5 राज्यों के चुनाव में सबसे बड़ा फ़ायदा होगा आप को:सपा, बसपा को पछाड़ते हुए राष्ट्रीय पार्टी बन जाएगी आप

The News Air- आम आदमी पार्टी इस बार 5 में से 4 राज्यों यानी पंजाब, यूपी, गोवा और उत्तराखंड में चुनाव लड़ रही है। एग्जिट पोल के नतीजे कहते हैं कि पंजाब में ये पार्टी सरकार बनाएगी। इंडिया टुडे का एग्जिट पोल आप को 76 से 90 सीटें मिलने का दावा कर रहे हैं। जबकि सरकार बनाने के लिए केवल 59 सीटों की ज़रूरत है।

अगर सभी राज्यों के एग्जिट पोल के नतीजों को माने तो आप इन चुनावों के बाद राष्ट्री य पार्टी का दर्जा पा जाएगी। ये सिर्फ़ एक आंकड़ा नहीं है। अगर ऐसा होता है तो लोकसभा चुनाव 2024 में आप बीजेपी को सीधी चुनौती देने वाली पार्टी बन सकती है। साथ में वो संयुक्त विपक्ष में अहम भूमिका में आ जाएगी। ख़ास बात ये है कि दिल्ली में पार्टी की सरकार होने के चलते उनके नेताओं के बयान अक्सर सुर्ख़ियों में रहते हैं, अगर ऐसा होता है तो ये अगले कुछ सालों में आप पूरे देश में एक बड़ी पार्टी के तौर पर उभर सकती है।

आइए, आपको आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय पार्टी बनने और उसके राजनीतिक भविष्य की पूरी कहानी बताते हैं…

सुप्रीम कोर्ट के वकील विराग गुप्ता बताते हैं, राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा इलेक्शन कमीशन देती है। कोई भी क्षेत्रीय पार्टी 4 अलग-अलग तरीक़ों से राष्ट्रीय पार्टी बन सकती है। उन 4 तरीक़ों में से एक तरीक़ा होता है- 4 राज्यों में स्टेट पार्टी का दर्जा प्राप्त कर लेना। कहने का मतलब, अगर कोई पार्टी 4 राज्यों में स्टेट पार्टी का दर्जा प्राप्त कर लेती है तो वह आसानी से राष्ट्रीय पार्टी बन ज़ाती है।

अब स्टेट पार्टी का दर्जा कैसे मिलता है?

स्टेट पार्टी का दर्जा भी इलेक्शन कमीशन ही देती है। ये दर्जा पाने के लिए किसी भी पार्टी को 6 शर्तों में से किसी एक शर्त को पूरा करना होता है। हम उन 6 शर्तों में से उन 3 शर्तों की बात करेंगे जिन्हें आम आदमी पार्टी इन 5 राज्यों के चुनाव के बाद पूरा कर सकती है। इन 3 शर्तों में कोई 1 शर्त भी आप पूरा कर लेती है तो वह उन राज्यों की स्टेट पार्टी बन जाएगी और फिर राष्ट्रीय पार्टी भी।

  • अगर आम आदमी पार्टी 4 राज्यों के विधानसभा चुनाव में कुल वोट का 8% वोट हासिल कर लेती है तो वो उन राज्यों की स्टेट पार्टी बन सकती है।
  • या फिर 4 राज्यों के विधानसभा चुनाव में कुल वोट के 6% वोट के साथ 2 सीटें जीत ज़ाती है तो भी स्टेट पार्टी बनने के लायक़ हो जाएगी।
  • इसके अलावा अगर आम आदमी पार्टी 4 राज्यों के विधानसभा चुनाव में 3% वोट के साथ 3 सीटें जीत लेती है तो वह संबंधित राज्य की स्टेट पार्टी बन जाएगी।


एबीपी न्यूज़ सी-वोटर एग्जिट पोल समेत लगभग अन्य सभी एग्जिट पोल्स के मुताबिक़, आम आदमी पार्टी इन सभी राज्यों में इन सभी शर्तों को पूरा करती दिखाई दे रही है। एग्जिट पोल्स के असलियत में बदलते ही आप राष्ट्रीय पार्टी बनने के क़ाबिल हो जाएगी।

राष्ट्रीय पार्टी बनने से सिर्फ़ एक क़दम दूर आम आदमी पार्टी

एक राज्य यानी दिल्ली में तो आम आदमी पार्टी पहले से ही सारी शर्तों को पूरा करके ही बैठी है। अब बचते हैं 3 और राज्य।

पंजाब: एग्जिट पोल्स के मुताबिक़, पंजाब में आप सरकार बना रही है। यहां आप स्टेट पार्टी बनने की जरुरतों को 2017 में ही पूरा कर चुकी है। साल 2017 चुनावों में पंजाब की दूसरी सबसे बड़ी बन गई थी। 23% से ज़्यादा वोट हासिल कर लिए थे।
गोवा: 2017 के विधानसभा चुनावों में भी आप ने अच्छा प्रदर्शन किया था। वहाँ भी 6% से ज़्यादा वोट पा कर स्टेट पार्टी बनने की आधी शर्त तो पूरी कर ली थी लेकिन विधायक नहीं एक भी नहीं बन पाए थे। महापोल और सी वोटर एग्जिट पोल के मुताबिक़, साल 2022 के विधानसभा चुनावों में आप गोवा में पहले से बेहतर प्रदर्शन करती नज़र आ रही है। सी-वोटर एग्जिट पोल यहां आप का वोट परसेंटेज बढ़ने के साथ 5 सीटें तक जीतने का दावा कर रहा है।

उत्तर प्रदेश: इस बार आम आदमी पार्टी यूपी में भी दमखम के साथ चुनाव लड़ी है। सभी सीटों पर प्रत्याशी उतारे हैं। हालांकि यूपी में 6% से ज़्यादा वोट पाना अच्छी ख़ासी क्षेत्रीय पार्टियों के लिए भी मुश्किल बात होती है। यहां पर कुछ ख़ास कमाल दिखा पाना आम आदमी पार्टी के लिए मुश्किल होगा। लेकिन इस बात को दरकिनार नहीं किया जा सकता कि साल 2017 के निकाय चुनावों में 40 सीटें जीत कर आप पांचवी सबसे बड़ी पार्टी बनी थी। ज़मीनी स्तर पर आगे बढ़ रही है।

उत्तराखंड: उत्तराखंड में आम आदमी पार्टी कमाल कर सकती है। सी वोटर एग्जिट पोल्स के मुताबिक़, उत्तराखंड में आप 2 सीटें तक जीत सकती है। अगल-अलग एग्जिट पोल ये आंकड़ा ऊपर नीचे कर के भी बता रहे हैं। यहां पर आम आदमी पार्टी का वोट परसेंटेज 10% के आस-पास होने की संभावनाएं प्रबल हैं।

उत्तर प्रदेश को छोड़ कर अन्य तीन राज्यों के एग्जिट पोल्स नतीजों में बदलते हैं तो आम आदमी पार्टी को राष्ट्रीय पार्टी बनने से कोई नहीं रोक सकता।

आम आदमी पार्टी राष्ट्रीय पार्टी बन गई तो क्या होगा?

भाजपा के अलावा देश में अभी कांग्रेस दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनी हुई है। भाजपा के अलावा कांग्रेस की ऐसी एकलौती राष्ट्रीय पार्टी है जिसकी सरकार दो से ज़्यादा राज्यों यानी राजस्थान, छत्तीसगढ़ और पंजाब में है। हालांकि एग्जिट पोल के अनुसार पंजाब में कांग्रेस की सरकार ज़ाती दिख रही है।
आम आदमी पार्टी केवल 10 साल पहले शुरू हुई थी। दिल्ली में तो मज़बूत सरकार है ही लेकिन जिन भी राज्यों में चुनाव लड़ रही है उसका वोट परसेंटेज बढ़ता ही जा रहा है। अगर इसी स्पीड से आगे बढ़ती रही तो अगले 2-3 सालों में कांग्रेस को पछाड़ते हुए देश की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बन जाएगी। साल 2024 तक सीधे भारतीय जनता पार्टी को चुनौती देने की स्थिति में पहुंच जाएगी।

कांग्रेस के अलावा अन्य राष्ट्रीय पार्टियों जैसे- भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी), नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी, नेशनल पीपुल्स पार्टी, तृणमूल कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी की बात करें तो ये पार्टियां राष्ट्रीय स्तर पर उतनी मज़बूत स्थिति में नहीं हैं। केवल अपने राज्य की दम पर ही टिकी हुई हैं। एनसीपी, टीएमसी, सीपीआई और बसपा तो अपनी राष्ट्रीय पार्टी का स्टेटस खोने की कगार पर हैं।

साल 2021 में आम आदमी पार्टी गुजरात के म्युनिसिपल कारपोरेशन के चुनाव में भी अच्छा प्रदर्शन कर चुकी है। अब 2022 में होने वाले हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में पूरी-पूरी 68 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी में है।

Leave a Comment