हाईली सेंसेटिव जोन में 20 मिनट फंसे रहे मोदी, इसी एरिया में हो चुका है ब्लास्ट

The News Air –देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का काफिला बुधवार को तकरीबन 20 मिनट तक बेहद असुरक्षित एरिया में खड़ा रहा। पंजाब में फिरोजपुर जिले के अंदर मुदकी के पास नेशनल हाईवे पर जिस जगह PM को रुकना पड़ा, वह हाईली सेंसेटिव जोन है। यहां से इंडो-पाक इंटरनेशनल बॉर्डर महज 49 किलोमीटर दूर है और इस एरिया में लगातार टिफिन बम और अन्य विस्फोटक पदार्थ मिलते रहे हैं। ऐसे में प्रधानमंत्री की विजिट के मद्देनजर पंजाब पुलिस को जिस तरह के इंतजाम करने चाहिए थे, ग्राउंड पर वह नजर नहीं आए।

यह भी पढ़ें- PM मोदी की सुरक्षा में हुई चूक को लेकर CM चन्नी का आया पहला बयान, ऐन मौक़े पर..

भारत-पाकिस्तान इंटरनेशनल बॉर्डर के नजदीक बसे होने की वजह से फिरोजपुर पंजाब का बेहद संवेदनशील जिला है। यहां प्रधानमंत्री की रैली का ऐलान लगभग डेढ़ हफ्ते पहले हो गया था। दूसरी तरफ लुधियाना और पठानकोट में हाल में हुए बम धमाकों के बाद पूरा पंजाब हाई अलर्ट पर है। जिस जलालाबाद कस्बे में 15 सितंबर 2021 में ब्लास्ट हुआ, वह भी फिरोजपुर के नजदीक है और NIA की जांच में साफ हो चुका है कि वह आतंकी हमला था।

इसी एरिया में टिफिन बम की डिलीवरी

जलालाबाद ब्लास्ट के बाद NIA द्वारा टिफिन बम सप्लाई करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया गुरमुख सिंह रोडे इसी एरिया में पड़ते मोगा जिले के रोडे गांव का रहने वाला है, जो जरनैल सिंह भिंडरावाले की जन्मस्थली है। भिंडरावाले का भतीजा और लंबे समय से पाकिस्तान में शरण लेकर बैठा खालिस्तान की हिमायत करने वाल लखबीर सिंह रोडे भी इसी इलाके का है।

लखबीर सिंह रोडे ने ही गुरमुख के जरिये बॉर्डर पार से टिफिन बम की डिलीवरी की थी। केंद्रीय एजेंसियों के सामने गुरमुख ने स्वीकार किया था कि एक-दो टिफिन बम की डिलीवरी फिरोजपुर सेक्टर में हुई है। ऐसे में PM की रैली की सूचना के बाद पंजाब पुलिस के पास तैयारियों के लिए पर्याप्त समय था, मगर उसका काउंटर इंटेलीजेंस विभाग और दूसरा खुफिया तंत्र पूरी तरह फेल रहा।

यह भी पढ़ें-Narendra Modi Security चूक या साज़िश, सोशल मीडिया पर पहले से…; सिर्फ़ पंजाब पुलिस को पता था रूट

पीएम मोदी की सुरक्षा चूक पर CM की दो टूक:प्रधानमंत्री पर कोई हमला नहीं हुआ; शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों पर गोली नहीं चला सकता

पंजाब पुलिस ने जो रूट सुझाया, उसी पर चूक

बठिंडा एयरपोर्ट पर उतरने के बाद प्रधानमंत्री को पहले हेलिकॉप्टर से फिरोजपुर पहुंचना था। चूंकि बुधवार सुबह से मौसम खराब होने के कारण हेलिकॉप्टर उड़ान नहीं भर सकता था, ऐसे में प्रधानमंत्री की सुरक्षा का जिम्मा संभालने वाले स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (SPG) को बाय रोड फिरोजपुर पहुंचने का यह रूट पंजाब पुलिस ने ही सुझाया। पंजाब पुलिस ने इस रूट को सुरक्षित बताया मगर इसी पर बड़ी चूक हो गई।

यह भी पढ़ें-PHOTOS…पंजाब में मोदी को लेकर मचा बवाल, जमकर बरसी लाठियां, फुटे सिर, हाईवे पर खड़े रहे PM

पंजाब पुलिस ने की थी रिहर्सल

बठिंडा एयरपोर्ट पर उतरने के बाद प्रधानमंत्री सड़क के रास्ते फिरोजपुर के लिए रवाना हुए। उनका काफिला बठिंडा-फिरोजपुर फोरलेन से होते हुए निकला। एसपीजी प्रोटोकॉल के तहत प्रधानमंत्री के आने-जाने के लिए जो रूट इस्तेमाल किया जाता है, उस रास्ते की हर तरह से जांच की जाती है। पंजाब पुलिस ने भी मंगलवार को बठिंडा-फिरोजपुर फोरलेन पर प्रधानमंत्री के काफिले को लेकर रिहर्सल की गई थी। तब सबकुछ सही रहा।

सुबह सबकुछ ठीक, 12 बजे के बाद गड़बड़ी

पंजाब सरकार का दावा है कि प्रधानमंत्री की सुरक्षा में 10 हजार पुलिस मुलाजिम लगाए गए। पंजाब पुलिस ने बुधवार सुबह भी बठिंडा-फिरोजपुर फोरलेन को चेक किया और सुबह 7 बजे से 9 बजे तक हाईवे पर कहीं कोई रुकावट नहीं थी। दोपहर 12 बजे के बाद अचानक चीजें बिगड़ती चली गईं और किसान संगठनों के सदस्य और शरारती तत्व हाईवे तक पहुंचने में कामयाब हो गए। इस दौरान पंजाब पुलिस का इंटेलीजेंस पूरी तरह फेल साबित हुआ।

यह भी पढ़ें-20 मिनट तक यूँ फंसा रहा PM Modi का क़ाफिला, CM चन्नी ने नहीं उठाया फ़ोन!, पंजाब पुलिस से..

प्रधानमंत्री के सुरक्षा दस्ते ने ही निर्णय लिया था सड़क के रास्ते फिरोजपुर जाने का फैसला लिया गया। प्रधानमंत्री के खतरे वाली कोई बात नहीं हुई है और न ही कोई हमला हुआ है। अचानक ही लोग सड़क पर आकर बैठे थे।

सुबह सबकुछ ठीक, 12 बजे के बाद गड़बड़ी

पंजाब सरकार का दावा है कि प्रधानमंत्री की सुरक्षा में 10 हजार पुलिस मुलाजिम लगाए गए। पंजाब पुलिस ने बुधवार सुबह भी बठिंडा-फिरोजपुर फोरलेन को चेक किया और सुबह 7 बजे से 9 बजे तक हाईवे पर कहीं कोई रुकावट नहीं थी। दोपहर 12 बजे के बाद अचानक चीजें बिगड़ती चली गईं और किसान संगठनों के सदस्य और शरारती तत्व हाईवे तक पहुंचने में कामयाब हो गए। इस दौरान पंजाब पुलिस का इंटेलीजेंस पूरी तरह फेल साबित हुआ।

यह भी पढ़ें-मोदी अफ़सरों से बोले- मैं एयरपोर्ट तक जिन्दा पहुंच पाया, इसके लिए अपने CM को थैंक्स कहना

प्रधानमंत्री के सुरक्षा दस्ते ने ही निर्णय लिया था सड़क के रास्ते फिरोजपुर जाने का फैसला लिया गया। प्रधानमंत्री के खतरे वाली कोई बात नहीं हुई है और न ही कोई हमला हुआ है। अचानक ही लोग सड़क पर आकर बैठे थे।

Leave a Comment