आए दिन मिल रही है गंगा में तैरती लाशें, मंत्री बोले, रात में कोई बॉडी फेंक जाए तो क्या करेंगे?

लखनऊ,14 मई

हाल ही में गंगा में तैरती लाशों (Dead Body in Ganga) को लेकर मामले ने काफी तूल पकड़ लिया है। माना जा रहा है कि ये शव कोविड से मरने वालों के हैं जिन्हें इस तरह नदी में बहा दिया है। शवों को फेंकने को लेकर उत्तर प्रदेश और बिहार सरकार के बीच नोक-झोंक भी हुई। हालांकि यूपी के जल संसाधन मंत्री महेंद्र सिंह ने कहा है कि मेरे विभाग के पास इस समस्या को रोकने के लिए बहुत कम विकल्प हैं।

मंत्री बोले, रात में कोई बॉडी फेंक जाए तो क्या करेंगे?हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया के साथ एक खास बातचीत में मंत्री ने कहा कि लोग जानते और समझते हैं कि उन्हें शवों को नदियों में नहीं फेंकना चाहिए। अगर लोग रात में डेड बॉडी फेंकते हैं तो क्या किया जा सकता है? हालांकि मंत्री ने उन जिलों के प्रशासन का पक्ष लेते हुए कहा कि जहां लाशें तैरती पाई गईं, वहां आवश्यक कदम उठा रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘इसमें कोई शक नहीं कि गंगा को प्रदूषण से बचाने की जरूरत है।’

कई हिंदू लाशों को दफनाते हैं, बाद में उनकी पूजा करते हैंउन्नाव में गंगा नदी में बड़ी संख्या में लाशों की अंत्येष्टि के बारे में सिंह ने कहा कि वहां कई गांव हैं जहां के हिन्दू लाशों को अब भी दफनाते हैं। कई पैगंबर और संतों की लाशों को भी दफनाया जाता है और लोग उनकी पूजा करते हैं।

गंगा में तैरती मिली थीं 100 से ज्यादा लाशें- गौरतलब है कि हाल ही में गंगा में 100 से ज्यादा लाशें तैरती पाई गई थीं। इसके चलते उत्तर प्रदेश और बिहार में लोगों में इस बात को लेकर डर पैदा हो गया था कि कोरोना से मरने वालों की लाशों को लोग गंगा में बहा रहे हैं।

Leave a Comment