पंजाब में मंडराया बिजली संकट:प्राइवेट थर्मल प्लांटों में 3 से 6 दिन का बचा कोयला

The News Air – पंजाब में बिजली संकट आने लगा है। गर्मी की शुरूआत होते ही बिजली की डिमांड बढ़ गई है। राज्य के 3 प्राइवेट थर्मल प्लांट में सिर्फ़ 3 से 6 दिन का कोयला बचा है। इसके अलावा सरकारी थर्मल प्लांटों में क्षमता के मुताबिक़ बिजली पैदा नहीं हो रही है। ऐसे में पंजाब की नई AAP सरकार में हड़कंप मच गया है। हालात बिगड़ते देख पंजाब सरकार ने अफ़सरों की टीम झारखंड रवाना कर दी है। जो वहाँ कोयले की आपूर्ति को सुनिश्चित करेंगे।

प्राइवेट थर्मल प्लांटों में उत्पादन ठप होने की आशंका

पंजाब के प्राइवेट थर्मल प्लांटों में बिजली उत्पादन ठप होने की आशंका बनी हुई है। 1400 मेगावाट क्षमता वाले राजपुरा थर्मल प्लांट में सिर्फ़ 6 दिन का कोयला बचा है। 1980 मेगावाट वाले तलवंडी साबो थर्मल प्लांट में सिर्फ़ 4 दिन का कोयला है। वहीं गोइंदवाल साहिब में 3 दिन का कोयला बचा है। इसकी क्षमता 540 मेगावाट है लेकिन एक ही यूनिट चल रही है।

सरकारी में उत्पादन पूरा नहीं

सरकारी थर्मल प्लांटों में शामिल रोपड़ थर्मल प्लांट में कोयला तो 20 दिन का बचा है लेकिन उत्पादन पूरा नहीं हो रहा। यह प्लांट 840 मेगावाट का है लेकिन उत्पादन 566 मेगावाट हो रहा है। वहीं लेहरा मुहब्बत की क्षमता 1925 मेगावाट है। यहां भी 20 दिन का कोयला बचा है। यहां उत्पादन पूरा बताया जा रहा है।

कोयले की क़ीमत बढ़ने से ख़रीद में देरी

कोयला संकट के बीच यह बात भी अहम है कि कोयले की क़ीमत बढ़ने से यह दिक्क़त पैदा हुई है। जानकारों के मुताबिक़ कोल इंडिया लिमिटेड ने पब्लिक सेक्टर थर्मल प्लांटों के लिए तो 4 हज़ार रुपए प्रति मीट्रिक टन का एग्रीमेंट किया है। हालांकि निजी थर्मल प्लांट ऑनलाइन बोली के ज़रिए कोयला ख़रीदते हैं। गर्मियों में इसकी मांग बढ़ने पर रेट भी क़रीब 350% बढ़ चुके हैं। जिस वजह से कोयला नहीं ख़रीदा जा रहा। इसके चलते कोयला संकट पैदा हो रहा है।

पिछले साल पंजाब ने झेला ब्लैक आउट

पंजाब में पिछले साल अक्टूबर महीने में पंजाबियों ने बिजली संकट झेला। कोयले की कमी की वजह से प्राइवेट थर्मल प्लांटों में बिजली उत्पादन ठप हो गया था। भीषण गर्मी में लोगों को 24 घंटे में क़रीब 8 से 12 घंटे के कट झेलने पड़े। किसानों को भी बिजली नहीं मिली। ऐसे में हालात और बिगड़ सकते हैं।

चन्नी सरकार फेल रही, अब CM मान के लिए चुनौती

पिछले साल हुए बिजली संकट को संभालने में तत्कालीन CM चरणजीत चन्नी की अगुवाई वाली सरकार फेल रही। खेती और इंडस्ट्री को पर्याप्त बिजली देना तो दूर, कोयला संकट से घरों में भी बत्ती गुल हो गई। अब पंजाब में CM भगवंत मान की अगुवाई में आम आदमी पार्टी की सरकार बन गई है। ऐसे में उन्हें अब बिजली संकट की चुनौती को झेलना होगा।

Leave a Comment