Uttarakhand Bus Accident: एयरफोर्स के विमान से मध्य प्रदेश पहुंचाए जाएंगे मृतकों के शव, अब तक 26 श्रद्धालुओं की मौत

उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले के डामटा में रविवार को एक बस के गहरी खाई में गिरने से उसमें सवार यमुनोत्री जा रहे मध्य प्रदेश के 26 श्रद्धालुओं की दर्दनाक मौत हो गई। हादसे के एक दिन बाद सोमवार को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के साथ घटनास्थल पर पहुंचे।

घटनास्थल का निरीक्षण करने के बाद शिवराज ने कहा कि मृतकों के शव जल्दी उनके घर पहुंचाने के लिए उन्होंने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से वायुसेना का विमान उपलब्ध कराने का अनुरोध किया था, जो स्वीकार कर लिया गया है।

सीएम शिवराज ने पत्रकारों से कहा कि हमारी कोशिश है कि हम श्रद्धालुओं के शव ससम्मान उनके घर पहुंचा दें। उन्होंने बताया कि रक्षा मंत्री ने वायुसेना के विमान की व्यवस्था कर दी है और हम सभी शवों को खजुराहो रवाना करेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि खजुराहो में हमारी गाड़ियां पहले से मौजूद रहेंगी, जो तीर्थयात्रियों के शव को तुरंत उनके गांव ले जाएंगी। हमारी कोशिश है कि हम पूरे सम्मान के साथ उनके शव को मध्य प्रदेश पहुंचा पाएं और आज ही उनका अंतिम संस्कार हो जाए।

उन्होंने कहा कि हादसे के बाद से वह लगातार धामी के संपर्क में थे और रविवार रात 12 बजे के करीब देहरादून पहुंच गए थे। शिवराज ने स्थानीय प्रशासन और लोगों का भी आभार जताते हुए कहा कि रात में ही खाई में बिखरे पड़े तीर्थयात्रियों के शव बाहर निकाल लिए गए और उनका पोस्टमार्टम करा दिया गया।

26 यात्रियों की मौत

आपको बता दें कि उत्तरकाशी जिले के पुरोला क्षेत्र में रविवार देर शाम डामटा के पास बस के 250 मीटर गहरी खाई में गिरने से उसमें सवार पन्ना जिले के जखला गांव के 26 तीर्थयात्रियों की मौत हो गई थी। हादसे के समय बस में चालक और कंडक्टर सहित 30 यात्री सवार थे।

दुर्घटना में घायल हुए 4 यात्रियों को बेहतर इलाज के लिए देहरादून के मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घटना की सूचना मिलने पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने मृतकों के परिवारों को 5-5 लाख रुपये और घायलों को 50-50 हजार रुपये देने की घोषणा की है।

सीएम शिवराज ने बंधाया ढांढस

इससे पहले, शिवराज और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बस दुर्घटना में मारे गए लोगों के रिश्तेदारों से मिलकर उन्हें ढांढस बंधाया और हर संभव मदद मुहैया करने का आश्वासन दिया। शिवराज ने कहा कि सरकार दुख की इस घड़ी में मृतकों के परिजनों के साथ खड़ी है और उन्हें हर संभव मदद मुहैया कराई जाएगी।

वहीं, धामी ने कहा कि उन्होंने हादसे की मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश दे दिए हैं। धामी के मुताबिक, घायल बस चालक ने बताया है कि स्टीयरिंग फेल हो जाने के कारण दुर्घटना हुई, लेकिन हादसे की मजिस्ट्रेटी जांच की जाएगी। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में चारधाम यात्रा चल रही है और सरकार तीर्थयात्रियों के सुरक्षित आवागमन को लेकर प्रतिबद्ध है।

हादसे को दुखद बताते हुए धामी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी इस मामले में व्यक्तिगत रूप से जानकारी लेते रहे। उन्होंने बताया कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री भी पहले फोन पर और बाद में खुद लगातार उनके संपर्क में रहे और अस्पताल जाकर घायलों की स्थिति का जायजा लिया।

Leave a Comment