UPSC 2020: 1 बार फेल, दूसरी बार सिर्फ 3 नंबर से बिगाड़ा खेल, लेकिन तीसरे प्रयास में वरुणा अग्रवाल बनी टॉपर


नई दिल्ली, 9 अक्टूबर (The News Air)

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC 2020) के परिणाम 24 सितंबर, 2021 को जारी किए गए थे। अंतिम परिणाम में कुल 761 उम्मीदवारों का चयन किया गया था। एशियानेटन्यूज हिंदी 2020 में चयनित 100 उम्मीदवारों की सफलता यात्रा पर एक श्रृंखला चला रहा है। इस कड़ी में 38वीं रैंक हासिल करने वाली वरुणा अग्रवाल से बात की। वरुण ने शुरू से लेकर सफलता तक के संघर्षों से भरी कहानी सुनाई। उसने कैसे तैयारी की और कैसे अंत तक मैदान में डटी रही। वरुण उत्तराखंड के रुद्रपुर के रहने वाले हैं। आइए जानते हैं कैसे उन्होंने यूपीएससी की तैयारी की और मिली बड़ी सफलता…

दो बार फेल होने के बाद भी नहीं हारे, तीसरे प्रयास में 38वें स्थान पर
यूपीएससी परीक्षा में वरुण अग्रवाल ने 38वीं रैंक हासिल की है। इस तीसरे प्रयास में उनका आईएएस बनने का सपना साकार हो गया। उसने पहले भी दो बार कोशिश की थी, लेकिन सफल नहीं हो सकी। कभी-कभी उन्हें यह रास्ता कठिन लगता था। खासकर तब जब वह पहले प्रयास में प्रारंभिक परीक्षा पास नहीं कर पाई। हालांकि, उन्होंने हार नहीं मानी। दूसरे प्रयास में, उसने एक साक्षात्कार (UPSC साक्षात्कार) दिया, लेकिन सिर्फ तीन अंकों की कमी के कारण उसे मेरिट सूची में स्थान नहीं मिला। ऐसे में परिवार और दोस्तों ने उनका हौसला बढ़ाया।

UPSC 2020 वरुणा अग्रवाल का एक्सक्लूसिव इंटरव्यू जानिए उनकी सफलता की यात्रा के बारे में

परीक्षा को पास फेल के रूप में न देखें
वरुण कहते हैं कि परीक्षा को पास और फेल के रूप में न देखें, बल्कि सीखने के रूप में देखें। सीखना आपको खुश करता है। फिर चाहे आप परीक्षा में अनुत्तीर्ण हों या कम अंक प्राप्त करें। आपकी संतुष्टि बनी रहती है कि आपने कुछ सीखा है। जब उसकी संख्या कम थी, तो उसने सोचा कि उसने कुछ सीखा है। मेरे पास कल की तुलना में आज बेहतर जानकारी है। इसने उन्हें प्रेरित किया। उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय दादा बनवारी लाल, पिता सुबोध अग्रवाल, माता डॉ. साधना अग्रवाल और भाई राहुल अग्रवाल को देती है। उनके पिता और भाई सीए हैं। उनकी सफलता में शिक्षकों का भी योगदान है।

UPSC 2020 वरुणा अग्रवाल का एक्सक्लूसिव इंटरव्यू जानिए उनकी सफलता की यात्रा के बारे में

आईएएस बनने की प्रेरणा कहां से मिली?
वरुणा ने साल 2013 में 12वीं तक जेसी स्कूल से पढ़ाई की थी। विज्ञान वर्ग में ९५.४ प्रतिशत अंक हासिल किए और स्कूल में टॉप किया। इसके बाद वह कानून की पढ़ाई के लिए पुणे (महाराष्ट्र) चली गईं। 2018 में स्नातक किया। इसके बाद ही वह यूपीएससी की तैयारी के लिए दिल्ली आ गईं। मैंने यहां एक साल आईएएस की कोचिंग की, फिर घर से तैयारी शुरू की। तीसरे प्रयास में उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा पास की है। उन्हें आईएएस बनने की प्रेरणा उनके दादा बनवारी लाल ने दी थी। तभी उन्होंने 10वीं क्लास से सिविल सर्विस ज्वाइन करने के बारे में सोचा। उनके स्कूल के एक वरिष्ठ छात्र को विदेश सेवा में चुना गया था। स्कूल में अपना संबोधन सुनने के बाद, वरुण का सिविल सेवा के प्रति रुझान बढ़ गया। कानून की पढ़ाई के बाद यह भावना और भी मजबूत हो गई। खासकर जब उन्हें पढ़ाई के दौरान देश के प्रशासन और नीतियों के बारे में पता चला।

UPSC 2020 वरुणा अग्रवाल का एक्सक्लूसिव इंटरव्यू जानिए उनकी सफलता की यात्रा के बारे में

जीवन या परीक्षा को सीखने के रूप में देखें
जीवन में कभी भी हार मत मानो, चाहे आपने अपने लिए जो भी लक्ष्य निर्धारित किया हो। यह किसी भी क्षेत्र का हो सकता है। उस लक्ष्य की ओर काम करते रहें। आगे बढ़ते रहो। लक्ष्य प्राप्ति में समय लग सकता है, रुकावटें आ सकती हैं। लेकिन जब आपने प्रयास करना बंद कर दिया, तो उसी समय आपने असफलता को चुना। कोशिश करते रहो जीवन तनावपूर्ण नहीं होना चाहिए। आजकल छोटे बच्चों से लेकर बड़ों तक में तनाव है। जीवन एक सीख है। हर चीज को जीत और हार के रूप में न देखें। यदि हम जीवन को एक सीखने या एक परीक्षा के रूप में देखें तो जीवन आसान हो जाएगा।

UPSC 2020 वरुणा अग्रवाल का एक्सक्लूसिव इंटरव्यू जानिए उनकी सफलता की यात्रा के बारे में

बहुत सारे सोशल मीडिया पात्र
वरुणा का कहना है कि सोशल मीडिया में बहुत सारे किरदार हैं। आप दोस्तों से जुड़ सकते हैं। बहुत सारी जानकारी प्राप्त होती है। लेकिन इस माध्यम से आने वाली सूचनाओं को ओवरलोड नहीं किया जाना चाहिए। अगर आप सोशल मीडिया का सही तरीके से इस्तेमाल करते हैं तो यह बहुत फायदेमंद होता है। आप बहुत से लोगों से जुड़ सकते हैं। जिन्हें प्रेरणा मिलेगी, ज्ञान मिलेगा, देश-विदेश से समाचार मिल सकते हैं। कुछ भी बहुत गलत हो जाता है।

UPSC 2020 वरुणा अग्रवाल का एक्सक्लूसिव इंटरव्यू जानिए उनकी सफलता की यात्रा के बारे में

सफलता का कोई शॉर्टकट नहीं होता…
वरुण बताते हैं कि आईएएस बनकर मैं देश की बेहतर तरीके से सेवा कर सकता हूं। हाई स्कूल में पढ़ते हुए उन्होंने आईएएस बनने का फैसला किया था। इसके बाद पीछे मुड़कर नहीं देखा। कानून की पढ़ाई के दौरान व्यवस्था ने काफी समझदारी दिखाई। इंटरव्यू 21 सितंबर को दिल्ली में हुआ था और शुक्रवार शाम को रिजल्ट आया था. वह रोज लक्ष्य लेकर पढ़ाई करती थी। इतने घंटे अध्ययन करने का समय निश्चित नहीं था। उन्होंने कहा कि यदि लक्ष्य कठिन हो तो भी यदि लक्ष्य निर्धारित कर परिश्रम और परिश्रम किया जाए तो सफलता अवश्य ही प्राप्त होती है। शॉर्टकट रास्ता नहीं चुना जाना चाहिए।


Leave a Comment