मौत से पहले शेन वॉर्न के आखिरी 20 मिनट

The News Air- ऑस्ट्रेलिया के महान स्पिन गेंदबाज शेन वॉर्न का 52 साल की उम्र में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। उन्होंने थाइलैंड के सामुई में अपनी आखिरी सांस ली। वो चार दोस्तों के साथ वहां हॉलिडे पर गए थे। 20 मिनट तक उनके दोस्त और मेडिकल एक्सपर्ट ने CPR देकर उनकी जान बचाने की कोशिश की, लेकिन उन्हें बचा नहीं सके। यही बीस मिनट उनके जिंदगी के आखिरी पल साबित हुए।

वह सामुई के एक प्राइवेट विला में रह रहे थे। जब वॉर्न ब्रेकफास्ट करने नहीं आए तो एक दोस्त उन्हें बुलाने गया। जब वो पहुंचा तो वो बेहोश गिरे पड़े मिले थे।

CPR से भी नहीं बच पाई वॉर्न की जान

सामुई के इसी विला में बेसुध पाए गए थे वॉर्न।
सामुई के इसी विला में बेसुध पाए गए थे वॉर्न।

दोस्त उन्हें बेहोश देखकर घबरा गए और वो वॉर्न को CPR देने लगे साथ ही उन्होंने तुरंत एम्बुलेंस को फोन भी किया। जब तक इमरजेंसी टीम वहां पहुंची उनके दोस्त पिछले 5 मिनट से उन्हें CPR दे रहे थे। इमरजेंसी टीम ने भी अगले 10 मिनट तक उनको CPR दिया। इसके बाद उन्हें थाई इंटरनेशनल हॉस्पिटल ले जाया गया। हॉस्पिटल ने भी उन्हें पांच मिनट तक CPR दिया, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका।

क्या होता है CPR?

CPR (कार्डियो पल्मोनरी रिससिटैशन) एक तरह की मेडिकल थैरेपी है, जो मरीज की जान बचाने के लिए इमरजेंसी हालत में दी जाती है। यह थैरेपी कार्डियक अरेस्ट आने या फिर सांस लेने में दिक्कत होने की स्थिति में दी जाती है।

2007 में वॉर्न ने अपना आखिरी टेस्ट मैच खेला था। मैच के बाद उन्हें कंधे पर उठाए ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी।
2007 में वॉर्न ने अपना आखिरी टेस्ट मैच खेला था। मैच के बाद उन्हें कंधे पर उठाए ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी।

ऑस्ट्रेलिया की विदेश मंत्री ने वॉर्न के दोस्तों से की बात

ऑस्ट्रेलिया की विदेश मंत्री मारिस पेन ने थाईलैंड में वॉर्न के दोस्तों से बात की है। कई अधिकारी शनिवार को आगे की कार्रवाई में मदद के लिए थाईलैंड जाएंगे। उन्होंने कहा कि हम थाई प्रशासन के साथ काम कर वॉर्न के निधन के बाद आगे की कार्रवाई के लिए संपर्क में हैं।

रिकॉर्ड के बादशाह थे शेन वॉर्न

वॉर्न थाइलैंड में अपने चार दोस्तों के साथ हॉलिडे पर गए थे।
वॉर्न थाइलैंड में अपने चार दोस्तों के साथ हॉलिडे पर गए थे।

सिर्फ 52 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कहने वाले वॉर्न क्रिकेट ग्राउंड पर अपने शानदार प्रदर्शन के लिए हमेशा याद किए जाएंगे। वॉर्न टेस्ट क्रिकेट में 600 और 700 विकेट के माइलस्टोन तक पहुंचने वाले दुनिया के पहले गेंदबाज बने थे। वे IPL टाइटल जीतने वाले पहले कप्तान बने थे।

Leave a Comment