यूथ अकाली दल द्वारा Plasma Bank स्थापना की घोषणा, लाभ हेतु तीन नंबर किए जारी

चंडीगढ़, 30 अप्रैल

यूथ अकाली दल ने आज राज्य में प्लाज्मा बैंक (Plasma Bank) खोलने की घोषणा करते हुए कहा कि इसमें 200 लोगों को प्लाज्मा देने की व्यवस्था है तथा वह तुरंत  प्लाज्मा दान देने की प्रक्रिया शुरू करेगा।

इस बारे में अन्य जानकारी देते हुए यूथ अकाली दल के अध्यक्ष परमबंस सिंह रोमाणा ने कहा कि अकाली दल अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल की अपील के बाद स्थापित किए गए बैंक द्वारा सभी पात्र दानदाताओं तक पहुंचाकर बढ़ाया जाएगा। उन्होने खुलासा किया कि पूर्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया सहित अन्य नेता जो कोविड पाजिटिव आए थे , ने इस पहल के लिए पंजीकरण के लिए पहलकदमी की है।

परमबंस रोमाणा ने कहा कि दानदाताओं के नाम के साथ साथ  ब्लड ग्रूप तथा टेलीफोन नंबरों के लिए उचित विज्ञापन किया जाएगा। उन्होने एक साथ तीन टेलीफोन नंबर- 99080 00013,97791 71507, 84275 44763 जारी किए, जो प्लाज्मा बैंक की सेवाओं का लाभ उठाने के लिए संपर्क किया जा सकता है। रोमाणा ने कहा कि प्लाज्मा की आवश्यकता वाले मरीज उन्हे ट्विटर पर टैग भी कर सकते हैं तथा वह उन्हे तुरंत जवाब भी देंगें’। ‘ यूथ अकाली दल यह सुनिश्चित करेगा कि प्लाजमा की उपलब्धता की कमी के कारण किसी का जीवन न जाए।

इस बीच सरदार रोमाणा ने कहा कि कोविड मामलों में बढ़ोतरी के साथ साथ मृत्यु दर के लिए केंद्र के साथ साथ पंजाब सरकार भी समान रूप से जिम्मेदार है। उन्होने कहा कि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि प्रधानमंत्री तथा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने स्वास्थ्य बुनियादी ढ़ांचे को बढ़ाने के बजाय कई राज्यों में चुनावों पर ध्यान केंदित कर रखा है। भाजपा की अगुवाई वाली सरकार चुनावों वाले राज्यों में रैलियां करने के बारे ज्यादा चिंतित है जिससे वहां महामारी बहुत तेजी से फैल रही है। इसके अलावा  दवाओं  तथा वैक्सीन की व्यवस्था करने  वाला समय गवां दिया है जिससे वायरस के बेहद भयावह परिणाम देखने को मिल रहे हैं।

पंजाब सरकार की भूमिका के बारे में बोलते हुए रोमाणा ने कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह  अग्रिम रूप से अगुवाई करने में नाकाम रहे हैं। ‘ मुख्यमंत्री ने एक साल से अधिक समय से अपने आप को फार्म हाउस पर बंद कर रखा है’। कैबिनेट मंत्रियों ने मुख्यमंत्री का अनुकरण किया है जिसके कारण पंजाब में महामारी के फैलाव को रोकने के लिए कोई प्रभावी उपाय नही किए गए हैं । आंकड़ों से यह बात साफ रूप से पता चलती है। पंजाब में कोविड से 9000 मौतें हो चुकी हैं। राज्य का मृत्यु दर देश के अनुपात जोकि 2.4 फीसदी है से कही अधिक है।  राज्य में सौ से ज्यादा व्यक्ति प्रतिदिन वायरस का शिकार हो रहे हैं।

यूथ अकाली दल अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने अब भी सबक नही सीखा है, मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह तथा पूर्व मंत्री नवजोत सिद्धू शीर्ष पद के लिए लड़ रहे हैं। ‘ अन्य मंत्री भी इसमें शामिल हो गए हैं तथा ऐसा लगता है पंजाब में कोई सरकार ही नही है। जहां तक कोविड महामारी का सबंध है, आक्सीजन, दवाईयों यहां तक कि टीका की आपूर्ति करने वाला कोई नही है, जिसके कारण पंजाब देश में सबसे अधिक कोविड महामारी से  प्रभावित राज्य बन गया है।

रोमाणा ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने अपना कर्तव्य त्याग दिया है, लेकिन विभिन्न गैर सरकारी संगठन तथा धार्मिक संगठन कोविड मरीजों के बचाव के लिए आगे आ रहे हैं। उन्होने कहा कि एसजीपीसी तथा डीएसजीएमसी दोनो की कोविड मरीजों तथा उनके परिजनों की परेशानियों को कम करने में लगे हुए हैं। सरदार रोमाणा ने कहा कि केंद्र तथा पंजाब की कांग्रेस सरकार को भी अपनी जिम्मेदारी समझकर , तुरंत सुधारात्मक कार्रवाई करनी चाहिए।

Leave a Comment