3rd Wave का प्रकोप! 300 बच्चे कोरोना पॉजिटिव- पंजाब-हरियाणा-हिमाचल के स्कूलों में बढ़ते जा रहे हैं केस

नई दिल्ली , 12 अगस्त (The News Air)

देश में कोरोना वायरस का कहर अभी पूरी तरह से ख़त्म नहीं हुआ है। कोरोना की दूसरी लहर अभी पूरी तरह से ख़त्म नहीं हुई है कि तीसरी लहर ने दस्तक देना भी शुरू कर दिया है। देश के कई राज्यों में एक तरफ़ जहां पाबंदियों को खोलना जारी है, तो कुछ जगहों पर नए मामलों की बढ़ती संख्या चिन्ता बढ़ा रही है। सबसे अहम बात ये है कि अब स्कूल खुल जाने के कारण बच्चों पर ख़तरा मंडरा रहा है, कर्नाटक के बेंगलुरु में ऐसे ही नतीजे दिखे हैं। 

कोरोना वायरस के मामले कम होने के बाद कई जगह स्कूल-कॉलेज खोल दिए गए थे। कर्नाटक के बेंगलुरु में भी ऐसा ही हुआ, लेकिन हाल ही में जारी आंकड़ों से जो तस्वीर निकलकर सामने आई है वो डराने वाली है। यहां क़रीब 6 दिनों में 300 से अधिक बच्चे कोरोना की चपेट में आए हैं। बेंगलुरु जैसे बड़े शहर का ये आंकड़ा राज्य में सबसे तेज़ी से बढ़ता हुआ है। बेंगलुरु प्रशासन द्वारा जो आंकड़े दिए गए हैं, उनमें 0 से 9 साल के क़रीब 127 और 10 से 19 साल के क़रीब 174 बच्चे कोविड पॉजिटिव पाए गए हैं।

कर्नाटक से इधर अगर उत्तर भारत की बात करें, तो यहां भी स्कूल-कॉलेज खुलने के बाद कोरोना के फैलते प्रकोप का असर दिख रहा है। हिमाचल प्रदेश में क़रीब 62 छात्र कोविड की चपेट में आए हैं, पंजाब में भी 27 स्कूली बच्चे कोरोना पॉजिटिव हुए हैं। हरियाणा के स्कूलों में भी कोरोना के केस दिखे हैं। 

स्कूलों में लगातार आ रहे कोरोना के मामलों के कारण सरकारें एक बार फिर सकते में आई हैं। अब हिमाचल प्रदेश ने 22 अगस्त तक स्कूल बंद करने की बात कही है। पंजाब (Punjab) की ओर से भी स्कूलों में सख़्ती बढ़ाने की तैयारी है। बता दें कि हरियाणा में नौवीं से बारहवीं तक के स्कूल जुलाई में खोले गए थे, जबकि पंजाब ने अगस्त की शुरुआत में स्कूल खोले थे। हरियाणा ने भी 2 अगस्त से 9-12वीं तक के छात्रों को स्कूल बुलाना शुरू किया था।

गौरतलब है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा भी बार-बार कहा गया है कि अभी दूसरी लहर भी पूरी तरह ख़त्म नहीं हुई है, ऐसे में राज्य सरकारों द्वारा सतर्कता बरतनी चाहिए। देश में केरल, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु समेत अन्य जगहों से लगातार केसों के बढ़ने की ख़बरें आ रही हैं। भारत में अभी भी क़रीब चार लाख कोरोना के एक्टिव केस हैं।

Leave a Comment