Electricity Amendment Bill 2021: बिजली काटी तो कंपनी देगी उपभोक्ताओं को हर्जाना


नई दिल्ली, 17 जुलाई (The News Air)
Electricity Amendment Bill 2021: अगर आपको बिजली सेवाएं देने वाली मौजूदा कंपनी से बेहद परेशानी है या उनकी ओर से दी जा रही सुविधाओं से आप बिल्कुल भी ख़ुश नहीं है, तो आपके पास अब बिजली कंपनी बदलने और इच्छानुसार नई कंपनी चुनने का अधिकार होगा। यह ठीक वैसे ही काम करेगा जैसे कि आप किसी टेलीकॉम कंपनी की सेवाओं से नाख़ुश होते हैं तो दूसरी टेलीकॉम कंपनी पर पोर्ट करते हैं। दरअसल सोमवार से मानसून सत्र शुरू होने जा रहा है। इसमें एक क्षेत्र में कई कंपनियों को आपूर्ति करने की ज़िम्मेदारी दी जाएगी जिससे उपभोक्ताओं के पास अपनी पसंद की कंपनी चुनने का विकल्प होगा।
मॉनसून सत्र में पेश हो सकता है बिल- पावर एंड रीन्यूएबल एनर्जी मिनिस्टर आर.के सिंह के अनुसार सरकार को सोमवार को शुरू होने वाले मॉनसून सत्र में Electricity Amendment Bill 2021 पेश कर सकती है। अगर ऐसा हुआ तो यह पावर डिस्ट्रीब्यूशन के क्षेत्र में एक बड़ा रिफॉर्म होगा, जो उपभोक्ताओं को एक बड़ी ताक़त देगा। जनवरी माह में Electricity Amendment Bill 2021 का एक प्रस्ताव कैबिनेट की मंजूरी के लिए जारी किया गया था।
बिजली मंत्री ने एक इवेंट में कहा था कि हमने बिजली उत्पादन की तरह इसके वितरण को भी डीलाइसेंस करने का प्रस्ताव दिया है। इसे लेकर एक कैबिनेट नोट जारी किया गया था, जिसे सभी मंत्रालयों ने मंज़ूर भी कर लिया है लेकिन कानून मंत्रालय की 1-2 सवाल है। उन्होंने कहा था कि इसे जल्द ही कैबिनेट की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा और संसद के अगले सत्र में पेश करके पास करवाने की कोशिश की होगी। आपको बता दें कि मॉनसून सत्र 19 जुलाई से शुरू हो सकता है और 13 अगस्त तक चल सकता है।
इस बिल का क्या फ़ायदा है-इस बिल के आने के बाद निजी कंपनियों के लिए बिजली वितरण के क्षेत्र में आने का रास्ता खुल जाएगा, क्योंकि लाइसेंस लेने की ज़रूरत ख़त्म हो जाएगी, इससे प्रतिस्पर्धा भी बढ़ेगी। इसका सीधा फ़ायदा बिजली उपभोक्ताओं को होगा, क्योंकि उनके पास चुनने के लिए कई सर्विस प्रोवाइडर्स होंगे। मौजूदा वक़्त में कुछ सरकारी और निजी कंपनियों का ही बिजली वितरण के क्षेत्र में दबदबा है।
कई बिजली वितरण कंपनियां होने से ग्राहकों को लाभ- बिजली उपभोक्ताओं के पास भी उनके क्षेत्र में सेवाएं दे रही इन्हीं में से कोई एक कंपनी को चुनने के अलावा दूसरा रास्ता नहीं होता है। प्रस्तावित बिल के आने के बाद मौजूदा वितरण कंपनियां अपनी सेवाएं जारी रखेंगी, लेकिन उसी क्षेत्र में दूसरी बिजली वितरण कंपनियां भी पावर सप्लाई का बिजनेस कर सकेंगी। ऐसे में उपभोक्ताओं के पास कई सारी बिजली कंपनियों में से चुनाव करने का विकल्प होगा।
बिजली काटी तो देना होगा हर्जाना- इस बिल में उपभोक्ताओं को ज़्यादा ताक़तवर बनाया गया है, अगर कोई कंपनी बिना बताए बिजली काटती है तो उसे उपभोक्ताओं को हर्जाना देना होगा। बिजली कंपनी को बिजली काटने से पहले उपभोक्ता को इसकी जानकारी देनी होगी। निश्चित समयसीमा से ज़्यादा बिजली कटौती हुई तो भी हर्जाना देने का प्रावधान किया गया है।
नई कंपनियों को रजिस्टर करना होगा – ऐसी कंपनियां जो बिजली वितरण के कारोबार में उतरना चाहती हैं, उन्हें केंद्र सरकार योग्यता शर्तों का पालन करना होगा और बिजली वितरण शुरू करने से पहले ख़ुद को वाज़िब कमीशन के साथ रजिस्टर्ड करना होगा, कमीशन को भी कंपनी को 60 दिन के अंदर रजिस्टर्ड करना होगा। कमीशन रजिस्ट्रेशन को रद्द भी कर सकता है, अगर कंपनी योग्यता शर्तों पर खरा नहीं उतरती है।


Leave a Comment