कर्नाटक में गीता पर, हर श्लोक में छिपा है समस्याओं का समाधान, यहां हैं 5 जीवन प्रबंधन सूत्र

The News Air- उज्जैन। कर्नाटक के शिक्षा मंत्री बीसी नागेश कहते हैं कि ”गीता अगर नैतिक शिक्षा का हिस्सा बन जाए तो इसमें कोई बुराई नहीं है. गीता सांप्रदायिक नहीं है बल्कि जीने की कला के बारे में है।” कुछ दिन पहले गुजरात सरकार ने भी भगवद गीता को स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल करने की घोषणा की थी, तब भी इस पर विवाद हुआ था। कर्नाटक सरकार के इस तरह के फैसले से नया विवाद खड़ा हो सकता है। भगवद गीता को हिंदू धर्म में सबसे पवित्र ग्रंथ माना जाता है। गीता के माध्यम से ही भगवान कृष्ण ने दुनिया को धर्म के अनुसार कर्म करने के लिए प्रेरित किया। श्रीमद्भगवतम गीता के चयनित प्रबंधन स्रोतों के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें

छंद 1
त्रिविधान नारक्षयदं द्वारं नशनमत्मनाः।
कामः क्रोधस्तथा लोभस्तरमादेतत्रयं सत्यजेत।।
अर्थ – काम, क्रोध और लोभ। नरक के ये तीन प्रकार के द्वार आत्मा को नष्ट करने वाले हैं, अर्थात् अध: पतन की ओर ले जाते हैं, इसलिए इन तीनों का त्याग कर देना चाहिए।

प्रबंधन सूत्र
काम अर्थात कामना, क्रोध और लोभ सभी बुराइयों के मूल कारण हैं। इसलिए भगवान कृष्ण ने उन्हें नर्क का द्वार कहा है। प्रत्येक मनुष्य जिसके पास ये 3 विकार हैं, वह हमेशा दूसरों को चोट पहुँचाकर अपने स्वार्थ की पूर्ति में लगा रहता है। यदि हमें कोई लक्ष्य प्राप्त करना है तो हमें इन 3 दोषों को सदा के लिए त्याग देना चाहिए। क्योंकि जब तक ये विकार हमारे मन में रहेंगे तब तक हमारा मन अपने लक्ष्य से भटकता रहेगा।

श्लोक 2
तानी सरवानी संयम युक्त असित मतपरा:
वाशे ही यस्येन्द्रियनि तस्य प्रज्ञा प्रतिष्ठा।
अर्थ: भगवान कृष्ण अर्जुन से कहते हैं कि मनुष्य को सभी इंद्रियों को वश में करके अवचेतन मन के अधीन हो जाना चाहिए, क्योंकि जिसकी इंद्रियां वश में हैं, उसकी बुद्धि स्थिर है।

प्रबंधन सूत्र
जीभ, त्वचा, आंख, कान, नाक आदि मानव इंद्रियां कहलाती हैं। इनके माध्यम से मनुष्य विभिन्न सांसारिक सुखों का भोग करता है जैसे- भिन्न-भिन्न स्वादों को चखने से जीभ तृप्त होती है। मनमोहक दृश्य देखकर मन प्रसन्न हो जाता है। भगवान कृष्ण अर्जुन से कहते हैं कि जो व्यक्ति अपनी इंद्रियों को नियंत्रित करता है उसकी बुद्धि स्थिर होती है। जिसकी बुद्धि स्थिर होगी वही व्यक्ति अपने क्षेत्र में ऊंचाइयों को छूता है और जीवन के कर्तव्यों को पूरी ईमानदारी से करता है।

श्लोक 3
नास्ति बुद्धिरयुक्तस्य न संयुक्ततास्य भवन।
न चाभाव्यत: शांति शांतस्य कुत: सुखम् ।।
अर्थ: बिना योग के मनुष्य में निर्णय लेने की बुद्धि नहीं होती और उसके मन में भाव नहीं होता। ऐसे भावहीन व्यक्ति को शांति नहीं मिलती और जिसके पास शांति नहीं है उसे सुख कहां से मिलेगा।

प्रबंधन सूत्र
सुख की चाह हर मनुष्य की होती है, इसके लिए वह भटकता रहता है, लेकिन सुख की जड़ उसके ही मन में है। जिस मनुष्य का मन इन्द्रियों अर्थात् धन, काम, आलस्य आदि में लगा रहता है, उसके मन में भाव (ज्ञान) नहीं होता। और जिसके मन में भाव नहीं है, उसे किसी भी प्रकार से शांति नहीं मिलती और जिसके मन में शांति नहीं है, उसे सुख कहां से मिलेगा। इसलिए सुख की प्राप्ति के लिए मन पर नियंत्रण रखना बहुत जरूरी है।

श्लोक 4
विहय कमन्या: कारवनपुमांस्चरति निस्प्रः।
निर्मामो निरहंकर सा शांतिमधिगच्छति।
भावार्थ : जो मनुष्य समस्त कामनाओं और कामनाओं का परित्याग कर बिना अहंकार के अपने कर्तव्यों का पालन करता है, वही शांति प्राप्त करता है।

प्रबंधन सूत्र
यहां भगवान कृष्ण कहते हैं कि मन में किसी भी प्रकार की इच्छा रखने से मनुष्य को शांति नहीं मिल सकती। इसलिए मनुष्य को शांति प्राप्त करने के लिए सबसे पहले अपने मन से इच्छाओं को मिटाना चाहिए। हम जो भी कर्म करते हैं, उसके साथ हम अपने वांछित परिणाम को एक साथ रखते हैं। हमारे चुनाव के परिणाम की इच्छा हमें कमजोर करती है। ऐसा न होने पर व्यक्ति का मन और अधिक बेचैन हो जाता है। मन से स्नेह या अहंकार जैसी भावनाओं को मिटाकर आपको अपने कर्तव्यों को ईमानदारी से निभाना होगा। तभी मनुष्य को शांति मिलेगी।

श्लोक 5
न ही यह विवेक की बात है।
कार्यते ह्यश: कर्म प्रकृति जैव गुणै: ..
अर्थ: कोई भी मनुष्य बिना कर्म किए एक क्षण भी जीवित नहीं रह सकता। सभी प्राणी प्रकृति के अधीन हैं और प्रकृति प्रत्येक प्राणी को अपने अनुसार कर्म करवाती है और उसका फल भी देती है।

प्रबंधन सूत्र
यह सोचना हमारी मूर्खता है कि हम बुरे परिणामों के डर से कुछ नहीं करेंगे। खाली बैठना भी एक प्रकार का कर्म है, जिससे हमारी आर्थिक हानि, अपमान और समय की हानि होती है। सभी जीव प्रकृति के अधीन हैं अर्थात भगवान, वह हमें अपने अनुसार कर्म करवाएगी। और आपको परिणाम मिलेगा। इसलिए हमें कर्म के प्रति कभी भी उदासीन नहीं रहना चाहिए, हमें अपनी क्षमता और विवेक के आधार पर कर्म करते रहना चाहिए।

Leave a Comment