स्कूल में दर्दनाक हादसा, छत गिरने से 27 बच्चे दबे मलबे के नीचे

सोनीपत, 23 सितंबर (The News Air)

हरियाणा के सोनीपत जिले से एक दिल दहला देने वाले बड़े हादसे की खबर सामने आई है। जहां एक स्कूल की छत गिर गई और 25 छात्र-छात्राएं मलबे के नीचे आकर दब गए। चीख पुकार सुनकर गांव वाले मौके पर पहुंचे और मलबे में दबे को निकालने में जुट गए। इस हादसे के बाद इलाके में हड़कंप मच गया।

Haryana major accident in Sonipat school where roof fall on children present in class

दरअसल, यह दर्दनाक हादसा जिले के गन्नौर तहसील के बाय गांव में जीवानंद मॉडल पब्लिक स्कूल में हुआ। जहां तीसरी, चौथी कक्षा के छात्र-छात्राओं की टीचर क्लास ले रहे थे। तो वहीं कुछ मजदूर छत पर मिट्टी डाल रहे थे, लेकिन इसी बीच छत भरभराकर गिर गई। जिसमें बच्चे- अध्यापक और मजदूरों को मिलाकर करीब 35 मलबे के नीचे आ गए।

Haryana major accident in Sonipat school where roof fall on children present in class

हादसे की जानकारी लगते ही गांव के लोग और पुलिस मौके पर पहुंची। इसके बाद रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया गया। पुलिस टीम ने स्थानीय लोगों के साथ मिलकर मलबे में दबे बच्चों और मजदूरों को निकाला गया। आनन-फानन में उनको  प्राइवेट अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। जिसमें से 7 लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है।

Haryana major accident in Sonipat school where roof fall on children present in class

पुलिस जांच में सामने आया है कि  स्कूल की छत कच्ची और तेज बारिश के चलते वह  जर्जर हो चुकी थी। स्कूल प्रशासन इसलिए बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए छत पर मिट्टी डलवा रहा था। लेकिन जैसी ही मजदूरों ने मिट्टी डाली तो छत गिर गई और यह हादसा हो गया।

Haryana major accident in Sonipat school where roof fall on children present in class

इस भयानक हादसे में गनीमत रही अब तक किसी की जान नहीं गई है। लेकिन मासूम बच्चों को गंभीर चोट आई है, साथ ही कई के तो सिर भी फूट गया। कुछ छात्रों के सिर पर कई टांके लगे हैं। जिला प्रशासन ने डॉक्टरों को बच्चों का सही से इलाज करने के निर्देश दिए हैं। हालांकि डॉक्टरों ने मासूमों की हालत खतरे से बाहर बताई है। 

Haryana major accident in Sonipat school where roof fall on children present in class

स्कूल प्रशासन ने इस हादसे के बाद स्कूल की छुट्टी कर दी है। वहीं घटना की जानकारी मिलते ही बच्चों के परिजन अस्पताल पहुंचे और अपने बच्चों की खैर-खबर ली। 

Leave a Comment