पंजाब कांग्रेस प्रभार छोड़ने का मन बना चुके रावत ने अब कहा- हाईकमान जब तक कहेगा, संभालूंगा पंजाब की ज़िम्मेदारी

नई दिल्ली, 28 अगस्त (The News Air)
कांग्रेस के महासचिव और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने शनिवार को कहा कि कांग्रेस पार्टी जब तक चाहेगी, वह पंजाब प्रभारी की ज़िम्मेदारी संभालेंगे. यह बात उन्होंने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाक़ात के बाद कही. राहुल गांधी से मुलाक़ात के पहले तक ये संभावनाएं ज़ाहिर की जा रही थीं कि कांग्रेस के पंजाब प्रभारी की ज़िम्मेदारी छोड़ने के बारे में हरीश रावत बातचीत करेंगे क्योंकि वह उत्तराखंड के विधानसभा चुनाव के लिए समय देना चाहते हैं. हालांकि इस बारे में अभी कोई निर्णयात्मक बयान नहीं आया है, लेकिन रावत ने कहा, ‘कांग्रेस में पार्टी आलाकमान जो तय करता है, वही अंतिम निर्णय होता है. मुझसे जब तक कहा जाएगा, मैं ज़िम्मेदारी निभाऊंगा.’
इससे पहले शनिवार को राहुल गांधी के साथ हरीश रावत की मुलाक़ात को लेकर काफ़ी उत्सुकता का माहौल रहा. मुलाक़ात से पहले जब रावत से पूछा गया था कि पंजाब इनचार्ज के तौर पर क्या वह अपनी पारी जारी रखेंगे, तो उन्होंने कहा था कि वह इस बारे में पार्टी से ज़रूर बात करेंगे कि उन्हें इससे समय दिया जाए. इससे पहले भी रावत ने अपने स्वास्थ्य और उत्तराखंड चुनाव पर फोक्स करने के लिहाज़ से पंजाब प्रभार से छुटकारा चाहने की बात कही थी.
हरीश रावत के बयान के बारे में एएनआई ने ट्वीट किया।

tweet ani rawat

‘कैप्टन और सिद्धू विवाद की रिपोर्ट दी’- राहुल गांधी से मीटिंग के बाद रावत ने प्रेस से बात करते हुए बताया कि पंजाब कांग्रेस के हालात को लेकर उन्होंने गांधी को जानकारियां दीं. ये वही जानकारियां थीं जो रावत ने शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ मुलाक़ात के दौरान दी थीं. रावत ने कहा कि राहुल गांधी के साथ उनकी मुलाक़ात काफ़ी संक्षिप्त रही. वास्तव में, रावत पंजाब कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच चल रहे मनमुटाव व विवादों को निपटाने के लिए काम कर रहे हैं.

Leave a Comment