अखिलेश यादव से फिर नाता तोड़ेंगे शिवपाल यादव? भतीजे के तंज पर चाचा ने दिया करारा जवाब

समाजवादी पार्टी (SP) के मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) और उनके चाचा शिवपाल यादव (Shivpal Yadav) के रास्ते एक बार फिर अलग होने वाले हैं। समाजवादी पार्टी के चुनाव चिन्ह पर चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे शिवपाल यादव ने अपने भतीजे अखिलेश यादव को करारा जवाब दिया है। न्यूज 18 से एक्सक्लूसिव बात करते हुए शिवपाल ने SP प्रमुख पर निशाना साधते हुए पूछा कि अगर वह पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त हैं तो अखिलेश उन्हें पार्टी से निकाल क्यों नहीं देते।

शिवपाल ने कहा कि अगर अखिलेश को लगता है कि मैं भारतीय जनता पार्टी (BJP) के संपर्क में हूं तो वह मुझे निष्कासित क्यों नहीं कर देते? अगर उन्हें लगता है कि मैं पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त हूं तो उन्हें मुझे विधानमंडल दल से निकाल देना चाहिए।

ओम प्रकाश राजभर के दावों को किया खारिज

शिवपाल ने सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (SBSP) के प्रमुख ओम प्रकाश राजभर के उस दावे को भी खारिज कर दिया, जिसमें उन्होंने उनसे मुलाकात की बात कही थी। राजभर ने कहा था कि कि समाजवादी पार्टी और शिवपाल यादव 2024 का लोकसभा चुनाव मिलकर लड़ेंगे।

राजभर के दावों पर प्रतिक्रिया देते हुए शिवपाल ने कहा कि वह अभी भी सपा के साथ हैं। उन्होंने कहा कि मैंने इस मुद्दे पर राजभर से बात नहीं की है। अगर अखिलेश को लगता है कि मैं बीजेपी के साथ साजिश कर रहा हूं तो उनके पास मुझे पार्टी से निकालने का अधिकार है।

बीजेपी में शामिल होने के सवाल पर शिवपाल ने कहा कि मैं उचित समय पर अपने फैसले का खुलासा करूंगा। उन्होंने कहा कि मैं कहां जा रहा हूं? मेरे पास क्या योजनाएं हैं? मैं आपको सब कुछ बता दूंगा। उन्होंने कहा कि मैं उत्तर प्रदेश विधानसभा में समाजवादी पार्टी के 111 विधायकों में से सिर्फ एक हूं। शिवपाल ने कहा कि अभी इस बात को लेकर कोई फैसला नही हुआ है। उन्होंने कहा कि अभी हम पार्टी की समीक्षा करेंगे और इसके बाद नया संगठन का गठन होगा।

अखिलेश ने शिवपाल पर साधा था निशाना

दरअसल, उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने शिवपाल यादव को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने साफ कर दिया है कि जो बीजेपी से मिलेगा वो सपा में नहीं रहेगा। अखिलेश ने बुधवार को शिवपाल को लेकर किए गए एक सवाल पर आगरा में कहा था कि जो बीजेपी में है वो सपा में कैसे हो सकता है? इशारों ही इशारों में शिवपाल को बीजेपी का करीबी बताते हुए सपा प्रमुख ने कहा था कि उन्हें चले जाना चाहिए।

Leave a Comment