Vijaydiwas: PM मोदी ने स्वर्णिम विजय मशालों के स्वागत समारोह में हिस्सा लिया, शहीदों को श्रद्धांजलि दी


The News Air – (नई दिल्ली) PM मोदी गुरुवार को नेशनल वॉर मेमोरियल पहुंचे हैं। यहां उन्होंने स्वर्णिम विजय मशालों के स्वागत और सम्मान समारोह में हिस्सा लिया और ज़ंग में शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि दी। प्रधानमंत्री ने श्रद्धांजलि समारोह के दौरान चार मशालों की ज्वाला को वॉर मेमोरियल पर प्रज्वलित अमर जवान ज्योति के साथ समाहित किया। पिछले साल 16 दिसंबर को PM ने इन चार स्वर्णिम विजय मशालों को प्रज्वलित किया था। Vijaydiwas

PMO के मुताबिक़, इन मशालों को देश के अलग-अलग हिस्सों में ले जाया गया। इनमें 1971 युद्ध के परमवीर चक्र और महावीर चक्र विजेता सैनिकों के गांव भी शामिल हैं। ये मशाल देश भर में सियाचिन से कन्याकुमारी, अंडमान निकोबार से लोंगेवाला, रण कच्छ और अगरतला तक ले जाए गए थे। Vijaydiwas

मुक्ति योद्धाओं और वीरांगनाओं को याद किया

PM मोदी ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा- मैं 50वें विजय दिवस पर मैं मुक्तियोद्धाओं, वीरांगनाओं और भारतीय सशस्त्र बलों के वीरता और बलिदान को याद करता हूं। हमने साथ मिलकर दमनकारी ताक़तों से लड़ाई लड़ी और उन्हें हराया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बांग्लादेश में विजय दिवस के राष्ट्रीय कार्यक्रम के मौक़े पर ढाका पहुंचे हैं। वह 3 दिन के बांग्लादेश दौरे पर हैं। Vijaydiwas

सैनिकों के साहस और बलिदान को याद करने का दिन

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बताया कि स्वर्णिम विजय दिवस के अवसर पर हम 1971 के युद्ध के दौरान अपने सशस्त्र बलों के साहस और बलिदान को याद करते हैं। 1971 का युद्ध भारत के सैन्य इतिहास का स्वर्णिम अध्याय है। हमें अपने सशस्त्र बलों और उनकी उपलब्धियों पर गर्व है।

PM मोदी ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा- मैं 50वें विजय दिवस पर मैं मुक्तियोद्धाओं, वीरांगनाओं और भारतीय सशस्त्र बलों के वीरता और बलिदान को याद करता हूं। हमने साथ मिलकर दमनकारी ताक़तों से लड़ाई लड़ी और उन्हें हराया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बांग्लादेश में विजय दिवस के राष्ट्रीय कार्यक्रम के मौक़े पर ढाका पहुंचे हैं। वह 3 दिन के बांग्लादेश दौरे पर हैं। Vijaydiwas

93 हज़ार पाकिस्तानी सैनिकों ने आत्मसमर्पण किया था

16 दिसंबर 1971 को भारत ने बांग्लादेश को आज़ादी दिलाई थी। पहले यह देश पाकिस्तान का हिस्सा था और इसे पूर्वी पाकिस्तान के नान से जाना जाता था। पाकिस्तानी सेना पर भारत की जीत और बांग्लादेश के गठन की वजह से हर साल 16 दिसंबर को भारत और बांग्लादेश में विजय दिवस के तौर पर मनाया जाता है।

PM मोदी ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा- मैं 50वें विजय दिवस पर मैं मुक्तियोद्धाओं, वीरांगनाओं और भारतीय सशस्त्र बलों के वीरता और बलिदान को याद करता हूं। हमने साथ मिलकर दमनकारी ताक़तों से लड़ाई लड़ी और उन्हें हराया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बांग्लादेश में विजय दिवस के राष्ट्रीय कार्यक्रम के मौक़े पर ढाका पहुंचे हैं। वह 3 दिन के बांग्लादेश दौरे पर हैं। Vijaydiwas

इस युद्ध के अंत में 93 हज़ार पाकिस्तानी सैनिकों ने आत्मसमर्पण किया था। पाकिस्तानी सेना के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल ए.ए.के. नियाज़ी ने भारत के पूर्वी सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल जगजीत सिंह अरोड़ा के सामने आत्मसमर्पण किया था। 16 दिसंबर की शाम जनरल नियाज़ी ने आत्मसमर्पण के दस्तावेज़ साइन किए थे।

PM मोदी ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा- मैं 50वें विजय दिवस पर मैं मुक्तियोद्धाओं, वीरांगनाओं और भारतीय सशस्त्र बलों के वीरता और बलिदान को याद करता हूं। हमने साथ मिलकर दमनकारी ताक़तों से लड़ाई लड़ी और उन्हें हराया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बांग्लादेश में विजय दिवस के राष्ट्रीय कार्यक्रम के मौक़े पर ढाका पहुंचे हैं। वह 3 दिन के बांग्लादेश दौरे पर हैं। Vijaydiwas


Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

I Have Disabled The AdBlock Reload Now
Powered By
CHP Adblock Detector Plugin | Codehelppro