भारी बारिश से किसानों के टेंट व ट्रॉलियां में भारी नुकसान, किसानों का सब्र न परखें सरकार

नई दिल्ली, 19 मईः

आज सुबह से ही भारी बारिश से दिल्ली मोर्चो में भारी नुकसान हो रहा है। किसानों के लंगर व रहने के प्रबंधन में अव्यवस्था आयी है। सड़को व ढलान वाली जगहों पर पानी भर आया है। 

6546

हालांकि बारिश अभी जारी है व आने वाले समय ने भी मौसम विभाग ने संभावना जताई है, किसानों ने स्थिति को संभालने की कोशिश कर दी है। कल ही सभी किसानों को बारिश की संभावना का संदेश दे दिया गया था। बारिश का असर जितना ज्यादा है, उतना ही बड़ा किसानों का हौंसला है। उपलब्ध संसाधनों की मदद से स्थिति को संभाला जा रहा है। सरकार की तरफ से कोई प्रबंध नहीं होने से किसान खुद ही इन हालातों से लड़ रहे है।

1 6

इतने लंबे समय से लड़ रहे संघर्ष में किसानों ने शांतिपूर्ण तरीके से अपनी मांगों को रखा है। सरकार ने किसानों को बदनाम करने की तमाम कोशिशें की परंतु असफल रही। देश मे किसी फसल या राज्य में उत्पादन या निर्यात बढ़ने का पूरा श्रेय सरकार लेती है। किसानों के कल्याण का दिखावा करने वाली सरकार आज दिल्ली की सीमाओं पर हो रहे हर मानवीय और अन्य नुकसान की भी जिम्मेदारी ले। भाजपा का यह दोगला चरित्र अब सबने सामने आ गया है।

22

किसान आंदोलन में अब तक 470 से ज्यादा किसान शहीद हो गए है। अनेक आंदोलनकारियो को अपनी नौकरी, पढ़ाई व काम छोड़ने पड़े है। इन सबके बावजूद सरकार का ऐसा रवैया यह बताता है कि सरकार कितनी अमानवीय है व बेफिक्र है। सरकार अगर अपने नागरिको की फिक्र करती है व उनका कल्याण चाहती है तो किसानों से बातचीत शुरू कर उनकी मांगें मान लेनी चाहिए।

baba

हिसार में किसानों पर हमले के बाद गुस्साए किसानों ने मय्यड़ टोल प्लाजा, जिला हिसार पर बरवाला विधायक जोगीराम सिहाग की गाड़ी रोककर भारी विरोध किया।

88

विधायक से दोनों हाथ जुड़वा कर माफी मंगवाई गयी और माफी मांगने के बाद ही विधायक को वहां से जाने दिया। यह बताता है कि किसानों के हौसले बुलंद है, उन्हें किसी भी हमले से डर नहीं लगता और वे भाजपा-जजपा को सबक सिखायेंगे।

Leave a Comment