पंजाब पुलिस ने विदेशी पिस्तौलों की बड़ी खेप किया ज़ब्त, एक कथित आतंकवादी व हथियारों का तस्कर किया काबू

चंडीगढ़, 11 जून:

पंजाब पुलिस ने गुरूवार की रात को विदेशी पिस्तौलों की एक बड़ी खेप बरामद की है और हथियारों की तस्करी करने वाले एक व्यक्ति को गिरफ़्तार किया है, जो कथित तौर पर पाकिस्तान-आधारित आतंकवादी संगठनों और अमरीका, कनाडा और यूके आधारित भारत विरोधी खालिस्तानी तत्वों के साथ जुड़े हुआ था और एक यूएसए आधारित हैंडलर के निर्देशों पर गतिविधियों को अंजाम देता था। 

डीजीपी दिनकर गुप्ता ने आज ज़ब्त किए गए हथियारों का विवरण देते हुए खुलासा किया कि यह हथियार भारत के विभिन्न हिस्सों में आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए इस्तेमाल किए जाने थे।

गुप्ता ने बताया कि जगजीत सिंह उर्फ जग्गू (25 साल) निवासी पुरीयां कलाँ, थाना सदर बटाला, जि़ला बटाला को गुरूवार रात को पंजाब इंटरनल सिक्योरिटी विंग एस.एस.ओ.सी. अमृतसर की टीम ने अमृतसर के कथूनंगल के पास से गिरफ़्तार किया था। एक इनटैलीजैंस ऑप्रेशन में, एस.एस.ओ.सी. अमृतसर ने कथूनंगल गाँव, अंमृतसर-बटाला रोड पर एक ख़ास पुलिस नाका लगाकर रजिस्ट्रेशन नंबर पी.बी.-06-ए.एन.-7016 वाली एक आई-20 कार का पीछा करते हुए उसे रोका।

पुलिस टीम ने कार में से दो नाईलॉन बैग बरामद किए, जिनमें अलग-अलग देशों और बोर वालीं 48 विदेशी पिस्तौलों समेत मैगज़ीन और कारतूस थे। इसमें 19 पिस्तौल 9 एम.एम. (जिग़ाना-तुर्की में बने) समेत 37 मैगज़ीन और 45 कारतूस; 9 पिस्तौल .30 बोर (चीन में बने) समेत 22 मैगज़ीन; 19 पिस्तौल .30 बोर (स्टार मार्क) समेत 38 मैगज़ीनें और 148 कारतूस और 1 पिस्तौल 9 एम.एम. (बरेटा-इटालियन) समेत 2 मैगज़ीनें शामिल थीं।

हथियारों की तस्करी के संबंधों के बारे में विवरण देते हुए डीजीपी ने बताया कि प्राथमिक पड़ताल से पता लगा है कि जगजीत को एक पुराने गैंगस्टर अपराधी दरमनजोत सिंह उर्फ दरमनजोत काहलों ने हथियारों की यह खेप एकत्र करने के लिए निर्देश दिया था। दरमनजोत, जोकि अब यू.एस.ए. में रह रहा है, जगजीत सिंह के संपर्क में था। जि़क्रयोग्य है कि दुबई में 2017 से दिसंबर 2020 तक रहने के दौरान, जगजीत दरमनजोत काहलों के संपर्क में था, जिसने उसको अपने इस काम के लिए प्रेरित किया था।

डीजीपी ने कहा कि इस तस्करी रैकेट के मास्टर माइंड दरमनजोत ने जगजीत को हथियारों की खेप एकत्र करने और छिपाने और पिस्तौलों की डिलीवरी के लिए अगले निर्देशों का इंतज़ार करने के लिए कहा था। उन्होंने आगे बताया कि दरमनजोत सिंह उर्फ दरमनजोत काहलों, जो पंजाब में एक भगौड़ा घोषित किया गया है, के ओपन-एंडेड वॉरंट जारी किए गए हैं।

दरमनजोत सिंह उर्फ दरमनजोत काहलों, जोकि वास्तव में गाँव तलवंडी खुम्मण, थाना कथूनंगल, अमृतसर का रहने वाला है, गिरफ़्तारी से बचने के लिए साल 2017 में यूएसए फऱार होने से पहले पंजाब में हुई कई आपराधिक गतिविधियों में शामिल था। उसने बदनाम गैंगस्टर हरविन्दर सिंह उर्फ मन्नू को 2017 में पुलिस हिरासत में से फऱार होने में भी सहायता की थी। बताने योग्य है कि उसने अपने साथियों के साथ मिलकर पुलिस एस्कॉर्ट पार्टी पर हमला कर दिया और हरविन्दर सिंह उर्फ मन्नू को भगाने में कामयाब हो गया था। इस सम्बन्धी 12.06.2017 को थाना सिविल लाईन बटाला में एफआईआर दर्ज की गई थी और दरमनजोत को जनवरी, 2020 में जे.एम.आई.सी. बटाला की अदालत ने भगौड़ा (पी.ओ.) घोषित किया था।

साल 2020 में, अमरीका में रहने के दौरान, दरमनजोत सिंह ने भारत विरोधी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए ग़ैर कानूनी हथियार खरीदने के लिए पंजाब में एक आपराधिक समूह को 2 लाख रुपए की राशी भेजी थी। उसके आपराधिक समूह के 10 सदस्यों को एस.एस.ओ.सी. अमृतसर ने गिरफ़्तार किया था और उनसे 07 पिस्तौल .32 बोर बरामद किए गए थे। इस केस में थाना एस.एस.ओ.सी. अमृतसर द्वारा 10.11.2020 को एफआईआर दर्ज की गई थी।

डीजीपी ने बताया कि पिछली रात को की गई इस बरामदगी सम्बन्धी एक एफआईआर तारीख़ 10.5.2021 को गैर-कानूनी गतिविधियों (रोकथाम) एक्ट (यू.ए.पी.ए) की धारा 13, 17, 18, 18-बी, 20, आइपीसी की धारा 120, 120-बी और आम्र्स एक्ट की धारा 25 के अंतर्गत थाना एस.एस.ओ.सी., अमृतसर में दर्ज की गई है। उन्होंने कहा कि पूरे रैकेट का पता लगाने के लिए अगली जांच जारी है।

पंजाब पुलिस, जिसने शांति, सांप्रदायिक सद्भावना और राज्य के माहौल को खऱाब करने की कोशिश वाले पाक स्पॉन्सर्ड आतंकवादी तत्वों के नापाक मंसूबों के खि़लाफ़ सख़्त मुहिम शुरु की है, ने पिछले 4 सालों के दौरान 44 आतंकवादी मोड्यूलों का पर्दाफाश किया है। इसके अलावा, इस समय के दौरान 283 आतंकवादी/ अपराधी गिरफ़्तार किए गए हैं और 21 राईफल्स, 163 रिवॉल्वर/पिस्तौल, 38 ग्रेनेड, 10 ड्रोन, 5 सैटेलाइट फ़ोन, 2 वॉकी-टॉकी सैट और आर.डी.एक्स. ज़ब्त किए गए हैं।

Leave a Comment