जानिए इतिहास क्या कहता है, नंदी भी बता रहे मंदिर की दिशा, औरंगजेब ने मंदिर तुड़वा..

The News Air: धरती पर कहीं भी मस्जिद का नाम संस्कृत में नहीं है। तब, संस्कृत नाम ‘ज्ञानवापी’ को मस्जिद कैसे मान सकते हैं? यह मंदिर है और इसके ऐतिहासिक तथ्य उन क़िताबों में भी हैं, जिन्हें मुस्लिम आक्रांता अपनी कट्‌टरता और बहादुरी दिखाने के लिए ख़ुद दर्ज़ भी कराते थे।
1194 से प्रयास करते-करते आख़िरकार 1669 में ज्ञानवापी मंदिर को मस्जिद का रूप दिया गया और हर प्रयास, हर आक्रमण और मुस्लिम आक्रांताओं की हर कथित उपलब्धि इतिहास की क़िताबों में दर्ज़ है। यहां तक कि ‘मसीरे आलमगीरी’ में औरंगजेब के समकालीन इतिहासकार साकिद मुस्तयिक खाँ ने आंखो देखी लिखी है- ‘​​​औरंगजेब ने विश्वनाथ मंदिर को तोड़कर मस्जिद बना इस्लाम की विजय पताका फहरा दी।’
हिंदुओं का प्रसिद्ध धर्मस्थल काशी मुस्लिम आक्रांताओं के हमेशा निशाने पर रहा। 1194 में मोहम्मद गोरी ने मंदिर को तोड़ा भी था, लेकिन फिर काशी वालों ने ख़ुद ही उसका जीर्णोद्धार कर लिया। फिर, 1447 में जौनपुर के सुल्तान महमूद शाह ने तोड़ दिया। क़रीब डेढ़ सौ साल बाद 1585 में राजा टोडरमल ने अक़बर के समय उसे दोबारा बनवा दिया।
1632 में शाहजहाँ ने भी मंदिर तोड़ने के लिए सेना भेजी, लेकिन हिंदुओं के विरोध के कारण वह असफल रहा। उसकी सेना ने काशी के अन्य 63 मंदिरों को जरुर तहस नहस कर दिया। औरंगजेब ने 8-9 अप्रैल 1669 को अपने सूबेदार अबुल हसन को काशी का मंदिर तोड़ने भेजा। सितंबर 1669 को अबुल हसन ने औरंगजेब को पत्र लिखा- ‘मंदिर को तोड़ दिया गया है और उस पर मस्जिद बना दी गई है।’

काशी का नाम औरंगाबाद भी रखा गया था

औरंगजेब ने काशी का नाम औरंगाबाद भी कर दिया था। कथित ज्ञानवापी मस्जिद उसी के समय की देन है। मंदिर को जल्दी-जल्दी में तोड़ने के क्रम में उसी के गुंबद को मस्जिद के गुंबद जैसा बना दिया गया। नंदी वहीं रह गए। शिव के अरघे और शिवलिंग भी आक्रांता नहीं तोड़ सके। 1752 में मराठा सरदार दत्ता जी सिंधिया और मल्हार राव होलकर ने मंदिर मुक्ति का प्रयास किया, लेकिन हल नहीं निकला। 1835 में महाराजा रणजीत सिंह ने प्रयास किया तो उनकी लड़ाई को दंगे का नाम दे दिया गया।

मस्जिद है तो दीवारों पर देवी-देवताओं के चित्र क्यों?

इसके अलावा, दो और चीज़ें स्थापित तथ्य हैं, जैसे- पहला ये कि नंदी महाराज का मुख किसी भी शिवालय में शिवलिंग की ओर रहता है। दूसरा ये कि मंदिर की दीवारों पर देवी-देवताओं के चिह्न होते हैं और मस्जिदों पर चित्रकारी करना जायज़ नहीं है। अब देखिए कि नंदी महाराज का मुंह उसी ओर है, जिस ओर अभी यह कथित ज्ञानवापी मस्जिद है। इस कथित मस्जिद पर शृंगार गौरी, हनुमान जी समेत तमाम देवी-देवताओं के चित्र हैं। इसके तहख़ाने में अब भी कई शिवलिंग हैं, जिन्हें आक्रांता तोड़ नहीं सके। रंग-रोगन से कई अवशेष मिटाए गए, लेकिन वह उभर सकते हैं।

क़ुरान में स्पष्ट हैं ये बातें

क़ुरान में स्पष्ट लिखा है कि विवादित स्थल या जहां मूर्ति पूजा हो, वहाँ नमाज़ नहीं पढ़ना चाहिए; लेकिन मुसलमान सिर्फ़ ज़िद में आकर हिंदुओं के सबसे पवित्र स्थान पर कब्ज़ा करने के लिए नमाज़ पढ़कर अपने ही धर्म का अपमान कर रहे।

विश्वनाथ मंदिर के पश्चिम में शृंगार मंडप है…यही ढांचे के पश्चिम में है।
देवस्य दक्षिणे भागे तत्र वापी शुभोदका। (काशी खंड 97, 120)

इसका मतलब वापी के उत्तर दिशा में भगवान विश्वेश्वर विराजमान हैं।
वर्तमान तथ्य- भूगोल के अनुसार, इस स्थान पर ही अभी मस्जिद है।
काशी विश्वनाथ मंदिर के पूर्व में ज्ञान मंडप, पश्चिम में शृंगार मंडप, उत्तर में ऐश्वर्य मंडप और दक्षिण में मुक्ति मंडप। (शिव रहस्य)
वर्तमान तथ्य- शृंगार मंडप के पास शृंगार गौरी थी, जो वर्तमान में भी ढांचे के पश्चिम द्वार पर दिखाई दे रही है।

प्रसादो Sपि सुरत्नाढ्यो लिङ्गाकारो विराजते।
तन्मूलमग्रभागो वा न केनापि च दृश्यते ।।
प्रासाददिव्यरत्नानि रात्रौ दीप इवाम्बिके।
तिष्ठन्त्यत्यन्तरम्याणि नेत्रोत्सवकराणि च।।
सहस्रं रत्नशृंगाणां राजते तत्र सर्वदा।
लिंगाकाराणि शृंगाणि शुद्धान्यप्रतिमानि च।।
(शिवरहस्य, सप्तम अंश, सप्तम अध्याय 5, 7, 9)

इसका मतलब यह मंदिर समस्त रत्नों से युक्त और लिंगाकार में था। इस मंदिर का मूल और शिखर जल्दी दिखाई नहीं दे पाता था, क्योंकि यह बहुत ऊंचा था। इसमें दिव्य रत्न रखे हुए थे, जो रात में प्रकाश करते थे। हज़ारों रत्नों के लिंगाकार शिखर दिखाई देते थे। अभी ये मूल ढांचे और इस आकृति के वर्णन में स्पष्ट मेल है। हालांकि, धर्म शास्त्रों में लिखा है कि औरंगजेब के समकालीन ने क़िताब में भी लिखा है कि 1707 में औरंगजेब की मौत के बाद 1710 में मुस्तयिक खाँ की ‘मसीरे आलमगीरी’ आई, जिसमें लिखा है- औरंगजेब के आदेश पर आदि विश्वेश्वर का मंदिर तोड़ा गया। इसके अलावा बनारस गजेटियर में भी मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाने की बात लिखी है। ये सब इतिहास के पन्नों में दर्ज़ है।

Leave a Comment