PHOTO: अफ़ग़ानिस्तान में आतंक का ख़ौफ़नाक चेहरा कब मौत आ जाए, किसी को नहीं पता

काबुल, 30 अगस्त (The News Air)

Afghanistan में Taliban की वापसी के बाद से स्थितियां बेहद खतरनाक हो चली हैं। उस पर आतंकी संगठन ISIS-K के हमलों ने लोगों के लिए मानों इधर कुआं-उधर खाई वाले हालात पैदा कर दिए हैं। गुरुवार को काबुल हवाई अड्डे पर हुए आतंकी हमले के बाद से अमेरिका लगातार एयर स्ट्राइक(air strike) कर रहा है। इसमें आम नागरिक भी शिकार हो रहे हैं। रविवार को एक रिहायशी इलाके में रॉकेट गिरने से 6 बच्चों सहित 9 लोगों की मौत की खबर है। अफगानिस्तान में मानवाधिकारों को देखने वाला कोई नजर नहीं आता।

terror jpg

पहली तस्वीर तस्वीरें Panjshir_Province के twitter हैंडल पर शेयर की गई हैं। इसमें युद्धग्रस्त देश में बच्चों की स्थिति दिखाई गई है। दूसरी तस्वीर अमेरिकी नौसेना (24th marine expeditionary unit) की एक लेडी यौद्धा की है। उसे काबुल हवाई अड्डे पर आतंकी खतरे के बीच अपने मासूम को गोद में लेकर ड्यूटी निभाते देखा गया। यह फोटो AP से साभार है।

afghanchild jpg

यह तस्वीर मोहम्मद जलाल(Muhammad Jalal) ने अपने twitter हैंडल पर शेयर करते हुए लिखा-दो मासूम ड्रोन एयर स्ट्राइक में मारे गए। बता दें कि जलाल खुद को एक शांति कार्यकर्ता(Peace activist) मानते हैं। वे अफगानिस्तान में शांति और समृद्धि के पक्षधर हैं।

taliban attack jpg

यह फोटो हैरात-1992 की है। यह तस्वीरें स्टीव मैककरी(Steve McCurry) ने अपने twitter हैंडल पर शेयर की हैं।  इसमें लिखा कि अफगानों और उनके बच्चों की पीढ़ियां युद्ध और उसके अत्याचारों के शिकार रही हैं। बता दें कि स्टीव मैककरी अमेरिका के एक जाने-माने फोटो जर्नलिस्ट हैं। उन्हें युद्धग्रस्त अफगानिस्तान में जीवन की जटिलता दिखातीं तस्वीरों के लिए जाना जाता है।

afghanistan jpg

यह तस्वीर अफगानिस्तान के पोल-ए-खोमरी(Pol-e Khomri) में स्टीव मैककरी ने 1992 में खींची थी। Afghanistan में Taliban की वापसी ने फिर से 1996 से लेकर 2001 के जख्म तरोताजा कर दिए। उस दौरान अपने शासनकाल में भी तालिबान ने लोगों को बेइंतहा टॉर्चर किया और अब फिर से अफगानिस्तान में लोगों का जीवन नरक बन गया है।

taliban jpg

अफगानिस्तान से अमेरिका सेना की वापसी की अंतिम तारीख 31 अगस्त है। जब तक अमेरिका सेना यहां रही, लोगों को शांति-सुकून रहा। बच्चों खासकर; लड़कियों की पढ़ाई-लिखाई को लेकर कोई दिक्कत नहीं हुई, लेकिन अब फिर से महिलाओं की आजादी पर खतरा मंडरा रहा है।

Leave a Comment