PM security breach: जस्टिस को खालिस्तानियों की धमकी, वॉयस नोट में कहा हम लिस्ट बना रहे हैं

The News Air- (नई दिल्ली) पीएम मोदी के सुरक्षा में चूक ( PM modi security breach) मामले की जांच कर रही रिटायर्ड जस्टिस इंदु मल्होत्रा (Retired Justice Indu Malhotra) को धमकी मिली है। जानकारी के अनुसार, खालिस्तानी अलगाववादियों ने जस्टिस इंदु मल्होत्रा को धमकी देते हुए कहा है कि वे उन्हें PM मोदी की सुरक्षा सेंध मामले की जांच नहीं करने देंगे। वकीलों को रिकॉर्डेड कॉल आया है जिसमें कहा गया है कि इस मामले से दूर रहें।

पूर्व जस्टिस मल्होत्रा समेत कई वकीलों को एक वॉयस नोट भेजा गया है। इस वॉयस नोट में कहा गया है, ‘सुप्रीम कोर्ट की पूर्व जज को हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुई चूक मामले की जांच नहीं करने देंगे। पीएम मोदी और सिखों में से किसी एक चुनना होगा।’ आगे कहा गया, ‘हम सुप्रीम कोर्ट के वकीलों की भी लिस्ट बना रहे हैं।’

क्या है मामला

5 जनवरी को पंजाब के बठिंडा से हुसैनीवाला जाते समय प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक (Pm security breach) का मामला सामने आया था। पीएम को 20 मिनट तक ओवरब्रिज पर फंसने के बाद लौटना पड़ा था। इस मामले की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने एक कमेटी बनाई है। सुप्रीम कोर्ट की रिटायर जज इंदु मल्होत्रा इसकी अध्यक्षता करेंगी।

कौन हैं इंदु मल्होत्रा

स्टिस इंदु मल्होत्रा 27 अप्रैल, 2018 को सुप्रीम कोर्ट की न्यायाधीश बनी थीं। क़रीब तीन साल की सेवा के बाद वह 21 मार्च 2021 को रिटायर हो गईं। उनके पिता ओमप्रकाश मल्होत्रा भी सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील थे। अंतिम दिन वह चीफ़ जस्टिस बोबड़े की पीठ में बैठीं। जस्टिस इंदु मल्होत्रा केरल के सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर फ़ैसला देने वाली पीठ में थीं। उन्होंने चार पुरुष न्यायाधीशों से अलग राय ज़ाहिर की थी। पुरुष न्यायाधीशों ने महिलाओं को सबरीमाला मंदिर में प्रवेश देने की बात कही थी, जबकि इंदु मल्होत्रा ने इसके ख़िलाफ़ राय दी थी। उन्होंने सबरीमाला मंदिर में महिलाओं को प्रवेश देने की मांग को ग़लत बताया था।

Leave a Comment