क्‍या Pathaan के आगे टिक पाएगी Gandhi Godse Ek Yudh? हिंदू महासभा ने की टैक्‍स फ्री करने की मांग

एंटरटेनमेंट गलियारों में इस वक्‍त सिर्फ एक फ‍िल्‍म की ही चर्चा है। नाम आप जानते ही हैं। फैंस शाहरुख खान की फ‍िल्‍म पठान (Pathaan) देखने के लिए उत्‍साहित हैं। हालांकि एक और फ‍िल्‍म है, जो पठान की रिलीज के एक दिन बाद सिनेमाघरों में दस्‍तक दे रही है। बॉलीवुड के जाने-माने निर्देशक राजकुमार संतोषी की फिल्म ‘गांधी गोडसे एक युद्ध’ (Gandhi Godse Ek Yudh) 26 जनवरी को रिलीज हो रही है। क्‍या यह फ‍िल्‍म शाहरुख खान की पठान के आगे टिक पाएगी? यह तो आने वाला वक्‍त ही बताएगा। गांधी गोडसे एक युद्ध को लेकर एक अपडेट सामने आया है।

पठान की तरह ही राजकुमार संतोषी की फ‍िल्‍म गांधी गोडसे एक युद्ध को लेकर भी विवाद हो रहा है। मध्‍य प्रदेश में इस फ‍िल्‍म पर बहस छिड़ गई है। कई लोग इस फ‍िल्‍म पर बैन लगाने की मांग कर रहे हैं, जबकि हिंदू महासभा ने इस फ‍िल्‍म को टैक्‍स फ्री करने की डिमांड की है। यह जानकारी मीडिया रिपोर्ट्स के जरिए सामने आई है।

बताया जा रहा है कि इस फ‍िल्‍म पर इसलिए भी विवाद है क्‍योंकि पहली बार राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे का पक्ष इस फ‍िल्‍म के जरिए बड़े पर्दे पर सामने रखा जा रहा है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, कई लोग इस फ‍िल्‍म पर बैन लगाने की मांग कर रहे हैं। हालांकि हिंदू महासभा का रुख अलग है। बताया जा रहा है कि उसकी ओर से फ‍िल्‍म को ट्रैक्‍स फ्री करने की डिमांड की गई है।

रिपोर्टों के अनुसार, हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयवीर भारद्वाज ने कहा कि संगठन ने फिल्म को टैक्स फ्री करने की मांग उठाई है। जयवीर भारद्वाज ने बयान दिया है कि यह पहली बार है जब नाथूराम गोडसे की कहानी को बड़े पर्दे पर पेश किया जा रहा है। गोडसे को फिल्म में बोलने का मौका मिला है। उनके मुताबिक फिल्म को रिलीज करने के लिए सेंसर बोर्ड ने मंजूरी दे दी है। इसका मतलब है कि सरकार सहमत है कि गोडसे ने देश के लिए अपना बलिदान दिया।

Leave a Comment