पाकिस्तान में 14 अगस्त को क्यूं मनाया जाता है आज़ादी का जश्न, जानें इसके पीछे की वजह

नई दिल्ली, 14 अगस्त (The News Air)
यह तो आपको पता ही होगा कि भारत और पाकिस्तान को एक ही दिन यानी 15 अगस्त (15 August) को आज़ादी मिली थी, परन्तु क्या आपको यह मालूम है कि हिंदुस्तान और पाकिस्तान में अलग-अलग दिन आज़ादी का जश्न मनाया जाता है। जी हाँ, हिंदुस्तान में 15 अगस्त को आज़ादी (Independence Day) का जश्न मनाया जाता है और पाकिस्तान (Pakistan Independenca Day) में भारत से एक दिन पहले यानी 14 अगस्त (14 August) को आज़ादी का जश्न मनाया जाता है. 
यह जानकर आपके मन यह सवाल जरुर उठा होगा कि आख़िर ऐसा क्यों होता है? जब भारत पाकिस्तान एक दिन आज़ाद हुए हैं तो दोनों देशों में आज़ादी का जश्न अलग-अलग कैसे मनाया जाता है। तो आइए हम आपको बताते हैं कि आख़िर क्यों पाकिस्तान में एक भारत से एक दिन पहले आज़ादी का त्योहार मनाया जाता है. 
बता दें कि भारत को अंग्रेज़ों से 15 अगस्त का आज़ादी मिली थी, परन्तु पाकिस्तान के तौर पर एक अलग देश की मंजूरी 14 अगस्त (14 August) को मिल गई थी. इस दिन ही ब्रिटिश लॉर्ड माउंटबेटन (Lord Mountbatten) ने पाकिस्तान को आज़ाद देश का दर्जा देकर सत्ता सौंपी थी. ताकि 15 अगस्त के दिन पाकिस्तान के आला अफ़सर नई दिल्ली आ सकें और भारत के पहले स्वतंत्रता दिवस (Indian Independence Day) प्रोग्राम में शामिल हो सकें.
एक कारण यह भी बताया जाता है:-कुछ लोग यह दलील भी देते हैं कि हिंदुस्तानी स्वतंत्रता क़ानून पर 15 अगस्त 1947 को नई दिल्ली में 00:00 बजे (आईएसटी) या फिर 05:30 बजे (जीएमटी) हस्ताक्षर किए गए थे. पाकिस्तान का समय भारत के वक़्त से 30 मिनट आगे है यानि आधा घंटा पहले है. इसलिए जब क़ानून पर हस्ताक्षर किए गए थे उस समय पाकिस्तान में 14 अगस्त का ही दिन था.

Leave a Comment