कोरोना की रफतार पड़ी धीमी, पर अब बच्चे भी चपेट में आ रहे

The News Air- (पश्चिम बंगाल में बढ़ती कोरोना की रफतार में भले ही कमी आई हो, लेकिन अब इसकी चपेट में बच्चे भी आ रहे हैं। राज्य में पिछले दो हफ़्तों में कोरोना के जो मामले सामने आए हैं, उनमें बच्चों की संख्या अधिक है। इन बच्चों में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) लक्षण वाले कोरोना के गंभीर लक्षण पाए गए हैं।

राज्य के अधिकतर अस्पतालों में भर्ती हुए कोरोना से संक्रमित लोगों में बच्चों की संख्या अधिक है। वहीं, अस्पताल में भर्ती एक बच्चे की अचानक तबीयत ख़राब हो जाने के कारण मौत हो गई है।

बच्चों पर विशेष ध्यान देने की ज़रूरत

एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम लक्षण वाले कोविड पॉजिटिव बच्चों में निमोनिया के भी गंभीर लक्षण देखे गए हैं, जिसके बाद उन्हें पीडियाट्रिक इंटेंसिव केयर यूनिट्स (PICU) में रखा गया है। जो बच्चे कोविड पॉजिटिव पाए गए हैं, उनमें से अधिकांश की उम्र 8 से 14 साल के बीच है।

डॉक्टरों की माने तो, जो बच्चे पीआईसीयू में भर्ती हैं उन्हें रिकवर होने में समय लग सकता है। तीसरी लहर के दौरान बच्चों पर विशेष ध्यान देने की ज़रूरत है। बता दें कि इसके पहले दो वेब के दौरान बच्चों में काफ़ी हद तक कोरोना के हलक़े लक्षण देखे गए थे।

पश्चिम बंगाल में एक्टिव केस में 11,644 की कमी

पश्चिम बंगाल में गुरुवार को 3,608 नए केस मिले हैं। इस दौरान 15,216 मरीज़ ठीक हुए, जबकि 36 लोगों की मौत हुई है। यहां बुधवार को 4,969 नए केस मिले थे और 34 लोगों की मौत हुई थी। राज्य में अब तक कुल 19.82 लाख केस मिले हैं, जबकि 19.06 लाख लोग रिकवर हो चुके हैं। कुल 20,481 लोगों की मौत हुई है।

एक्टिव केस 55,725 है। बीते दिन एक्टिव केस में 11,644 की कमी आई है। यहां पॉजिटिविटी रेट 9.02% है।

देश में कोरोना पर एक नज़र

कुल कोरोना केस: 4,06,22,366
कुल रिकवरी: 3,80,13,481
कुल मौतें: 4,92,324

Leave a Comment