Vaccine Mixing:जब मिल बैठेंगी कोविशील्ड और कोवैक्सिन; तो Corona पर होगा ‘डबल वार’

नई दिल्ली, 11 अगस्त (The News Air)
ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया (DCGI) ने कोविशील्ड (Covishield) और कोवैक्सीन (Covaxin) की मिक्सिंग(Vaccine Mixing) को हरी झंडी दे दी है। स्टडी बताती है कि दोनों वैक्सीन के मिश्रण से तैयार नई वैक्सीन कोरोना संक्रमण में अधिक प्रभावी है। सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी ने जुलाई में इसे लेकर स्टडी की सिफ़ारिश की थी। नीति आयोग(Niti Aayog) के वीके पॉल ने बताया कि इसकी स्टडी तमिलनाडु के वेल्लूर में स्थित क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज में होगी। 
लंबे समय से चल रही थी इस दिशा में कोशिश-29 जुलाई को सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (CDSCO) की एक सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमेटी ने  कोविशील्ड (Covishield) और कोवैक्सीन (Covaxin) की मिक्सिंग (Vaccine Mixing) की सिफ़ारिश की थी। इससे पहले इसी तरह की स्टडी इंडियन काउंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च ने भी की थी। ICMR का मानना है दो वैक्सीन का मिश्रण बेहतर रिजल्ट देगा।
कोविड-19 की 2 वैक्सीन मिलाने से मिलता है बेहतर रिजल्ट– हाल में Oxford ने भी एक रिसर्च की थी। इसमें दावा किया है कि कोरोनावायरस से बचने के लिए अगर दो वैक्सीन को मिलाया जाए, तो इसके बेहतर रिजल्ट मिलते हैं। यह स्टडी 600 लोगों पर की गई थी। हाल ही में ‘कॉम-कोव परीक्षण’किया गया। जिसमें कहा गया कि, ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रोजेनेका (Oxford-AstraZeneca) और फाइजर-बायोएनटेक (Pfizer-BioNTech) की वैक्सीन पूरी दुनिया के लोगों को कोरोना से बचाने में काफ़ी ज़्यादा मदद कर रही हैं। रिसर्च के मुताबिक़, एस्ट्रॉजानिका और फाईजर वैक्सीन (Pfizer-AstraZeneca)की मिक्सिंग कोरोना से लड़ने के लिए इम्यूनिटी डेवलप करेगी। यानी दोनों वैक्सीन के मिक्सिंग से कोरोना के ख़िलाफ़ एंटीबॉडी का निर्माण बेहतर होगा। 
दरअसल, वैज्ञानिकों का कहना है कि इन टीकों के ‘मिक्सड’ शेड्यूल ने SARS-CoV2 स्पाइक IgG प्रोटीन के ख़िलाफ़ स्ट्रांग और जल्दी एंटीबॉडी डेवलेप किया। ऑक्सफोर्ड और फाइजर टीकों के ‘मिक्स एंड मैच’ कॉम्बिनेशन का ट्रायल करने के बाद बाद पता चला कि इस तरह की कोशिश कोविड से लड़ने में कारगर होगी। इससे कोरोना के ख़िलाफ़ उनकी इम्यूनिटी काफ़ी ज़्यादा बढ़ गई है। 600 लोगों पर किए गए शुरुआती ट्रायल्स में दो वैक्सीन को मिलाकर बनाई गई वैक्सीन (Vaccine) ने बेहतरीन रिजल्ट दिए हैं।
एक साथ कैसे ली जा सकती है वैक्सीन– Oxford के रिसर्च के अनुसार, इन दोनों ख़ुराक को चार हफ़्ते के बीच 4 हफ़्ते का गैप होना ज़रूरी है। वैक्सीन मिक्सिंग को लेकर उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी प्रोफेसर जोनाथन वान-टैम का कहना है ‘वैक्सीन की मिश्रित डोज़ लेना चार सप्ताह के बाद COVID-19 के ख़िलाफ़ सुरक्षा बढ़ाएगी।’

Leave a Comment