बँटवारे में बिछड़े भाई 74 साल बाद मिले:गले लगे और फूट-फूटकर रो पड़े; यह देखकर..

The News Air- भारत-पाकिस्तान बँटवारे के समय 74 साल पहले बिछड़े दो सगे भाइयों का बुधवार को ऐसा मिलन हुआ कि दोनों तो फूट-फूटकर रोए ही, वहाँ मौजूद बाक़ी लोगों की आंखें भी नम हो गईं। पाकिस्तान के फैसलाबाद में रहने वाले मोहम्मद सदीक और भारत में रहने वाले मोहम्मद हबीब आक़ा उर्फ शैला पाकिस्तान स्थित श्री करतारपुर साहिब में मिले।

दोनों भाइयों के मिलन में सोशल मीडिया ज़रिया बना। दोनों पहले इस वर्चुअल प्लेटफॉर्म पर मिले, इसके बाद आमने-सामने। पहले तो दोनों गले लगकर रोए, फिर एक-दूसरे के आंसू पोंछे। हबीब ने अपने पाकिस्तानी भाई सदीक से कहा- चुप कर जा, शुक्र है मिल तां लिए…। हबीब ने भाई को यह भी बताया कि उन्होंने सारा जीवन मां की सेवा में लगा दिया। मां की परवरिश के कारण शादी भी नहीं की।

पाक रेंजर्स की भी हिम्मत नहीं हुई दोनों को जुदा करने की

यूँ तो कॉरिडोर में पैर रखते ही पहली हिदायत दी ज़ाती है कि भारतीय किसी भी पाकिस्तानी से बातचीत नहीं करेगा और न ही नंबर एक्सचेंज करेगा। कॉरिडोर पर अगर कोई भारतीय पाकिस्तान से बातचीत करता दिख भी जाता है तो पाक रेंजर्स टोक देते हैं, लेकिन, इस मंज़र के बाद तो पाक रेंजर्स का भी दिल पसीज गया और इन दोनों भाइयों को जुदा करने की हिम्मत शाम 4 बजे तक किसी की भी नहीं हुई।

यह मिलन जिगर चीर देने वाला था: CEO

करतारपुर कॉरिडोर प्रोजेक्ट के CEO मोहम्मद लातिफ ने बताया कि जब दोनों भाई एक दूसरे के गले मिले तो दोनों की ऊंची-ऊंची रोने की आवाज़ सुनाई दी। यह मंज़र जिगर को चीर गया। श्री करतारपुर साहिब में 5 हज़ार के क़रीब भारतीयों को एक दिन में लाने का इंतज़ाम है, लेकिन अभी यह गिनती 200 से भी कम है।

वीज़ा में दिक्क़त के कारण मिलने वाले आते हैं यहां

यह पहला मौक़ा नहीं था, जब विभाजन में बिछड़ो का करतारपुर में मिलन हुआ हो। इससे पहले अज्जोवाल होशियारपुर से सुनीता देवी अपने परिवार के साथ करतारपुर जाकर अपने रिश्तेदारों से मिली थीं। बँटवारे के समय सुनीता के पिता भारत में ही रह गए थे और बाक़ी परिवार पाकिस्तान चला गया था। इसी तरह अमृतसर का जतिंदर सिंह और हरियाणा की मनजीत कौर श्री करतारपुर साहिब अपने ऑनलाइन दोस्तों को मिलने पहुंच गए थे। हालांकि, उन्हें पाकिस्तान रेंजर्स ने दोनों को वापस भेज दिया था।

dolon

Leave a Comment