Malik Vs Wankhede: मलिक ने कहा, देखते हैं कौन वानखेड़े की कोठरी से कंकाल निकालता है

मुंबई, 6 नवंबर (The News Air)
बॉलीवुड एक्टर शाहरूख ख़ान (Shahrukh Khan) के बेटे आर्यन ख़ान से जुड़े ड्रग्स केस (Aryan Khan Drugs Case) को लेकर एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े (Sameer Wankhede) और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक (Nawab Malik) आमने-सामने हैं। मलिक लगातार वानखेड़े की कार्यशैली को कठघरे में खड़ा कर रहे हैं। कुछ घंटे पहले समीर वानखेड़े को आर्यन ड्रग्स केस और नवाब मलिक के दामाद से जुड़े मामले की जांच से हटा दिया गया है। इसके बाद मलिक फिर सामने आए और समीर वानखेड़े पर हमला बोला और देश को गुमराह करने का आरोप लगाया। मलिक ने ये भी कहा कि जल्द ही दो एसआईटी (केंद्र और राज्य) वानखेड़े का सच सामने लाएंगे।

दरअसल, समीर वानखेड़े ने कहा है कि उन्होंने ख़ुद इस केस (आर्यन ख़ान ड्रग्स केस) से हटने की मांग की थी। वानखेड़े का कहना था कि उन्होंने बाक़ायदा कोर्ट में एक याचिका दायर की थी, उस याचिका में कहा गया था कि इस मामले को दिल्ली एनसीबी को सौंप दिया जाए। वानखेड़े ने कहा है कि मैं मुंबई ज़ोन का डायरेक्टर हूं और रहूंगा।

मलिक बोले- गुमराह कर रहे वानखेड़े

वानखेड़े के इस बयान को नवाब मलिक ने झूठा क़रार दिया। उन्होंने ट्वीट कर कहा है कि या तो एएनआई (न्यूज़ एजेंसी) समीर वानखेड़े को ग़लत तरीक़े से कोट कर रहा या फिर समीर वानखेड़े देश को गुमराह कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि समीर वानखेड़े की ओर से अदालत में याचिका दायर कर ये कहा गया था कि उनके ख़िलाफ़ ज़बरन वसूली और भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) या राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की ओर से की जानी चाहिए। वानखेड़े की तरफ़ से कोर्ट में ये भी कहा गया था कि उनके ख़िलाफ़ आरोप की जांच किसी केंद्रीय एजेंसी से कराई जाए, मुंबई पुलिस से नहीं। उन्होंने बताया कि कोर्ट ने समीर वानखेड़े की ये याचिका खारिज कर दी थी। नवाब मलिक ने आगे लिखा है कि देश को सच्चाई पता होनी चाहिए।

वानखेड़े ने कहा था- मुझे जांच से नहीं हटाया गया

नवाब मलिक ने ये प्रतिक्रिया एएनआई के उस ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए दी है, जिसमें आर्यन और समीर ख़ान के ड्रग्स केस से हटाए जाने को लेकर समीर वानखेड़े ने कहा कि मुझे जांच से हटाया नहीं गया है। उन्होंने दावा किया था कि कोर्ट में याचिका दायर कर मामले की जांच किसी केंद्रीय एजेंसी से कराने की मांग की थी, इसीलिए इन मामलों की जांच दिल्ली एनसीबी की एसआईटी करेगी।

देखते हैं कौन वानखेड़े को बेनक़ाब करता है

मलिक ने ये भी कहा- मैंने समीर वानखेड़े पर आर्यन ख़ान के अपहरण और फिरौती मांगने के आरोप में एसआईटी जांच की मांग की थी। अब केंद्र और राज्य द्वारा दो एसआईटी का गठन किया है। देखते हैं कौन वानखेड़े की कोठरी से कंकाल निकालता है और उन्हें और उनकी नापाक निजी सेना को बेनक़ाब करता है।

वानखेड़े को केस से हटाए जाने पर मलिक ने ये कहा था

बता दें कि आर्यन ख़ान ड्रग्स केस मामले में अब मुंबई एनसीबी जांच नहीं करेगी। इसके अलावा नवाब मलिक के दामाद के ख़िलाफ़ चलने वाले मामले की भी जांच मुंबई ज़ोन की एनसीबी नहीं करेगी। मुंबई ज़ोन से आर्यन समेत 6 केस वापस लिए गए। दिल्ली एनसीबी की एक टीम इस फ़ैसले के बाद शनिवार को मुंबई पहुंचेगी और जांच शुरू करेगी। कहा जा रहा है कि आर्यन केस के दौरान समीर वानखेड़े पर कई तरह के गंभीर आरोप लगे हैं। एक गवाह ने वसूली वाली बात भी कही है, ऐसे में अभी के लिए उनसे ये मामले वापस ले लिए गए हैं और संजय सिंह इस जांच को आगे बढ़ाने वाले हैं। इस फ़ैसले के बीच मंत्री मलिक ने तंज़ कसा और कहा था कि अभी ये सिर्फ़ शुरुआत है, सिस्टम को जड़ से साफ़ करने की ज़रूरत है। उन्होंने ट्वीट कर बताया था कि समीर वानखेड़े को पांच केस से हटाया गया। अभी 26 और मामलों की जांच होनी है।

Leave a Comment