बेअदबी केस में कार्रवाई करने के लिए SIT ने उठाया अगला क़दम


The News Air- (चंडीगढ़) पंजाब में श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के केस में आज डेरा सच्चा सौदा के प्रबंधकों से पूछताछ होगी। पंजाब पुलिस की स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (SIT) टीम डेरे के हेडक्वार्टर सिरसा जा रही है। SIT को IG एसपीएस परमार लीड कर रहे हैं। डेरा सच्चा सौदा पहुंचकर टीम डेरे की चेयरपर्सन विपासना इंसां और सीनियर वाइस चेयरमैन डॉ. पीआर नैन से पूछताछ करेगी। इन दोनों को SIT ने पूछताछ के लिए लुधियाना बुलाया था। लेकिन वह सेहत कारणों का हवाला देकर नहीं आए। एसआईटी 3 बार उन्हें समन कर चुकी है।

राम रहीम ने प्रबंधकों पर डाली थी ज़िम्मेदारी

फरीदकोट के गांव बुर्ज़ जवाहर सिंह वाला में हुए बेअदबी मामले में कुछ दिन पहले SIT ने रोहतक की सुनारिया जेल जाकर बाबा राम रहीम से पूछताछ की थी। राम रहीम से 114 सवाल पूछे गए थे। इनमें डेरे की कमाई, प्रॉपर्टी, नोटबंदी के दौरान पुरानी करेंसी बदलवाने समेत पूरे कामकाज के बारे में राम रहीम ने ज़िम्मेदारी मैनेजमेंट कमेटी पर डाली थी। राम रहीम ने कहा था कि वह सिर्फ़ सत्संग करने तक सीमित हैं। बाकि डेरे की देखरेख से लेकर हर तरह का हिसाब मैनेजमेंट कमेटी देखती है। इसके बाद SIT ने पूछताछ के लिए डेरा प्रबंधकों को बुलाया था।

पहले बेअदबी आई सामने

बुर्ज़ जवाहर सिंह वाला से श्री गुरु ग्रंथ साहिब की चोरी का मामला 1 जुलाई 2015 का है। फरीदकोट ज़िले में बरगाड़ी से 5 किलोमीटर दूर स्थित गांव बुर्ज़ जवाहर सिंहवाला के गुरुद्वारे से गुरु ग्रंथ साहिब का पावन स्वरूप चोरी हो गया था। इसके बाद 24 सितंबर 2015 को बरगाड़ी में गुरुद्वारे के पास हाथ से लिखे दो पोस्टर लगे मिले। आरोप है कि पंजाबी भाषा में लिखे इन पोस्टरों में अभद्र भाषा इस्तेमाल की गई और पावन स्वरूपों की चोरी में डेरा सच्चा सौदा का हाथ होने की बात भी लिखी गई। 12 अक्टूबर 2015 को बुर्ज़ जवाहर सिंहवाला की गलियों में पावन स्वरूप के अंग बिखरे मिले।

फिर फायरिंग में 2 लोगों की मौत हुई

इसके बाद 14 अक्टूबर को फरीदकोट के गांव बहबलकलां में धरना दे रही संगत को हटाने के दौरान पुलिस द्वारा की गई फायरिंग में दो लोगों की मौत हो गई। उसी दिन कोटकपूरा में भी धरना लगाकर बैठे सिख समुदाय के लोगों पर पुलिस ने लाठीचार्ज और फायरिंग की।

CBI समेत 3 SIT कर चुकी जांच

साल 2015 में बेअदबी का मामला गर्मा गया और 2017 के पंजाब विधानसभा के चुनाव में यह सबसे बड़ा मुद्दा बना। अब तक इस मामले की जांच CBI के अलावा पंजाब पुलिस की दो SIT और एक कमीशन कर चुका है। लेकिन बेअदबी करने वाले असली दोषियों के नाम सामने नहीं आ पाए हैं।

अब पंजाब सरकार की SIT ने इस मामले में पहली बार पूछताछ के लिए राम रहीम का प्रोडक्शन वारंट मांगा था। लेकिन हाईकोर्ट ने उन्हें जेल में जाकर पूछताछ के आदेश दिए।


Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

I Have Disabled The AdBlock Reload Now
Powered By
CHP Adblock Detector Plugin | Codehelppro