तख़्त श्री हरमंदिर साहिब के मुख्य ग्रंथि का निधन, ख़ुद के कृपाण से अपने गर्दन पर किया था वार

The News Air- पटना सिटी में तख़्त श्री हरमंदिर के घायल मुख्य ग्रंथि भाई राजेंद्र सिंह की इलाज के दौरान सोमवार सुबह मौत हो गई। उनकी मृत्यु की ख़बर सुनते ही तख़्त श्री हरमंदिर परिसर में मातमी सन्नाटा छा गया। सिंह ने गुरुवार को आत्महत्या करने का प्रयास किया था। इसके बाद से वो अस्पताल में भर्ती थे।

मुख्य ग्रंथि भाई राजेंद्र सिंह के बेटे दया सिंह ने बताया, ‘सोमवार सुबह 3:00 बजे पटना के PMCH में ज़िंदगी और मौत के बीच जूझते हुए भाई राजेंद्र सिंह ज़िंदगी की ज़ंग हार गए। उनका अंतिम संस्कार पटना सिटी के खाज काला घाट पर सोमवार को किया जाएगा। इससे पहले उनके शरीर को अंतिम दर्शन के लिए गुरुद्वारा लाया जाएगा।’
गुरुवार को राजेंद्र सिंह ने ख़ुद के कृपाण से अपने गर्दन पर वार किया था। घायल अवस्था में भाई राजेंद्र सिंह को इलाज के लिए पटना के गुरु गोविंद सिंह अस्पताल में भर्ती कराया गया था। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए डॉक्टरों ने उन्हें बेहतर इलाज के लिए पटना के पीएमसीएच रेफर कर दिया था। घटना के बाद उनके परिवार सहित तख़्त श्री हरमंदिर में अफ़रातफ़री का माहौल बना हुआ था। उनके निधन की पुष्टि चौक थाना प्रभारी गौरी शंकर गुप्त ने की है। उन्होंने बताया कि उन्हें इस बात की सूचना मिली है। मामले की छानबीन की जा रही है। उनके शव का पोस्टमार्टम कराया जाएगा।

पद पर दूसरे की बहाली से थे परेशान!

जानकारी के अनुसार, श्री हरमंदिर साहिब के मुख्य ग्रंथी भाई राजेंद्र सिंह पिछले कुछ दिनों से परेशान दिख रहे थे। लोगों ने बताया कि उनके पद पर किसी दूसरे की बहाली की सूचना है। गुरुवार को वह ज़्यादा परेशान दिखे। इसी क्रम में उन्होंने आत्महत्या की नियत से अपने कृपाण से ख़ुद के गर्दन पर कई वार किया था। ख़ून से लथपथ होने के बाद जब परिजनों ने उनकी स्थिति देखी तो आनन-फानन में उन्हें गुरु गोविंद सिंह अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

Leave a Comment