कांग्रेस सरकार प्रमुख शहरों में कोविड सेंटरों की कमान वेस्टर्न कमान को सौंपें

चंडीगढ़,14 मई

शिरोमणी अकाली दल के नेता तथा पूर्व सांसद प्रो. चंदूमाजरा ने कांग्रेस सरकार से मांग की है कि वह मोहाली, लुधियाना, जालंधर, अमृतसर और बठिंडा स्थित कोविड सेंटरों को सेना की वेस्टर्न कमान को सौंप दें क्योंकि राज्य सरकार की मेडिकल सुविधाएं चलाने की क्षमता के प्रति लोगों ने पूरी तरह से विश्वास खो दिया है।

यहां एक प्रेस बयान जारी करते हुए प्रो. चंदूमाजरा ने कहा कि संकट की इस घड़ी में लोगों की जान बचाना ही प्रमुख लक्ष्य होना चाहिए। ‘ महामारी की दूसरी लहर ने पंजाबियों को बहुत बुरी तरह से प्रभावित किया है तथा अगर सरकार इस स्थिति से निपटना चाहती है तो यह बेहतर रहेगा कि  प्रमुख कोविड सेंटरों को सेना की वेस्टर्न कमान को  सौंप दें।

पूर्व सांसद ने कहा कि वेस्टर्न कमान के डाक्टरों और मेडिकल स्टाफ ने पटियाला के राजिंदरा अस्पताल के 100 बेड के सुपर स्पेशलिटी विंग को संभालते हुए बहुत अच्छा काम किया है। ‘ इसे राज्य के अन्य प्रमुख शहरों में भी इसी तरह के पैटर्न पर कोविड उपचार सुविधाएं सौंपी जानी चाहिए। लोगों द्वारा यह  मांग की जा रही है क्योंकि उन्होने पटियाला में सेना की चिकित्सा  सेवाएं देखकर संतोष व्यक्त किया है।

प्रो. चंदूमाजरा ने सरकार से 660 करोड़ रूपये जोकि राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन कोष से राज्य के लिए निर्धारित किए गए थे को भी खर्च करने के लिए कहा है ताकि लोगों को बहुत जरूरी आर्थिक राहत प्रदान की जा सके। उन्होने कहा कि सभी ट्रक चालकों के साथ टैक्सी और आॅटो चलाने वालो को 5000 रूपये आर्थिक सहायता और मजदूरों और खेत मजदूरों को 3000 रूपये की आर्थिक सहायता दी जानी चाहिए। उन्होने कहा कि इसी तरह हाल ही में काटी गई गेंहू की उपज पर 100 रूपये प्रति क्ंिवटल बोनस दिया जाना चाहिए। उन्होने इस बात की वकालत की कि बिजली और पानी के दो महीने के बिलों को तुरंत माफ किया जाए और सरकार को अगले छह महीने तक इस सुविधा को आम आदमी तक पहुंचाना चाहिए।

प्रो. चंदूमाजरा ने प्रदेश सरकार से वैक्सीन के लिए ग्लोबर टेंडर जारी कर वैक्सीनेशन प्रक्रिया में तेजी लाने को भी कहा है। उन्होने कहा कि सरकार को निजी अस्पताल में जीवन रक्षक दवाओं की कालाबाजारी पर भी लगाम लगानी चाहिए।

Leave a Comment