टीकों की कमी के मद्देनजऱ पंजाब सरकार द्वारा बढिय़ा कीमत पर खरीद हेतु वैश्विक स्तर पर कोवैक्स संस्थान के साथ जुडऩे का फैसला

चंडीगढ़, 13 मई:

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार ने गुरूवार को कोवैक्स संस्थान के साथ जुडऩे का फ़ैसला किया, जिससे बढिय़ा कीमत पर कोविड के टीकों की खरीद के लिए वैश्विक स्तर पर पहुँच बनाई जा सके। इस तरह पंजाब यह नवीन पहल करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है, जिसका मकसद कोविड की दूसरी जानलेवा लहर के दौरान टीकों की कमी की समस्या का हल करना है।

यह फ़ैसला मंत्रीमंडल की मीटिंग के दौरान किया गया, जिस मौके पर औद्योगिक कामगारों के लिए कोवैक्सीन खरीदने के फ़ैसले को भी मंज़ूरी दी गई, जिनके टीकाकरण का खर्चा उठाने के लिए उद्योग जगत ने सहमति प्रकट की है। राज्य सरकार ने अभी तक 18-44 उम्र वर्ग के लिए सिफऱ् कोविशील्ड टीकों का ही ऑर्डर दिया है, परन्तु मौजूदा फ़ैसले से कोवैक्सीन के ऑर्डर देने का रास्ता भी साफ हो गया है।

राज्य में टीकाकरण की मौजूदा स्थिति और उपलब्धता की समीक्षा करते हुए मंत्रीमंडल ने कहा कि इस टीके का वैश्विक स्तर पर प्रबंध किया जाना ज़रूरी था। मंत्रीमंडल ने फ़ैसला किया कि क्योंकि कोवैक्स संस्थान द्वारा बढिय़ा कीमतों की पेशकश की जाती है, इसलिए राज्य को अंतरराष्ट्रीय बाज़ार से टीके खरीदने के लिए इस संस्थान के साथ जुडऩा चाहिए। कोवैक्स के साथ जुडऩे का सुझाव मंत्रीमंडल को डॉ. गगनदीप कंग ने दिया जो टीकाकरण सम्बन्धी पंजाब के विशेषज्ञ समूह की प्रमुख हैं।

कोविड-19 वैक्सीन्ज़ ग्लोबल एक्सैस जिसको कोवैक्स भी कहा जाता है, यह विश्वव्यापी प्रयास है, जिसका मकसद गवि, द वैक्सीन ऐलायंस, जोकि महामारियों से निपटने की अलग ढंग से तैयारी करने के लिए एक संगठन है और विश्व स्वास्थ्य संगठन के निर्देशों के अनुसार कोविड-19 टीकों तक सबकी एक समान पहुँच बनाना है।

इस मौके पर स्वास्थ्य सचिव हुसन लाल ने मंत्रीमंडल को जानकारी दी कि राज्य सरकार द्वारा ऑर्डर की गई कोविशील्ड की 30 लाख डोज़ में से सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने अभी तक 4.29 लाख की ही पुष्टि की है, जिनमें से 1 लाख डोज़ राज्य को हासिल हो चुकी हैं। उन्होंने आगे बताया कि केंद्र सरकार से सम्बन्धित कुछ संस्थाएं और औद्योगिक संस्थान अपने कामगारों का जल्द टीकाकरण किए जाने की विनती कर रहे हैं। टीकों की कमी को देखते हुए उन्होंने यह बताया कि कुछ राज्यों द्वारा इन टीकों के आयात के लिए टैंडर माँगे जा रहे हैं।

स्वास्थ्य सचिव ने कैबिनेट को आगे जानकारी देते हुए बताया कि 45 साल से अधिक उम्र वर्ग के लिए कोविशील्ड वैक्सीन की 1,63,710 डोज़ की आखिरी खेप 9 मई को पहुँची थी, जिसकी कुल संख्या 42,48,560 है। 3,45,000 डोज़ रक्षा सेनाओं को दी गई हैं, जबकि टीकाकरण की कुल संख्या 39,03,560 है।

45 साल से अधिक उम्र वर्ग के लिए कोवैक्सीन की 75000 डोज़ की आखिरी खेप 6 मई 2021 को पहुँची थी, जिसकी कुल संख्या 4,09,080 है, जिनमें से आज तक 3,52,080 का प्रयोग हो गया है और अब सिफऱ् 57000 डोज़ बचे हैं।

Leave a Comment