चुनावी ज़ंग में उतरेंगे किसान!:पंजाब के 32 संगठनों के नेताओं की हुई गुप्त मीटिंग


The News Air – (चंडीगढ़) पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 की ज़ंग में किसान नेता भी मैदान में उतर सकते हैं। गुरुवार को पंजाब के 32 किसान संगठनों के नेताओं की लुधियाना के समराला में गुप्त मीटिंग हुई, जिसमें किसान नेताओं ने चुनाव पर मंथन किया। कुछ किसान नेताओं का यह मत जरुर था कि उन्हें सीधे चुनाव मैदान में उतरना चाहिए।

हालांकि फ़िलहाल किसान नेताओं ने ख़ुद चुनाव लड़ने के अलावा किसी एक पार्टी, किसी एक यूनियन या नेता का समर्थन या राजनीति से दूरी बनाए रखने का विकल्प भी खुला रखा है। इसको लेकर फिर से किसान नेताओं की मीटिंग हो सकती है। वहीं मीटिंग की जानकारी बाहर आते ही नेताओं में हड़कंप मचा हुआ है।

किसान नेताओं का तर्क, राजनीतिक लालसा से बड़ा हमारा मसला

किसान नेताओं का मानना है कि उनके लिए चुनाव लड़ना राजनीतिक लालसा से ज़्यादा बड़ा है। किसानों के मसले पर सभी राजनीतिक दल और नेता वादे करते हैं, लेकिन उन्हें पूरा नहीं करते। 2017 के चुनाव में भी कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पूर्ण क़र्ज़ माफ़ी का वादा किया था, लेकिन अभी तक सबको इसका लाभ नहीं मिला। केंद्र ही नहीं बल्कि राज्य से जुड़े बिजली, फ़सलों के रेट समेत कई मुद्दों पर भी उन्हें सुनवाई के लिए धरना देने को मजबूर होना पड़ता है। इसलिए वह पारंपरिक पार्टियों से किनारा करने के मूड़ में हैं।

सहमति बनाने की कोशिश

मीटिंग में कुछ किसान नेताओं ने कहा कि पंजाब के लोग सत्ता कभी कांग्रेस और कभी अकाली दल को दे देते हैं। इसके बावज़ूद किसानों से जुड़े मुद्दे हल नहीं होते। इसलिए अब 32 संगठनों के बीच सहमति बनाने की कोशिश चल रही है कि क्यों न किसान संगठनों के नेता ही चुनाव लड़ें और फिर किसानों के मुद्दे हल करवाएं।

चुनाव लड़ने पर अब रोक नहीं

किसान नेता बूटा सिंह बुर्ज़ गिल ने कहा कि समराला में बलबीर सिंह राजेवाल ने फ़तेह पार्टी रखी थी, जिसमें सब इकट्‌ठा हुए थे। जब तक किसान आंदोलन चल रहा था तो किसान नेताओं को राजनीति से दूर करने को कहा गया था। अब कृषि क़ानून वापसी के बाद आंदोलन ख़त्म हो चुका है। अब किसी पर कोई रोक नहीं है कि वह राजनीति करें या फिर चुनाव लड़ें।

चढ़ूनी बने पंजाब के संगठनों की चुनौती

संयुक्त किसान मोर्चा में रहे हरियाणा के किसान नेता गुरनाम चढ़ूनी पंजाब के संगठनों की चुनौती बने हुए हैं। चढ़ूनी पंजाब की राजनीति में सक्रिय हो चुके हैं। वह ख़ुद चुनाव नहीं लड़ेंगे, लेकिन अपने उम्मीदवार उतारेंगे। उनकी शनिवार को चंडीगढ़ में प्रेस कॉन्फ्रेंस है, जिसके बाद वह पार्टी की भी घोषणा कर सकते हैं। चढ़ूनी अगर पंजाब की सियासत में किसानों के सहारे कामयाब हो गए तो पंजाब के संगठनों को बड़ा झटका लग सकता है। इसलिए चुनाव पर मंथन किया जा रहा है।

राजनीतिक दलों की चिन्ता, पंजाब में ताक़तवर किसान वोट बैंक

पंजाब में किसान चुनाव में उतरते हैं तो राजनीतिक दलों के लिए बड़ी चिन्ता साबित होगी। इसकी वजह पंजाब में वोट बैंक का गणित है। पंजाब की कुल 117 विधानसभा सीटों में से 77 सीटों पर किसानों का डोमिनेंस हैं। किसान आंदोलन में पंजाब का हर संगठन ने साथ दिया। किसान किसी ने किसी संगठन से जुड़े हुए हैं। ऐसे में अगर सभी 32 किसान संगठन एकजुट होकर चुनाव में आ गए तो पंजाब चुनाव में बड़ा सियासी धमाका होना तय है। किसान नेताओं को सिर्फ़ किसानों का ही नहीं, बल्कि उनसे जुड़े आढ़ती वर्ग, खेतीबाड़ी से जुड़े दुकानदारों आदि का भी समर्थन मिल सकता है।


Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro
Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

I Have Disabled The AdBlock Reload Now
Powered By
CHP Adblock Detector Plugin | Codehelppro