राम रहीम ने दिए 114 सवालों के जवाब, हनीप्रीत, गुफ़ा और डेरे को लेकर क्या दिए जवाब पढ़ें

The News Air- फरीदकोट में श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के मामले में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम से 114 सवाल पूछे गए थे। पंजाब पुलिस की स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (SIT) ने रोहतक की सुनारिया जेल में यह पूछताछ की थी। हालांकि बेअदबी के हर सवाल पर राम रहीम ने इनकार करता रहा।

SIT ने जांच को आगे बढ़ाते हुए डेरे की चेयरपर्सन उपासना इंसा और वाइस चेयरमैन पंकज नैन को भी नोटिस भेज दिया है। राम रहीम से पूछताछ में मिले जवाबों के बाद अब इनसे भी आगे की पड़ताल की जाएगी।


पढ़िए .. राम रहीम से सवाल और उनके जवाब

सवाल : जाम-ए-इंसा करने का क्या मक़सद था, गुरु गोबिंद सिंह की नक़ल किस मक़सद से की। इसकी सलाह किसने दी?

जवाब : किसी ने कोई सलाह नहीं दी।


सवाल : जाम-ए-इंसा पिलाने के लिए माफ़ी मांगने के लिए किसने कहा, क्या उस माफ़ी नामे पर आपके साइन हैं?
जवाब : मुझे चारों धर्मों के कुछ पैरोकार मिले थे। उनके कहने पर माफ़ी माँगी। मैं उनके नाम नहीं जानता।


सवाल : बठिंडा में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का केस दर्ज़ हुआ था। उसमें जो पोशाक कब्ज़े में ली गई थी, वह अब कहां है?
जवाब : वह पुलिस के पास होगी।


सवाल : अपने समधी हरमिन्दर जस्सी को क्यों मरवाना चाहता था, मौड़ बम ब्लास्ट का क्या मक़सद था?
जवाब : यह ग़लत है, मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं।


सवाल : खट्‌टा सिंह के बाद तुम्हारा ड्राइवर कौन था?
जवाब : फूल मेरा ड्राइवर रहा है। खट्‌टा सिंह कभी मेरा ड्राइवर नहीं रहा।


सवाल : तुम्हारी फ़िल्में किस बैनर में बनती थी, उससे कितना पैसा कमाया?
जवाब : यह हक़ीक़त एंटरटेनमेंट के बैनर तले बनीं, कमाई के बारे में दर्शन सिंह बता सकता है। इसके रिकॉर्ड के बारे में मुझे कुछ नहीं पता।


सवाल : डेरे की कुल कितनी संपत्ति है?
जवाब : मुझे नहीं पता, मैनेजमेंट बता सकती है।


सवाल : डेरे में कोई अलग करंसी चलती थी?
जवाब : कूपन के बारे में सुना था, अलग करंसी के बारे में कमेटी बता सकती है।


सवाल : डेरे की ज़मीन पर फैक्ट्री कैसे लगी, इनका मालिक कौन है?
जवाब : मुझे नहीं पता, मैनेजमेंट बता सकती है।


सवाल : डेरे के कुल कितने श्रद्धालु हैं?
जवाब : 5-6 करोड़ श्रद्धालु हैं।


सवाल : डेरे में कोई चढ़ावा नहीं चढ़ता, फिर इतना पैसा कहां से आया?
जवाब : खेतीबाड़ी और कैंटीन की इनकम से, बाकी मैनेजमेंट बता सकती है।


सवाल : परमार्थ इकट्‌ठा करने का क्या प्रोसेस है?
जवाब : मानवता और सृष्टि की भलाई के लिए संगत को अपने घर से रोज़ 1-1 रुपए निकालकर लगाया जाता है। इसे ही परमार्थ कहा जाता है।


सवाल : डेरा सच्चा सौदा कोई रजिस्टर्ड ट्रस्ट या सोसाइटी है, इसके दस्तावेज़ कहां से मिलेंगे?
जवाब : शाह सतनाम जी के नाम पर रजिस्टर्ड है। काग़ज़ात मैनेजमेंट से मिल सकते हैं।


सवाल : डेरे के नाम पर कितने बैंक अकाउंट हैं, उनसे पैसे कौन निकाल सकता है?
जवाब : मैनेजमेंट बता सकती है।


सवाल : डेरे का चार्टेड अकाउंटेंट कौन है, जिसके पास डेरे का हिसाब-क़िताब रहता है?
जवाब : मैनेजमेंट बता सकती है।


सवाल : गुफ़ा का क्या मतलब है, इसके बनाए जाने का क्या कारण है?
जवाब : शाह मस्ताना जी गहरी गुफ़ा में रहते थे। शाह सतनाम जी चौबारे में रहते थे। जो गोल आकार की थी, उसे ही गुफ़ा कहा जाता है। गद्दी मिलने पर मैंने उसका नाम तेरा वास रख दिया। इस जगह पर परिवार और लांगरी को आने की इजाज़त है।


सवाल : डेरे में नपुंसक किस वजह से बनाए जाते थे?
जवाब : इस बारे में मुझ पर केस चल रहा है लेकिन यह झूठा आरोप है।


सवाल : हनी प्रीत कौर कौन है? इसकी अडॉप्शन के लिए कोई डॉक्यूमेंट बनवाया या नहीं?
जवाब : इसका ससुराल वालों के साथ झगड़ा चलता था। जो परिवार समेत डेरे में आती थी। हमने उसे धर्म की बेटी बना लिया।


सवाल : आपने ख़ुद चिट्‌ठी लिख सिक्योरिटी का ज़िम्मा लिया था कि पैरोल पर जा सको, पर अब पंजाब जाने के लिए सिक्योरिटी का बहाना बना रहे हो?
जवाब : चिट्‌ठी के बारे में मुझे याद नहीं, मैं सरकारी सिक्योरिटी के साथ ही जेल से बाहर गया था। पंजाब में जाने पर मुझे जान का ख़तरा है। कई आतंकवादी संगठनों ने पहले भी मुझे मारने की कोशिश की है।


सवाल : डेरे ने राजनीति में हिस्सा लेना कब शुरू किया, इसकी क्या ज़रूरत थी?
जवाब : मैंने इस बारे में कोई फ़ैसला नहीं लिया। संगत ही फ़ैसला लेती है।


सवाल : नोट बंदी के दौरान पुरानी करंसी बदलवाने का क्या तरीक़ा अपनाया गया?
जवाब : मैनेजमेंट ही बता सकती है।


सवाल : तुम्हारी दूसरी फ़िल्म MSG 2 का 18 सितंबर 2015 को रिलीज होना और 24 सितंबर को अकाल तख़त की तरफ़ से माफ़ी देना का क्या संबंध है?
जवाब : यह चिट्‌ठी दर्शन सिंह मेरे पास लेकर आया था। मैंने ही उस पर दस्तख्त किए थे।


सवाल : फ़िल्म MSG 2 के पंजाब में चलने पर माफ़ी वापस क्यों ले ली गई?
जवाब : इस बारे में मुझे दर्शन सिंह ने बताया लेकिन कारण पता नहीं, दर्शन सिंह बता सकता है।


सवाल : अमरीक सिंह नाम का कोई PSO रहा है?
जवाब : मुझे इस बारे में पता नहीं।


सवाल : आपने हर जवाब में कहा कि मैनेजमेंट फ़ैसला लेती थी? इसका मतलब मैनेजमेंट ने आपके नाम का दुरुपयोग किया?
जवाब : अगर मैनेजमेंट ने कुछ ग़लत किया होगा तो वह ख़ुद ज़िम्मेदार होगी।


सवाल : सिख प्रचारक बलजीत दादूवाल, पंथ प्रीत, ढडरियांवाला और हरजिंदर के साथ संबंध कैसे थे?
जवाब : इनमें से कोई भी मुझे नहीं मिला। न ही मैं इन्हें व्यक्तिगत तौर पर जानता हूं। घुकियांवाली में हमारी गाड़ी पर अटैक हुआ। ड्राइवर फूल ने कहा था कि इसमें दादूवाल का हाथ हो सकता है।


सवाल : बरगाड़ी में श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के बारे में किसने बताया?
जवाब : मुझे इस बारे में दर्शन सिंह ने बताया, जब मैं सत्संग करने जा रहा था। मैंने कहा था कि यह बहुत निंदनीय काम है। यह नहीं बताया गया कि किसने की है।


सवाल : बुर्ज़ जवाहर सिंह वाला में दीवानों में डेरे के लॉकेट उतरवाए गए, इस बारे में किसने बताया? आपका क्या रिएक्शन था?।
जवाब : मुझे आज तक जानकारी नहीं थी, आपने ही बताया। परमात्मा उन्हें सद्बुद्धि बख़्शे।


सवाल : डेरे के लॉकेट उतरवाने पर अब क्या एक्शन होगा?
जवाब : इस बारे में किसी को कुछ नहीं कहना चाहते।


सवाल : आप किस धर्म ग्रंथ को मानते हो? क्या श्री गुरु ग्रंथ साहिब की जानकारी है?
जवाब : गुरू साहिबानों की पवित्र वाणी श्री गुरु ग्रंथ साहिब, पवित्र गीता, रामायण, पवित्र बाइबल और पवित्र क़ुरान शरीफ़। हमारे यहां किसी का भी प्रकाश नहीं है। हम हमारे गुरुजी की लिखी डायरी, पवित्र दोहे और बाणी पढ़ते थे।


सवाल : आपने चारों धर्मों का नाम गुरमीत राम रहीम सिंह रखा। क्या किसी धर्मों के चिह्नों को अपनाया?
जवाब : हम सभी धर्मों का सत्कार करते हैं, इसलिए यह नाम रखा। किसी धर्म का चिन्ह धारण नहीं किया।


सवाल : जिन्होंने आपके कहने पर श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी बेअदबी की, उन्हें क्या इनाम दिया? इनाम नहीं दिया तो किस-किस के अकाउंट में पैसे डलवाएं?
जवाब : मैंने किसी को इनाम नहीं दिया, न ही अकाउंट में पैसे डलवाने की जानकारी है।


सवाल : बेअदबी करने के पीछे क्या मक़सद था, क्या वह हल हुआ?
जवाब : हमने कोई बेअदबी नहीं की। न ही किसी को ऐसा करने का आदेश दिया था।


सवाल : बेअदबी करने में किसका हाथ है?
जवाब : मुझे इस बारे में कुछ पता नहीं।


सवाल : सिख धर्म, प्रचारकों और श्री गुरु ग्रंथ साहिब के प्रति भद्दी शब्दावली वाले पोस्टर लगाने का प्लान किसका था?
जवाब : मुझे इस बारे में कोई जानकारी नहीं।


सवाल : धन धन सतगुरु तेरा ही आसरा डेरा सच्चा सौदा का नारा है, इसे पोस्टरों में लिखने का क्या मक़सद था?
जवाब : एक-दूसरे के सत्कार के लिए इस्तेमाल करते थे। पोस्टरों में लिखने के बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं।


सवाल : आप धार्मिक गुरु हो और सभी धर्मों के अध्ययन की बात कहते हो, फिर बेअदबी करने के लिए अपने चेलों को क्यों कहा?
जवाब : मैंने इस बारे में किसी को नहीं कहा।

(बेअदबी से जुड़े सभी आरोपों पर राम रहीम ने इनकार कर दिया। वहीं, डेरे के कामकाज को लेकर पूरी ज़िम्मेदारी मैनेजमेंट पर डाल दी। पंजाब पुलिस की SIT दोबारा रोहतक की सुनारिया जेल जाकर पूछ सकती है।)

Leave a Comment