आधी रात CM चन्नी का भांजा गिरफ़्तार, पंजाब में कांग्रेस के CM चेहरे के ऐलान से..

The News Air- (चंडीगढ़) एनफोर्समेंट डायरेक्टोरेट ने अवैध रेत खनन मामले में CM चरणजीत चन्नी के भांजे भूपिंदर हनी को गिरफ़्तार कर लिया है। ED ने भूपिंदर हनी को जालंधर में पूछताछ के लिए बुलाया था, जहां उससे क़रीब 7 से 8 घंटे की पूछताछ की गई। जवाबों से ED संतुष्ट नहीं हुई और उसे गिरफ़्तार कर लिया। उसे रात क़रीब 1 बजे मेडिकल जांच के लिए जालंधर अस्पताल ले जाया गया। अब उसे रिमांड में लेकर पूछताछ होगी। हनी को आज कोर्ट में पेश किया जाएगा।

ED ने 18 जनवरी को भूपिंदर हनी और उसके साथियों के ठिकानों पर मोहाली और लुधियाना में रेड की थी। इस दौरान 10 करोड़ कैश, 12 लाख की रोलैक्स घड़ी, 21 लाख का सोना बरामद किया था। ED ने 8 करोड़ हनी के मोहाली के होमलैंड स्थित घर और 2 करोड़ उसके पार्टनर संदीप के लुधियाना स्थित ठिकाने से बरामद किए थे। सूत्रों के मुताबिक़ ED की जांच में यह भी सामने आया था कि हनी की साथियों के साथ एक कंसलटेंसी फर्म थी, जिसकी साल 2019-20 की टर्नओवर क़रीब 18 लाख था। इसके बावज़ूद इतनी बड़ी रक़म बरामद हुई।

CM कनेक्शन को लेकर पूछताछ, करोड़ों के बारे में जवाब नहीं मिला

सूत्रों की मानें तो ED की टीम ने करीब 8 घंटे की पूछताछ में भूपिंदर हनी से CM चन्नी से कनेक्शन के बारे में पूछताछ की। हनी से पूछा गया कि क्या यह रकम उनके मौसा, यानी CM चन्नी ने उनके पास रखवाई थी? या यह अवैध रेत का कारोबार उनके मौसा का है?। हालांकि इसके बारे में हनी से कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला। भूपिंदर हनी अपने घर से मिले 8 करोड़ के कैश के बारे में भी कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे सका।

हनी ने घबराहट की शिकायत की, मेडिकल जांच में फिट

ED ने दोपहर 3 बजे भूपिंदर हनी से पूछताछ शुरू की, जिसमें ED के वरिष्ठ अफसर मौजूद रहे। इसके बाद ED ने उसे अरेस्ट कर लिया। इस दौरान हनी ने घबराहट की शिकायत की। ED की टीम उसे जालंधर के सिविल अस्पताल ले गई। वहां जांच में वह पूरी तरह फिट मिला। हनी की सभी रिपोर्ट नॉर्मल आईं। इसके बाद ED उसे दफ्तर ले गई और वहां बंद कर दिया।

2018 में दर्ज़ हुआ था केस

यह कार्रवाई 2018 में दर्ज़ हुए अवैध रेत खनन के केस में की गई थी। यह केस तत्कालीन सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह के हवाई दौरे में अवैध रेत खनन पकड़े जाने के बाद हुआ था। पुलिस ने तब रोपड़ के थाने में IPC की धारा 379, 420, 465, 467, 468, 471 और माइन्स एक्ट के तहत केस दर्ज़ किया था।

पूछताछ के बाद हनी तक पहुँची ED

इस मामले में शुरूआती वक़्त में कुदरतदीप नाम के व्यक्ति को आरोपी बनाया गया था। इस मामले में पंजाब पुलिस की कार्रवाई के दौरान ही ED ने भी जांच शुरू कर दी। पूछताछ के बाद ED के हाथ भूपिंदर हनी तक पहुंच गए। इसके बाद 18 जनवरी को ED ने ताबड़तोड़ रेड की। जिसके बाद भूपिंदर हनी और उसके साथियों के ठिकानों से करोड़ों की रिकवरी हुई।

CM चेहरे की घोषणा से पहले कार्रवाई

कांग्रेस 6 फरवरी को पंजाब में कांग्रेस का CM चेहरा घोषित करने जा रही है। इसमें नवजोत सिद्धू और CM चरणजीत चन्नी की दावेदारी है। ऐसे में इस कार्रवाई की टाइमिंग को लेकर ख़ूब चर्चा हो रही है। पंजाब कांग्रेस के CM चेहरे की रेस में चन्नी ही सबसे आगे हैं।

Leave a Comment