आर्यन के ड्रग रैकेट में शामिल होने के सबूत नहीं: क्रूज़ केस में SIT रिपोर्ट में खुलासा, सवालों के घेरे में..

The News Air- बॉलीवुड के सबसे चर्चित यानी कॉर्डेलिया क्रूज़ ड्रग्स केस में एक बड़ा खुलासा हुआ है। नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) की SIT को इस बात के कोई सबूत नहीं मिले हैं कि शाहरूख ख़ान के बेटे आर्यन ख़ान ड्रग्स के अंतरराष्ट्रीय ड्रग्स तस्करी सिंडिकेट का हिस्सा थे।

अंग्रेज़ी अख़बार हिन्दुस्तान टाइम्स ने सूत्रों के हवाले से दावा किया है कि आर्यन के ड्रग्स की किसी साज़िश में शामिल होने के प्रूफ भी नहीं मिले हैं। इस रिपोर्ट के सामने आने के बाद शुरुआत में इन्वेस्टिगेशन को लीड करने वाले NCB डायरेक्टर समीर वानखेड़े भी सवालों के घेरे में हैं।
SIT जांच के दौरान क्रूज़ पर हुई छापेमारी की कार्रवाई में भी कई अनियमितताएं मिली हैं। इस SIT का गठन कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक द्वारा NCB के ज़ोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर लगाए आरोपों के बाद किया गया था।

अभी पूरी नहीं हुई है जांच

हालांकि, अख़बार ने यह दावा किया है कि एसआईटी जांच अभी पूरी नहीं हुई है और एनसीबी के महानिदेशक एस एन प्रधान को अपनी अंतिम रिपोर्ट सौंपने में कुछ महीने लग सकते हैं। फाइनल रिपोर्ट को पेश करने से पहले क़ानूनी राय ली जाएगी, विशेष रूप से इस पहलू पर कि क्या आर्यन ख़ान पर कंजप्शन के आरोप लगाया जा सकता है।

वानखेड़े के काम के तरीक़ों पर सवालिया निशान

SIT की रिपोर्ट में मुंबई जोन के पूर्व डायरेक्टर समीर वानखेड़े के काम करने के तरीक़ों पर भी सवालिया निशान लगे हैं। वानखेड़े को फ़िलहाल NCB से हटा उनके मूल कैडर यानी DRI में वापस भेज दिया गया है। जांच के दौरान SIT की टीम वानखेड़े का कई बार बयान दर्ज़ कर चुकी है। SIT टीम ने इस केस से जुड़े कई आरोपियों, गवाहों और चश्मदीदों से भी बयान लिए हैं।

क्रूज़ से बरामद हुई थी ड्रग्स

समीर वानखेड़े ने 2 अक्टूबर 2021 की रात को मुंबई के ग्रीन गेट पर अंतर्राष्ट्रीय क्रूज़ टर्मिनल पर कॉर्डेलिया क्रूज़ में अपनी टीम के साथ कई घंटों तक छापेमारी की कार्रवाई को अंजाम दिया था। एनसीबी को यहां से 13 ग्राम कोकीन, 5 ग्राम मेफेड्रोन, 21 ग्राम मारिजुआना, 22 गोलियां एमडीएमए (एक्स्टसी) और 1.33 लाख रुपए नक़द बरामद हुए थे। जांच में सामने आया है कि क्रूज़ से एजेंसी ने 14 लोगों को पकड़ा था और कई घंटों की पूछताछ के बाद आर्यन ख़ान, अरबाज मर्चेंट और मुनमुम धमेचा को 3 अक्टूबर की दोपहर गिरफ़्तार दिखाया था। इसके बाद धीरे-धीरे इस केस में 17 और लोगों को अरेस्ट किया गया।

हाईकोर्ट ने भी कही थी लगभग यही बात

गौरतलब है कि एसआईटी जांच के शुरुआती निष्कर्ष बॉम्बे हाईकोर्ट की टिप्पणियों की पुष्टि करते हैं, जिसने पिछले साल 28 अक्टूबर को ख़ान को ज़मानत देते हुए कहा था कि NCB की रिपोर्ट में किसी भी साज़िश या ड्रग्स के आर्यन के पास से बरामद होने के सबूत नहीं मिले हैं।

ऐसे SIT के हाथ में आया ड्रग्स केस

NCB की SIT टीम क्रूज़ ड्रग्स केस, नवाब मलिक के दामाद समीर ख़ान का ड्रग्स मामला और अभिनेता अरमान कोहली के केस की जांच कर रही है। क्रूज़ ड्रग्स केस में आर्यन की गिरफ़्तारी के बाद महाराष्ट्र के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री नवाब मलिक मीडिया के सामने आये और उन्होंने खुलासा किया कि यह पहले से टारगेटेड रेड थी और पैसों की उगाही के लिए समीर वानखेड़े ने प्राइवेट लोगों का इस्तेमाल किया था। इसके बाद उन्होंने वानखेड़े के धर्म और कास्ट को लेकर भी आरोप लगाए। मलिक ने अपने दामाद को भी झूठे मामले में फंसाने का आरोप लगाया था। लगातार वानखेड़े पर लग रहे आरोप के बाद NCB ने इस मामले में SIT गठित कर 6 केस उसे सौंप दिए थे। हालांकि, बाद में SIT ने तीन केस को छोड़ दिया था। इन मामलों की जांच NCB के DDG, ऑपरेशन संजय सिंह कर रहे हैं।

व्हाट्सएप चैट को बनाया गया सबसे बड़ा सबूत

SIT की रिपोर्ट के मुताबिक़, छापेमारी के बाद व्हाट्सएप चैट को सबसे बड़ा सबूत मानते हुए वानखेड़े की टीम ने दावा किया कि आरोपी एक बड़ी साज़िश का हिस्सा थे। उन्होंने आरोप लगाया कि आर्यन ख़ान कुछ विदेशी ड्रग्स पैडलर्स के संपर्क में था। सबूत में उन चैट को अदालत में पेश किया गया जिसमें “हार्ड ड्रग्स” और “बल्क क्वांटिटी” का उल्लेख किया गया था।

हालांकि, एनसीबी के दावों को खारिज करते हुए बॉम्बे हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति नितिन डब्ल्यू साम्ब्रे की एकल पीठ ने कहा था कि किसी भी साज़िश को प्रूफ करने के लिए NCB के अबूत पर्याप्त नहीं हैं। जज ने कहा था कि आर्यन ख़ान और उनके दोस्त अरबाज मर्चेंट और मॉडल मुनमुन धमेचा शिप पर थे, सिर्फ़ इसलिए उन्हें इस ड्रग्स रैकेट का हिस्सा नहीं बताया जा सकता है।

Leave a Comment