सुनील जाखड़ के बयान से पंजाब में खलबली: बोले- सफेद चादर लेकर घूमना शर्मनाक

The News Air- चंडीगढ़ पंजाब में कांग्रेस की चुनावी हार के बाद पूर्व प्रदेश प्रधान सुनील जाखड़ के बयान से खलबली मच गई है। जाखड़ ने एक इंटरव्यू में कहा कि मैं कहना नहीं चाहता था, लेकिन गंभीर बात कर रहा हूं। पूर्व CM चरणजीत चन्नी के खिलाफ पहले IAS अफसर वाला MeToo का केस बना। अब एक महिला पत्रकार के साथ ऐसा हुआ। उन्होंने कहा कि मैं पूरी जिम्मेदारी से यह बात कह रहा हूं। जाखड़ ने कहा कि यह जो सफेद चादर लेकर घूम रहे हैं। यह बहुत शर्मनाक है।

पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान सुनील जाखड़

पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान सुनील जाखड़

जाखड़ ने कहा कि महिला पत्रकार सच्चाई बताकर पंजाब की बच्चियों पर बहुत बड़ा उपकार करेंगी। मैं उनका नाम नहीं घसीटना चाहता, लेकिन चन्नी ने जो किया, वह पार्टी और समाज के लिए शर्म की बात है। हालांकि इस संबंध में CM चन्नी की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

चरणजीत चन्नी ने 20 सितंबर को पंजाब के CM पद की शपथ ली थी

चरणजीत चन्नी ने 20 सितंबर को पंजाब के CM पद की शपथ ली थी

मैं चन्नी को लीडर नहीं मानता

सुनील जाखड़ ने कहा कि कांग्रेस ने चरणजीत चन्नी को CM बना दिया था। उसके 4-5 दिन बाद मेरी मुलाकात हुई तो मुझे गवर्नमेंट में काम करने को कहा गया। मैंने कह दिया कि मैं चन्नी को लीडर नहीं मानता। मैं उसे लीडर के तौर पर स्वीकार नहीं करता। मैं पार्टी के साथ काम करता रहूंगा। जाखड़ ने कहा कि मैं चन्नी को अच्छी तरह से जानता था। वह अपने चाल-चलन और चरित्र समेत किसी बात पर खड़े नहीं रहते।

टॉस उछालकर पोस्टिंग का फैसला करते चन्नी

टॉस उछालकर पोस्टिंग का फैसला करते चन्नी

कई बार विवादों में रहे चन्नी

टॉस उछालकर पोस्टिंग : चरणजीत चन्नी जब तकनीकी शिक्षा मंत्री थे तो 3 साल पहले पॉलिटेक्निक इंस्टिट्यूट में भर्ती की गई थी। लेक्चरर के दो आवेदक एक ही जगह पर पोस्टिंग चाहते थे। उस वक्त चन्नी ने टॉस किया और जिसका टेल आया, उसे मन मर्जी वाली जगह पोस्टिंग मिल गई।

IAS अफसर को मैसेज : साल 2018 में चन्नी पर एक महिला IAS अफसर को आपत्तिजनक मैसेज भेजने का आरोप लगा। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने चन्नी को माफी मांगने को कहा। कैप्टन ने कहा था कि इसके बाद मामला खत्म हो गया है। हालांकि पिछले साल मई में अचानक यह मामला फिर उठा। पंजाब महिला आयोग की अध्यक्ष मनीषा गुलाटी ने चेतावनी दी कि चन्नी पर कार्रवाई न हुई तो वे अनशन पर बैठ जाएंगी। हालांकि जब चन्नी CM बन गए तो वह इस मामले से बचने लगी। बाद में उन्होंने कांग्रेस छोड़ भाजपा जॉइन कर ली।

ग्रीन बेल्ट तोड़ सड़क बना दी : 2018 में चन्नी जब मंत्री बने तो ज्योतिषी की सलाह पर उन्होंने सरकारी घर का नक्शा बदल दिया। राजनीति में कामयाबी के लिए चन्नी ने चंडीगढ़ स्थित घर में एंट्री की दिशा पूर्व की तरफ कर दी। इसके लिए उन्होंने ग्रीन बेल्ट तुड़वाकर सड़क बनवा दी। हालांकि चंडीगढ़ प्रशासन ने फिर सड़क हटा ग्रीन बेल्ट बना दिया।

हाथी की सवारी : राजनीति में कामयाबी के लिए चन्नी ने खरड़ स्थित अपने घर में हाथी की सवारी की। तब यह बात सामने आई कि किसी ज्योतिषी ने उन्हें कहा कि अगर वह ऐसा करते हैं तो पंजाब के CM बन सकते हैं। हालांकि चन्नी के CM बनने के बाद खूब चर्चा हुई कि यह टोटका उनके काम आ गया।

पैचवर्क का बयान : चन्नी कुछ वक्त पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता भी रहे। उस वक्त अकाली-भाजपा सरकार थी। सुखबीर बादल डिप्टी सीएम थे। सुखबीर ने विधानसभा में चन्नी से पूछा कि वे 2002 से 2007 के बीच कैप्टन सरकार का एक विकास कार्य बताएं। इस पर चन्नी कह बैठे कि कैप्टन साहब ने पूरे पंजाब की सड़कों पर पैचवर्क कराएं हैं।

Phd एंट्रेंस पास नहीं कर पाए : चन्नी ने 2017 में इंडियन नेशनल कांग्रेस पर Phd के लिए एंट्रेंस दिया था। उस वक्त यह आरोप लगा कि चन्नी को फायदा मिल सके, इसके लिए पंजाब यूनिवर्सिटी ने SC/ST उम्मीदवारों के लिए नियमों में छूट दी। हालांकि वे एंट्रेंस पास नहीं कर सके थे।

CM बनने के लिए हाथी की सवारी करते चन्नी

CM बनने के लिए हाथी की सवारी करते चन्नी

Leave a Comment