च का हवाला देते हुए बताया गया है कि पिछले 30 दिनों में 6% की बढ़ोतरी के साथ, स्टेबलकॉइन्स (Stablecoins) में हो रही ग्रोथ बाकी क्रिप्टो मार्केट को पीछे छोड़ रही है। मार्केट में उतार-चढ़ाव के समय में, स्टेबलकॉइन खास एसेट या एल्गोरिदम के साथ कीमत में स्थिरता प्रदान कर सकते हैं।

दोनों रिसर्च आउटलेट पुष्टि करते हैं कि स्टेबलकॉइन सप्लाई ने $180 बिलियन (लगभग 13.59 लाख करोड़ रुपये) का मील का पत्थर पार कर लिया है। रिसर्च बताती है कि फरवरी के महीने में, तीन स्टेबलकॉइन्स का कुल मार्केट कैप में 9% हिस्सा रहा है, जिनमें Tether (USDT), USD Coin (USDC) and BUSD शामिल हैं। ये तीनों स्टेबलकॉइन्स मार्केट कैप के लिहाज से टॉप 10 कॉइन्स में शामिल हो गए हैं।

इसके अलावा, आर्कन रिसर्च कहती है कि जहां एक ओर 44% मार्केट हिस्सेदारी के साथ सबसे बड़ा स्टेबलकॉइन, USDT पिछले साल के दौरान स्टेबल रहा, वहीं, 2022 में USDC 20% की बढ़ोतरी के साथ आगे बढ़ रहा है।

CoinTelegraph की एक अन्य रिपोर्ट में बताया गया है कि बुधवार को मार्केट कैप के हिसाब से सबसे बड़े स्टेबलकॉइन Tether के लिए एक अच्छी खबर आई थी, जहां Tether ने अपने लेटेस्ट रिजर्व सत्यापन में कमर्शियल पेपर के लिए अपने एक्सपोज़र को 21% तक कम कर दिया है। साथ ही, रिपोर्ट में कहा गया है कि टीथर की “कंसोलिडेटेड एसेट्स उसकी कंसोलिडेटेड लायबिलिटीज से अधिक है।”

Leave a Comment